LATEST ARTICLES

Shikara

Shikara : 4 लाख बेघर कश्‍मीरी पंडितों की दर्दनाक कहानी बयां करती फिल्‍म

*संवेदना, निर्माता और निर्देशक विधु विनोद चोपड़ा एक नई फिल्म लेकर आ रहे हैं. फिल्म Shikara 1990 में 4 लाख कश्मीरी पंडितों के साथ हुए अन्याय की कहानी पर आधारित है. विधु विनोद स्वयं कश्मीर की मिट्टी में जन्मे और वहीं पले बढ़े. लेकिन 1990 में कश्मीरी पंडितों (Kashmiri Pandit) के साथ उनके माता-पिता को भी कश्मीर छोड़ना पड़ा था. अपनी मां के घर-बार और जमीन छूट जाने के दर्द को आखिरकार 30 वर्षों बाद विधु विनोद चोपड़ा पर्दे पर ले ही आए. "शिकारा (Shikara)". का ट्रेलर (trailer release) रिलीज हो गया है. फिल्म भी अगले माह ही 7 फरवरी को रिलीज होने वाली है. ट्रेलर की शुरुआत एक जोड़े शांति धर और शिव कुमार धर से होती है, जो अपने घर में सुकून से बैठे हैं. तभी शांति की नजर खिड़की से जलते हुए घरों पर पड़ती है. इसी के साथ कश्‍मीर से कश्‍मीरी पंडितों को खदेड़कर निकालने की ये दास्‍तां शुरू हो जाती है. ये ट्रेलर अपने ही देश में शरणार्थी बने लोगों की कहानी पूरी भावनाओं के साथ दर्शकों तक पहुंचाता लग रहा है. आप भी देखें यह ट्रेलर-   https://youtu.be/LoZXboySl2I विधु विनोद चोपड़ा बता चुके हैं कि शिकारा के फिल्मांकन में उन चार सौ बेघर कश्मीरी पंडितों ने भी सहयोग किया है, जो जम्मू की शरणार्थी शिविरों में रह रहे हैं. फिल्म का अधिकतर हिस्सा कश्मीर में ही फिल्माया गया है. इसमें स्थानीय मुस्लिम नागरिकों ने भी फिल्म को अधिक विश्वसनीय बनाने में सहयोग किया है. शिकारा के ट्रेलर की शुरुआत होती है एक शेर से - "कुछ न होने का दुख जरा सा लगे, तेरे होने से घर भरा सा लगे". इससे लगा कि यह भी मात्र एक love story है, जिसमें घर-परिवार खुशियां दिख रही हैं. लेकिन अचानक खुशियों के आशियाने जलते हुए दिखाई दिए. फिल्म का ट्रेलर बोलता कम और दिखाता ज्यादा है, कि किस तरह करीब चार लाख कश्मीरी पंडित अपने ही देश में बेघर कर दिए गए थे. उनपर क्या-क्या बीती. फिल्म Shikara में कोशिश की गई है कि दर्शक 2020 से 30 साल पीछे चले जाएं. फिल्म में 1990 के असल फुटेज का इस्तेमाल किया गया है, जो इसे सच्चाई के और भी करीब ले आता है. अब तक खबरों के माध्यम से कश्मीरी पंडितों के विस्थापन के बारे में जो भी कुछ सुना उसे पहली बार पर्दे पर देखना अंदर तक चोट करता है. विधु विनोद की जड़ें कश्मीर से जुड़ी हैं. इसीलिए उनके साथ और उनके परिवार पर जो गुजरी, उसे उनसे बेहतर और कौन महसूस कर सकता था. उनके लिए इस दर्दनाक वाकये को रुपहले पर्दे के माध्यम से देश के सामने लाना लाजिमी ही था. कश्मीरी पंडित, जो 30 साल बाद भी अपने हक के लिए लड़ रहे हैं, उनकी सच्चाई को पर्दे पर दिखाने की हिम्मत किसी भी बड़े निर्माता या निर्देशक ने इतने वर्षों में नहीं की थी. कश्मीर के आतंक को फिल्मों में जितना दिखाया गया, उसका लेस मात्र भी कभी कश्मीरी पंडितों के दर्द को नहीं दिखाया. कश्मीर को लेकर विधु विनोद चोपड़ा ने 20 साल पहले ऋतिक रोशन को लेकर 'मिशन कश्मीर' (2000) बनाई थी,...
MNS

