LATEST ARTICLES

पुलगांव विस्फोट

पुलगांव स्थित सेना डिपो के निकट बमों में भीषण विस्फोट, 6 मृत, 10 गंभीर

भारतीय सेना के केंद्रीय गोला-बारूद डिपो में दो वर्षों में दूसरा बड़ा हादसा अश्विन शाह, पुलगांव (वर्धा) : वर्धा जिलेके पुलगांव स्थित भारतीय सेनाके केंद्रीय गोला-बारूद डिपो (सीएडी) के खराब बमोंको नष्ट करनेके क्रममें हुए भीषण विस्फोटमें 6 लोगोंकी जान चली गई. इनमें से चार लोगोंकी मृत्यु घटनास्थल पर और दो की अस्पताल ले जाते समय हो गई. अन्य 12 घायलोंमें चार की हालत गंभीर बताई जाती है. पुलगांव के इस डिपो में दो वर्षों में यह दूसरा बड़ा हादसा है. बमों की पेटी गिराने से हुआ विस्फोट केंद्रीय गोला-बारूद डिपो के सूत्रों के अनुसार खराब बमों को सोनेगांव आबा में आज मंगलवार की सुबह 5.30 बजे नष्ट करने की तैयारी शुरू हुई थी. इसीबीच बमों कीपेटी विस्फोट स्थल पर पहुंचाते वक्त मजदूरोंके हाथ से फिसल कर गिर गई और विस्फोटका यह बड़ा हादसा हो गया. बताया गया कि इस हादसे की जांचके आदेश दे दिए गए हैं. आयुध डिपो कर्मचारी और 5 ठेका मजदूरों की मृत्यु बताया गया कि इन बमों को नष्ट करने के लिए सेना के जबलपुर स्थित आयुध निर्माणी (आर्डनेंस फैक्ट्री) से आए अधिकारियों और कर्मचारियों में से एक उदयवीर सिंह(38) की भी मृत्यु हो गई. अन्य 5 मृतकों में सोनेगांव आबा निवासी नारायण शामराव पचारे(55), विलास लक्ष्मणराव पचारे(40) और प्रभाकर रामदास वानखेड़े(40), केलापुर गांव निवासी राजकुमार राहुल बोवाटे(23) और प्रवीण प्रकाशराव मुंजेवार(25) शामिल हैं. ये 5 मृतक और 10 घायल लोग ठेका मजदूर बताए जाते हैं, जो आसपासके गांवोंके ही निवासी हैं. दो अस्पताल ले जाते वक्त चल बसे जिन दो लोगों की मृत्यु अस्पताल ले जाते वक्त हुई, उनमें केलापुर गांव निवासी राजकुमार राहुल बोवाटे (23) और प्रभाकर रामदास वानखेड़े (40) हैं. इनके साथ अन्य 10 लोगों को उपचार के लिए सावंगी मेघे स्थित आचार्य विनोबा भावे ग्रामीण अस्पताल में भेजा गया है. चार गंभीर, 6 मामूली जख्मी 10 घायलों में से 4 गंभीर रूप से जख्मी में दो प्रवीण श्रीराम नेताम और दिलीप निमगड़े को पेट की इंजूरी है. उनकी शल्य क्रिया की जा रही है. प्रशांत मूंजवार और मनोज मोरे को छाती में गंभीर चोट है और उनके पैरों में भी फ्रेक्चर है. अन्य 6 लोग सामान्य रूप से घायल हैं, उनके नाम हैं- इजराइल मोहम्मद शाह, मनोज रामदास सायं, प्रशांत हरिभाऊ मड़ावी, रूपराव श्रीराम नेताम, संदीप शंकरराव पचारे और विलास शेषराव बेलसरे. सभी जख्मियों को आचार्य विनोबा भावे ग्रामीण अस्पताल भेजा गया सावंगी मेघे स्थित आचार्य विनोबा भावे ग्रामीण अस्पताल सूत्रों बताया की 12 जख्मियों को सुबह 7.45 बजे अस्पताल लाया गया. अस्पताल पहुंचते ही सभी का उपचार शुरू किया गया. दो की मृत्यु अस्पताल पहुंचने से पूर्व ही रास्ते में हो गई थी. चारों गंभीर जख्मियों का उपचार पूर्व सांसद और कुलाधिपति दत्ताजी मेघे की देखरेख में कुलपति डॉ.आर.एम. बोरले, सीईओ डॉ.संदीप श्रीवास्तव, डॉ.अभ्युदय मेघे और डॉ.चंद्रशेखर महाकालकर द्वारा की जा रही है. पुलगांव और आसपास के गांवके लोग दहले घटना की