MNS : नया झंडा, और पुत्र अमित को लॉन्च किया राज ने

मुंबई : महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना (MNS) प्रमुख राज ठाकरे ने गुरुवार, 23 जनवरी को पार्टी के पहले महाधिवेशन में न केवल पार्टी का नया भगवा झंडा, बल्कि अपने पुत्र अमित ठाकरे को भी लॉन्च किया. वीर सावरकर और हिंदुत्व जैसे मुद्दों को लेकर बैकफुट पर गई शिवसेना को कड़ी टक्कर देने की राज ठाकरे ने मंशा भी जता दी. शिवसेना के संस्थापक स्व. बालासाहेब ठाकरे की जयंती के मौके पर MNS के पूरे दिन चलने वाले इस महाधिवेशन में ठाकरे अपनी पत्नी शर्मिला और बेटे अमित ठाकरे के साथ पहुंचे. महाधिवेशन मुंबई के गोरेगांव में चल रहा है. राज ने अपने बेटे अमित को भी अधिवेशन में लॉन्च कर महाराष्ट्र की भावी राजनीति में अपनी पार्टी की भूमिका भी स्पष्ट कर दिया है. संकेत साफ है कि शिवसेना पमुख एवं मुख्यमंत्री उद्धव के बेटे और राज्य सरकार में मंत्री आदित्य ठाकरे को टक्कर देने की उन्होंने पूरी तैयारी कर ली है. Mumbai: Maharashtra Navnirman Sena (MNS) chief Raj Thackeray's son Amit Thackeray has been inducted into the party today. pic.twitter.com/79QQjCuull— ANI (@ANI) January 23, 2020 मंच पर लगी सावरकर, आंबेडकर की फोटो पिछले ही वर्ष 2019 के विधानसभा चुनाव में लगभग साफ हो चुकी MNS ने अपने महाधिवेशन में मंच पर विनायक दामोदर सावरकर की फोटो लगाई है. राजनीति के जानकार मान रहे हैं कि जिन मुद्दों को लेकर पहले शिवसेना की पहचान थी, कांग्रेस से गठबंधन के बाद जिन मामलों पर वह कमजोर पड़ती दिख रही है, उन्हीं मुद्दों को उठाकर MNS फिर से खुद को खड़ा करने की कोशिश में लगी है. जानकारों का कहना है कि MNS की कोशिश है कि शिवसेना से जुड़े कोर कार्यकर्ताओं को इन मुद्दों के सहारे अपने साथ लाया जाए. सावरकर के अलावा MNS के मंच पर शिवाजी की मूर्ति, भीमराव आंबेडकर की तस्वीर के अलावा सावित्री बाई फुले की तस्वीर भी लगाई गई है. MNS का नया झंडा भी है खास महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना का नया झंडा पूरी तरह से न सिर्फ भगवा रंग का है, बल्कि इस झंडे पर छत्रपति शिवाजी के समय की राजमुद्रा भी प्रदर्शित की गई है. उल्लेखनीय है कि 6 जून 1674 का राजगढ़ में राज्याभिषेक के बाद शिवाजी ने खुद यह राजमुद्रा तैयार की थी. इस राजमुद्रा पर संस्कृत में लिखा था, "प्रतिपच्चंद्रलेखेव वर्धिष्णुर्विश्ववंदिता शाहसुनोः शिवस्यैषा मुद्रा भद्राय राजते".  इसका अर्थ है- 'शाहजी के पुत्र शिवाजी की इस मुद्रा की महिमा उसी तरह से बढ़ेगी, जैसे पहले दिन (शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा के बाद) से चांद बढ़ता है. यह दुनिया द्वारा पूजी जाएगी और यह केवल लोगों की भलाई के लिए चमकेगी.' गौरतलब है कि इससे पहले MNS का झंडा नीला, सफेद, केसरिया और हरे रंग का होता था. भाजपा के साथ गठबंधन की चर्चा राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़णवीस से मुलाकात कर राज ठाकरे ने भारतीय जनता पार्टी के साथ गठबंधन की चर्चा को भी हवा दे दी है. इसके साथ ही राज ठाकरे ने संकेत दे दिया था कि उनकी पार्टी एक नई पहचान और एक नई विचारधारा के साथ खुद को मजबूत करेगी. MNS के एक वरिष्ठ नेता ने बताया कि हमारी पार्टी...
घुड़सवार

मुंबई की हिफाजत के लिए अब नया इंतजाम

घुड़सवार दस्ते 88 वर्षों बाद आर्थिक राजधानी में फिर लगाएंगे गश्त मुंबई : देश की आर्थिक राजधानी की हिफाजत अब एक बार फिर करेंगे घुड़सवार दस्ते. महाराष्ट्र पुलिस को शीघ्र ही घुड़सवार यूनिट (mounted unit) मिलने जा रही है. मुंबई में ट्रैफिक कंट्रोल करने से लेकर अपराध पर लगाम लगाने में इसका इस्तेमाल किया जाएगा. आजादी के बाद ऐसा पहली बार होने जा रहा है, जब मुंबई की गलियां और सड़कें घुड़सवार पुलिस के हवाले होंगी. 88 साल पूर्व मुंबई की गलियों में घुड़सवार दस्ते पेट्रोलिंग (गश्त) किया करते थे. 26 जनवरी से लग जाएंगे ड्यूटी पर शिवाजी पार्क में 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस की परेड के बाद घोड़ों को ड्यूटी पर तैनात कर दिया जाएगा. घुड़सवार पुलिस प्रणाली व्यवस्था का कई मौकों पर इस्तेमाल किया जाएगा. भीड़ नियंत्रित करने, त्यौहारों में शांति बनाए रखने, विरोध प्रदर्शनों के दौरान, समुद्र के किनारों पर घोड़े पर सवार पुलिसकर्मी नजर आएंगे. नागपुर और पुणे में भी होंगे तैनात  महाराष्ट्र के गृहमंत्री अनिल देशमुख ने बताया कि इसके बाद नागपुर और पुणे जैसे शहरों में सुरक्षा के लिए घुड़सवार पुलिस प्रणाली की व्यवस्था को दोहराया जाएगा. इन शहरों में भी सुरक्षा के लिए घुड़सवार पुलिस की तैनाती की जाएगी. उन्होंने कहा कि पुलिस के पास आधुनिक जीप और मोटरगाड़ी होते हुए भी इसकी जरुरत महसूस की जा रही थी. 1932 में हटा लिया गया था जी हां, आजादी से पहले मुंबई की गलियों की पेट्रोलिंग घुड़सवार टीम ही किया करती थी. मगर 1932 में वाहनों की भीड़ के चलते घोड़े पर सवार होकर पेट्रोलिंग की व्यवस्था को हटा दिया गया. अब आजादी के बाद पहली बार मुंबई की पुलिस घोड़ों पर निगरानी करती नजर आएगी. हो चुकी है 13 घोड़ों की खरीदारी गृहमंत्री देशमुख ने बताया कि वर्तमान में 13 घोड़ों की खरीदारी हो चुकी है. बाकी बचे घोड़ों को अगले छह महीने में खरीद कर यूनिट में शामिल कर लिया जाएगा. 30 घोड़े, एक सब इंस्पेक्टर, एक असिस्टेंट इंस्पेक्टर और चार हवालदार के अलावा 32 कांस्टेबल यूनिट में शामिल होंगे. अंधेरी में बनेगा अस्तबल देशमुख ने बताया कि घोड़ों को रखने के लिए अंधेरी इलाके में ढाई एकड़ पर अस्तबल का निर्माण कराया जाएगा. जिसमें स्वीमिंग पूल, राइडिंग क्लब, ट्रेनर रूम होंगे. दस्ते के पुलिस अधिकारियों और घुड़सवारों के आवास भी वहीं बनेंगे. 
झुंड

महानायक के ‘झुंड’ के वीडियो टीजर के साथ रिलीज डेट का भी ऐलान

बॉलीवुड के महानायक अमिताभ बच्चन की बहुप्रतीक्षित फिल्म 'झुंड (Jhund)' का वीडियो टीजर आज मंगलवार को जारी किया. 1 मिनट 12 सेकेंड का यह वीडियो काफी मजेदार है. वीडियो की शुरुआत ही अमिताभ बच्चन की आवाज से होती है. बैकग्राउंड से अमिताभ बच्चन की अवाज आती है कि 'झुंड नहीं कहिए सर, टीम कहिए...' इसके बाद सामने आता है (नागपुर के महात्मा ज्योतिबा फुले मार्केट के भीतर) एक बच्चों का झुंड, जिनके हाथों में होता है बल्ला, चेन और डंडा. फिल्म के इस वीडियो टीजर को देखने के बाद आपको पूरी फिल्म देखने की इच्छा होने लगेगी. https://youtu.be/45lj-bGVOHE रिलीज डेट का भी ऐलान   'झुंड' के इस वीडियो टीजर के साथ फिल्म की रिलीज डेट का भी ऐलान कर दिया गया है. यह फिल्म इसी साल 8 मई को सिनेमाघरों में दस्तक देगी. मराठी सिनेमा के मशहूर डायरेक्टर नागराज मंजुले द्वारा निर्देशत इस फिल्म में बिग बी एक आदिवासी शिक्षक बने हैं. इसके पहले भी अमिताभ बच्चन फिल्म 'मोहब्बतें', 'आरक्षण' और 'ब्लैक' में टीचर का रोल अदा कर चुके हैं. उम्मीद हैं कि बिग बी और नागराज की ये जोड़ी पहली बार लोगों को पैसा वसूल एंटरटेनमेंट परोसेगी.   T 3415 - JHUND ... झुंड !! ... JHUND ... झुंड !!#Jhund@Nagrajmanjule @itsBhushanKumar #KrishanKumar #RaajHiremath #SavitaRajHiremath #GargeeKulkarni #MeenuAroraa @AjayAtulOnline @tandavfilms @aatpaat @TSeries pic.twitter.com/4iTXi6mkc1— Amitabh Bachchan (@SrBachchan) January 20, 2020 सोमवार को जारी हुआ पोस्टर  सोमवार को फिल्म का फर्स्ट लुक जारी किया गया था, जिसमें अमिताभ बच्चन को पीछे से दिखाया गया है. पोस्टर में वह किसी मैदन के पास खड़े हैं और उनके ठीक सामने एक बाउंड्री है, उनके बाएं साइड नीचे एक फुटबॉल रखा है और दाहिने तरफ एक टूटी फूटी गाड़ी नजर आ रही है. कहानी, नागपुर के फुटबॉल कोच की इस फिल्म के कुछ महत्व के दृश्य की शूटिंग नागपुर में हुई है. फिल्म की कहानी भी नागपुर के रहने वाले फुटबॉल कोच विजय बरसे के जीवन पर आधारित है. जिन्होंने झुग्गी में रहने वाले बच्चों को प्रेरित करते हुए फुटबॉल की ट्रेनिंग दी और 'स्लम सॉकर' नाम की टीम बनाकर उनके सपनों को पूरा किया. इस फिल्म के प्रोड्यूसर नागराज पोपटराव मंजुले, गार्गी कुलकर्णी, मीनू अरोरा, सविता राज हिरेमथ, राज हिरेमथ, भूषण कुमार और कृष्ण कुमार हैं.
मधुरिमा

मेगा शो ‘बिग बॉस’ में हद से ज्यादा हो रहा हंगामा

मधुरिमा ने विशाल पर लगाया शो के पहले पीटने का आरोप *जीवंत के. शरण, इंटरटेनमेंट चैनल 'कलर्स' के मेगा शो 'बिग बॉस' में मधुरिमा तुली ने पहले चप्पल से और कुछ अंतराल के बाद किचेन में फ्राई पैन से विशाल आदित्य सिंह की पिटाई न सिर्फ बिग बॉस की नजरों के सामने कर दी, बल्कि लगातार उनके मना करने के बाद भी अशोभनीय हंगामा किया. दंड स्वरूप मधुरिमा को शो से बाहर का रास्ता दिखा दिया गया.   बिग बॉस में यह कोई पहली घटना नहीं थी. इससे पहले भी घर में तकरीबन सभी कंटेस्टेंट गाली-गलौज के साथ धक्का-मुक्की भी कर चुके हैं. इस तेरहवें सीजन में एक बात तो स्पष्ट हो गया है कि किसी को भी बिग बॉस का खौफ नहीं है. उनके बारम्बार शांत रहने और घर के सामानों को नुकसान नहीं पहुंचाने के अनुरोध को बेखौफ नजरअंदाज करते हुए अभी भी देखा जा सकता है. बिग बॉस के घर में एक कंटेस्टेंट सेर है, तो दूसरा सवा सेर. सिद्धार्थ शुक्ला और आसिम रियाज को बेहद गंदगी के साथ रायता फैलाते हुए देखा जा सकता है, जब कि सलमान खान इन दोनों को अपने तरीके से समझा चुके हैं. कुछ समय तक शांत रहने के बाद दोनों फिर असभ्य तरीके से झगड़ने लगे हैं. आसिम तो पर्दे का नया खिलाड़ी है, लेकिन सिद्धार्थ शुक्ला न अपनी वरिष्ठता का ख्याल रखते हैं और न ही इमेज का. शुक्ला तो बहुत गंदे तरीके से रश्मि देसाई के साथ भी उलझ चुके हैं. शो की मर्यादा बची है सिर्फ सलमान खान के कारण. सप्ताह के अंत में वे आएंगे और खिंचाई करेंगे, बस इतना सा ही डर बल्कि लिहाज करने का प्रयास होता है. फिलहाल यह शो रेटिंग में एक नंबर पर चल रहा है. इसका श्रेय काफी हद तक सलमान खान को ही जाता है, वर्ना इस बार प्रतिभागियों की हरकतें ऐसी हैं कि शायद अति हिंसा और अश्लीलता के कारण बीच में ही बंद कर देना पड़ता.  मधुरिमा और विशाल इससे पहले भी 'नच बलिए' में अपने नृत्य के साथ गाली-गलौज के लिए चर्चित हो चुके हैं. दोनों एक-दूजे के प्यार में भी रह चुके हैं, बल्कि दोनों ने अलग-अलग कैमरे के सामने अपने प्यार को कबूल भी किया है. बावजूद इसके बिग बॉस की नजरों के सामने अनेक बार गाली-गलौज के साथ रोमांस करते हुए कैमरे में कैद हुए हैं.  अब मधुरिमा ने बाहर आने के बाद बताया है, "विशाल भी शो के पहले मुझे कई बार मार चुका है, लेकिन मैं उसे नजरअंदाज करती रही. घर के अंदर विशाल किसी-न-किसी बात को लेकर मुझे नीचा दिखाने की कोशिश करता था. वह लगातार उकसाता था. कोई हर बार इग्नोर नहीं कर सकता है और अंत बुरा हुआ. मैं बाहर आ गई." अब इस आरोप-प्रत्यारोप से दोनों का सार्वजनिक रूप से तमाशा बन चुका है. वैसे अब भी देर नहीं हुई है, क्योंकि दोनों के दिल में प्यार का अंकुर शेष है. बेहतर होगा एक-दूसरे का सम्मान भी करना शुरू कर दें या हमेशा के लिए अलग हो जाएं. क्योंकि जिंदगी मिलेगी न दोबारा.  मधुरिमा कन्नड़, तेलगु और हिंदी की फिल्मों में काम कर चुकी है. धारावाहिक 'कुमकुम भाग्य'...
सिंधी सेवा

सिंधी सेवा संगम में आयुर्वेद आयुष के राष्ट्रीय प्रमुख बने डॉ. ममतानी

नागपुर : नागपुर के सुप्रसिद्ध आयुर्वेद चिकित्सक डॉ. गुरमुख ममतानी सिंधी समाज के सर्वोच्च संगठन विश्व सिंधी सेवा संगम के राष्ट्रीय आयुष (आयुर्वेद, योगा, नेचरोपैथी, यूनानी और होमियोपैथी) के प्रमुख नियुक्त किए गए हैं. विश्व सिंधी सेवा संगम, महाराष्ट्र के अध्यक्ष प्रताप मोटवानी ने डॉ. गुरमुख ममतानी की नियुक्ति की घोषणा कर उन्हें नियुक्ति पत्र प्रदान किया. इस अवसर पर कलगीधर सत्संग मंडल जरीफटका में रविवार को वकील साहब और मोटवानी ने डॉ. ममतानी को उनकी पत्नी डॉ. अंजू ममतानी के साथ स्मृति चिह्न देकर सम्मानित किया. डॉ. गुरुमुख ममतानी ने कहा कि वे विश्व सिंधी सेवा संघटन के माध्यम से पूरे देश में आयुर्वेदिक शिविरों का आयोजन कर आयुष का देश में प्रचार कर पूरी तरह सहयोग प्रदान करेंगे. इस अवसर पर मोटवानी ने बताया कि विश्व सिंधी सेवा संगम की विदेशों में करीब 28 स्थानों और देश के 26 राज्यो में शाखाएं है. संस्थापक दादा गोपाल सजनानी और अंतराष्ट्रीय अध्यक्ष लायन डॉ. राजू मनवानी के कुशल मार्गदर्शन में सिंधी समाज का यह संगठन पूरे विश्व का सबसे बड़ा संग़ठन है. उन्होंने बताया कि विश्व सिंधी सेवा संगम का प्रमुख उद्देश्य देश-विदेश के सिंधी समाज को एकजुट करना, सिन्धियत को बढ़ावा देना, सिंधी परिवारों में सिंधी भाषा में बातचीत को बढ़ावा देना, सिंधियों को राजनीतिक अधिकारों दिलाने के लिए प्रयास करना और सिंधी समाज से जुडी सभी समस्याओ का निवारण करना है. इसके साथ सिंधी छात्रों को छात्रवृत्ति दिलवाना, सिंधी सांस्कृतिक आयोजन करना, सिंधी समाज के सभी पर्व धूमधाम से मनाना, सिंधी संस्कृति का प्रचार करना, जैसे अनेको समाज के हित में यह संस्था कार्य कर रही है. उल्लेखनीय है कि विश्व सिंधी सेवा संगम का तीसरा अंतरराष्ट्रीय सिंधी समाज का महासम्मेलन 3 से 5 जनवरी को पुणे में हुआ. यह सम्मेलन ऐतिहासिक और यादगार रहा. सिंधी समाज के हित में अनेक प्रस्ताव पारित हुए.
गुहा

विध्वंसक : राहुल और कांग्रेस की बखिया उधेड़ी रामचंद्र गुहा ने

सोनिया गांधी और वामपंथी दलों पर भी साधा निशाना कोझिकोड (केरल) : प्रसिद्ध इतिहासकार और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कट्टर आलोचक रामचंद्र गुहा ने एक ओर जहां कांग्रेस और राहुल गांधी पर अत्यंत विध्वंसक टिप्पणियां की हैं, वहीं पीएम मोदी से राहुल की तुलना कर उन्होंने कहा, "राहुल के पास कड़ी मेहनत करने वाले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के सामने कोई मौका नहीं है. केरल ने भारत के लिए कई शानदार चीजें की हैं, लेकिन राहुल को चुनकर विनाशकारी काम किया." केरल लिटरेचर फेस्टिवल के दूसरे दिन शुक्रवार को उन्होंने एक कार्यक्रम में राहुल को पांचवीं पीढ़ी का राजवंशी बताया. आज शनिवार, 18 जनवरी के देश के तमाम अखबारों ने गुहा की इस कांग्रेस और रहल विध्वंसक आलोचना को प्रमुख रूप से प्रकाशित किया है.     राहुल ने 2019 में दो सीटों से लोकसभा चुनाव लड़ा. इनमें से एक सीट (अमेठी) पर उन्हें हार मिली. हालांकि, वायनाड में वे बड़े अंतर से जीतकर संसद पहुंचे. केरल से राहुल के चुनाव जीतने पर भी गुहा ने केरल के लोगों से पूछा कि उन्होंने राहुल गांधी को क्यों जिताया? वामपंथियों के कारण इस्लामिक कट्टरपंथ व हिंदुत्व को बढ़ावा मिला इतिहासकार गुहा वामपंथियों की भी बखिया उधेड़ी, उन्होंने तीखे अंदाज में कहा, "भारतीय वामपंथियों के पाखंड के कारण आज देश में राष्ट्रवाद की बयार है. लेफ्ट पार्टियों ने हमेशा भारत से ज्यादा दूसरे देशों को प्यार किया. दुनियाभर में राष्ट्रवाद और पड़ोसी देशों में इस्लामिक कट्टरपंथ को बढ़ावा मिलने की वजह से ही भारत में हिंदुत्व को हालिया समय में बढ़ावा मिला है."   'महान राजनीतिक दल' से 'दयनीय फैमिली फर्म' बनी कांग्रेस गुहा ने गांधी परिवार की वंशवाद की परंपरा की ओर इशारा कर कहा कि पांचवीं पीढ़ी के राहुल गांधी का 'कठोर परिश्रमी' और 'सेल्फ मेड' नरेंद्र मोदी के सामने कोई मुकाबला नहीं है. उन्होंने कहा कि राहुल गांधी को चुनकर केरल के लोगों ने भयानक गलती की है. उन्होंने कहा कि कहा कि कांग्रेस का एक 'महान राजनीतिक दल' से 'दयनीय फैमिली फर्म' बन जाना, भारत में हिन्दुत्व के उभार का एक प्रमुख कारण है.   बेकार पारिवारिक कंपनी बन चुकी है कांग्रेस   गुहा ने कहा, "कांग्रेस का पतन हो चुका है. जो आजादी के दौर की महान पार्टी थी, अब एक बेकार पारिवारिक कंपनी बन चुकी है. इसी पार्टी की वजह से देश में हिंदुत्व और अंधराष्ट्रभक्ति का माहौल बना है.” उन्होंने आगे कहा, “मेरी राहुल गांधी से कोई निजी दुश्मनी नहीं है. वे एक शिष्ट और सभ्य व्यक्ति हैं, लेकिन युवा भारत एक पांचवीं पीढ़ी के राजवंशी को नहीं चाहता. अगर मलयाली लोग 2024 में भी राहुल गांधी को चुनने का काम करते हैं, तो आप सिर्फ नरेंद्र मोदी को फायदा पहुंचा रहे हैं." मोदी ने खुद को खड़ा किया, राहुल कभी ऐसा नहीं कर पाए गुहा के मुताबिक, "नरेंद्र मोदी का सबसे बड़ा फायदा यह है कि वे राहुल गांधी नहीं हैं। मोदी ने खुद को बनाया है. उन्होंने एक राज्य 15 सालों तक चलाया, उनके पास अच्छा प्रशासनिक अनुभव है. वे कड़ी मेहनत करते हैं और कभी छुट्टी मनाने यूरोप नहीं जाते. विश्वास कीजिए, मैं यह सब गंभीरता से कह रहा हूं....
पाकिस्‍तानी

पकड़े गए परमाणु टेक्‍नोलॉजी को चुरा रहे पांच पाकिस्‍तानी

अमेरिका में बने परमाणु उत्‍पादों को पाकिस्‍तान स्‍मगल कर रहे थे  वॉशिंगटन : अमेरिका में परमाणु टेक्‍नोलॉजी चुराने वाले पांच पाकिस्‍तानी बिजनेसमेन पकड़े गए हैं. अमेरिकी न्‍याय विभाग के मुताबिक इन पांचों ने पाकिस्‍तानी न्यूक्लियर और मिसाइल प्रोग्राम के लिए अमेरिकी तकनीक की स्मगलिंग की है.  जो पाकिस्‍तानी पकड़े गए हैं, उनमें मुम्मद कामरान वली (41) जो पाकिस्‍तान में रहता है, मुहम्मद अहसान वली (48) और हाजी वली मुहम्मद शेख (82) जो कनाडा में है, अशरफ खान मुहम्मद हॉन्‍गकॉन्‍ग में और अहमद वहीद (52) यूके में रहता है.  अमेरिकी असिस्टेंट अटॉर्नी जनरल जॉन सी डेमर्स ने कहा, 'आरोपियों अमेरिका में बने उत्पाद उन संस्थानों को निर्यात किए, जिन्हें अमेरिका की राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए खतरे के रूप में घोषित किया गया है. क्योंकि इन संस्थानों के संबंध पाकिस्तान के हथियार कार्यक्रमों से है.'   इन पांचों लोगों पर इंटरनेशनल एनर्जी इकनॉमिक पावर्स ऐक्ट और एक्सपोर्ट कंट्रोल रिफॉर्म एक्‍ट के उल्लंघन की साजिश रचने का आरोप लगा है. जो आरोप लगे हैं, उनके मुताबिक, इन्‍होंने पाकिस्तान में उस जगह की पहचान छिपाने की कोशिश की, जहां अमेरिकी उत्पाद भेजे जा रहे थे. इन्होंने सामान खरीदने वाली और इसका आखिरी प्रयोग करने वाली कंपनियों के झूठे नाम बताए, जबकि अमेरिकी उत्पाद वास्तव में पाकिस्तान पहुंचे, इन उत्पादों का प्रयोग पाकिस्तान के परमाणु कार्यक्रम के लिए होता था और एईआरओ या पीएईसी ने इन उत्पादों की कीमत चुकाई. अमेरिकी अथॉरिटीज के अनुसार पाकिस्‍तान के ये पांच व्‍यापारी एक इंटरनेशनल रैकेट का हिस्‍सा हैं. इन्‍होंने ऐसी फ्रंट कंपनियों का नेटवर्क तैयार किया था, जो अमेरिका में बने उत्‍पादों को पाकिस्‍तान स्‍मगल करने का काम करती थीं. अमेरिका के न्‍याय विभाग ने उन्‍हें दोषी ठहराया है. रावलपिंडी में है कंपनी  पाकिस्‍तान के रावलपिंडी स्थित फ्रंट कंपनी 'बिजनस वर्ल्ड' से जुड़े इन पांच पाकिस्तानियों ने उत्‍पादों को पाक की एडवांस्‍ड इंजीनियरिंग रिसर्च ऑर्गनाइजेशन और पाकिस्‍तान एटॉमिक एनर्जी कमीशन को सप्‍लाई किया था. ऐसे 38 गैर-कानूनी परमाणु निर्यातों की पहचान की गई है जिन्‍हें 29 अमेरिकी कंपनियों से पाकिस्‍तान को सितंबर 2014 से अक्‍टूबर 2019 के बीच भेजा गया था. पहले भी पाकिस्‍तान ने की है ऐसी चोरी  16 साल पहले पाकिस्तान का न्यूक्लियर स्मगलिंग और प्रॉलिफरेशन स्कैंडल सामने आया था. उसमें पाकिस्तानी वैज्ञानिक डॉ. अब्दुल कदीर खान (ए.क्यू. खान) का हाथ सामने आया था. उसी ए.क्यू. खान ने डच कंपनी रेंको से सेंट्रीफ्यूज चुरा लिया था, जिसके दम पर पाकिस्तान ने साल 1980 में परमाणु बम बना लिया. पाकिस्तान ने यह टेक्नॉलीज नॉर्थ कोरिया और चीन को भी बेच दी. खान ने लीबिया और ईरान को भी मदद की थी. अमेरिका के लिए भी खतरा बने पाकिस्‍तानी  अमेरिकी जस्टिस डिपार्टमेंट के मुताबिक, ये पांच पाकिस्तानी कनाडा, हॉगकॉन्‍ग और ब्रिटेन में रहते हैं. डिपार्टमेंट का कहना है, 'ये अपनी फ्रंट कंपनियों के लिए दुनियाभर से खरीद करने का नेटवर्क चलाते थे. फ्रंट कंपनियां एडवांस्ड इंजीनियरिंग रीसर्च ऑर्गनाइजेशन और पाकिस्तान एटॉमिक एनर्जी कमिशन (पीएईसी) के लिए अमेरिका में बने उत्पाद खरीदती है. यह कंपनी अमेरिका से सामानों का निर्यात बिना एक्सपोर्ट लाइसेंस के ही करवाती है, जो अमेरिकी कानून का खुला उल्लंघन है.'  जर्मनी की गुप्तचर एजेंसी ने भी दी थी जानकारी उल्लेखनीय है कि जर्मनी की आतंरिक गुप्तचर एजेंसी ‘बीएफवी’ ने पिछले...
पत्रकारिता

मीडिया को अपनी विश्वसनीयता बरकरार रखनी चाहिए : प्रसून

स्व. बालासाहब तिरपुड़े पत्रकारिता पुरस्कार से वाजपेयी सम्मानित   नागपुर : टीवी समाचार चैनल के वरिष्ठ पत्रकार पुण्यप्रसून वाजपेयी को यहां स्व. बालासाहब तिरपुड़े पत्रकारिता पुरस्कार से सम्मानित किया गया. स्थानीय वसंतराव देशपांडे सभागृह में आयोजित समारोह में बालासाहब तिरपुड़े जन्मशताब्दी समिति की ओर से युगांतर शिक्षण संस्था के अध्यक्ष राजकुमार तिरपुड़े ने वाजपेयी को पुरस्कार स्वरूप 1 लाख रुपए नकद, शाल और श्रीफल भेंट किया. इस अवसर पर अपने भाषण में वाजपेयी ने कहा कि मीडिया को सरकारी सहयोग पर सहारे रहने के बजाय अपने पाठकों के बीच अपनी पहचान और विश्वसनीयता बनाए रखना चाहिए. शासक आते-जाते रहते हैं, वे अपने प्रोपगैंडा के लिए मीडिया का इस्तेमाल उन्हें अपने ऊपर निर्भर बना कर करने का प्रयास करते हैं. मीडिया को इस खतरे से बचने की जरूरत है. वाजपेयी ने कहा कि मीडिया की अपनी एक बड़ी ताकत है. उसे देश के निर्माण में महत्वपूर्ण भूमिका निभानी होती है. उसे अपनी ताकत का इस्तेमाल देश के निर्माण में करने के लिए सरकारों पर निर्भर नहीं रहना चाहिए. उन्होंने वर्तमान समय में मीडिया के अस्वस्थ होने का कारण बताते हुए कहा कि यह स्थिति सरकार पर निर्भरता के कारण है. उन्होंने बताया कि सरकार को जब मीडिया का अपने पक्ष में उपयोग करने की जरूरत थी तब उसने मीडिया के लिए 2015 में बजट में 9 हजार करोड़ रुपए का प्रावधान कर रखा था. इसमें 4 हजार करोड़ इलेक्ट्रानिक मीडिया के लिए और 5 हजार करोड़ प्रिंट मीडिया के लिए था. अब जब चुनाव जीत कर सरकार फिर से सत्ता में आ गई तो उसने 2019 से मीडिया के लिए अपना बजट घटा कर 4.5 करोड़ रुपए कर दिया है. इसमें इलेक्ट्रानिक मीडिया के लिए 2 हजार करोड़ और प्रिंट मीडिया के लिए 2.5 हजार करोड़ रुपए है. इस बार मीडिया के हिस्से में सरकार के पास धन नहीं है. इससे मीडिया अस्वस्थ होती जा रही है. वाजपेयी ने कहा कि सरकार के प्रोपगैंडा में जुटी मीडिया ने जनता में अपनी विश्वसनीयता खोई है और जिस मीडिया ने अपना स्वतंत्र अस्तित्व बनाए रखने की कोशिश की उसके पीछे सरकार ने ईडी और सीबीआई को लगा दिया है. उन्होंने कहा कि यह हालात देश की मीडिया के लिए ठीक नहीं है. कार्यक्रम में मंच पर वरिष्ठ पत्रकार एस.एन. विनोद, महाराष्ट्र श्रमिक पत्रकार संघ के अध्यक्ष प्रदीप मैत्रा, युगांतर शिक्षण संस्था के अध्यक्ष राजकुमार तिरपुड़े, उपाध्यक्ष टीबी गेडाम, महासचिव गणेश गौरखेड़कर, सचिव कोबांडे उपस्थित थे. आरंभ में एस.एन. विनोद ने पुण्यप्रसून का परिचय कराया. प्रस्तावना प्रदीप मैत्रा ने रखी. राजकुमार तिरपुड़े ने अपने भाषण में पत्रकारिता पुरस्कार के संबंध में जानकारी दी. कार्यक्रम का संचालन और आभार प्रदर्शन पराग बोंबटकर ने किया.  
तान्हाजी

तान्हाजी : अजय देवगन की सौवीं फिल्म, 100+ करोड़ का कारोबार!

इसको संयोग कहें या किस्मत का लेखा..!   *जीवंत के. शरण, फिल्म 'तान्हाजी : द अनसंग वाॅरियर' अजय देवगन के करियर की 100 वीं फिल्म है और संयोग देखिए बाॅक्स ऑफिस पर इस फिल्म ने सिर्फ छह दिनों में 100+ करोड़ की कमाई भी कर ली है. इसके साथ ही साल 2020 की यह पहली सौ करोड़ कमाने वाली फिल्म भी बन गई है. इस फिल्म के प्रति दर्शकों के रूझान को देखते हुए यह माना जा सकता है कि अब 200 करोड़ की कमाई करना भी तय है. Thanks to each and everyone for making this happen! I'm humbled & grateful for all the love, support & appreciation for #TanhajiTheUnsungWarrior 🙏@itsKajolD #SaifAliKhan @omraut @itsBhushanKumar @SharadK7 @ADFFilms @TSeries @TanhajiFilm pic.twitter.com/QmHmJ5zBaZ— Ajay Devgn (@ajaydevgn) January 16, 2020 इस फिल्म को हरियाणा सरकार के साथ उत्तर प्रदेश सरकार ने भी टैक्स फ्री कर दिया है. खबर है कि इसे महाराष्ट्र सरकार भी टैक्स फ्री करने वाली है.  अजय देवगन की यह लगातार पांचवीं फिल्म है, जिसकी सौ करोड़ के क्लब में एंट्री हुई है. 'गोलमाल अगेन' (2017) से यह सिलसिला आरंभ हुआ। 2018 में फिल्म 'रेड' ने भी सौ करोड़ का कारोबार किया था. 2019 में फिल्म 'टोटल धमाल' और 'दे दे प्यार दे' ने भी बाॅक्स ऑफिस पर धमाल कर अजय के साथ निर्माताओं को भी मालामाल कर दिया था. 'तान्हाजी: द अनसंग वाॅरियर' यह सतरहवीं शताब्दी की पृष्ठभूमि पर आधारित एक ऐतिहासिक फिल्म है, जिसमें मुगल और मराठों के बीच जंग दिखाई गई है. ओम राउत निर्देशित इस फिल्म में छत्रपति शिवाजी शासन काल के सूबेदार महान योद्धा तान्हाजी मालसुरे के शौर्य को बेहद रोमांचक तरीके से परोसा गया है. अजय देवगन ने तान्हाजी के किरदार को बेहद सजीव अभिनय से यादगार बना दिया है. अजय देवगन एक्शन हीरो के रूप में जाने जाते हैं. उनकी पहली फिल्म 'फूल और कांटे' (1991) थी. सफलता और असफलता के साथ यह साधारण नाक-नक्श वाला हीरो अपनी शर्तो पर धीरे-धीरे अपनी दबंगता को कायम करते हुए उन्नतीस साल के सफर में सौ फिल्मों का सफर तय कर लिया. वो भी अमिताभ बच्चन, सलमान खान, शाहरुख खान और आमिर खान जैसे दिग्गज कलाकारों की उपस्थिति में. सैफ अली खान और काजोल की भी मुख्य भूमिका फिल्म 'ओंकारा' में लंगड़ा त्यागी के बाद निगेटिव रोल में सैफ ने फिर एक बार 'तान्हाजी' में उदयभान सिंह राठौर के किरदार में अपने अभिनय का जबरदस्त दम दिखाया है. अजय देवगन की पत्नी काजोल ने भी इस फिल्म में छोटी भूमिका में भी अपनी अदाकारी की गहरी छाप छोड़ी है. सैफ और काजोल दोनों ही अजय के साथ फिल्म में लीड रोल में हैं. मराठी फिल्मों के निर्देशक ओम राऊत की बॉलीवुड में तानाजी पहली फिल्म है. अपने निर्देशन से एक्शन सहित हर पहलू को बखूबी के साथ फिल्म आने में हुए कामयाब दिखाई देते हैं. बची-खुची कसर सपोर्टिंग एक्टर पूरी करते नजर आते हैं. दुनिया में मूवीज को रेट करने वाले ऑनलाइन डेटाबेस IMDb ने अजय देवगन की इस फिल्म को 10 में से 8.9 की रेटिंग दी है. IMDb की इस रेटिंग को फिल्म के लिए बहुत पॉजिटिव बताया जा रहा है क्योंकि यह एजेंसी अमूमन हॉलीवुड के बड़े...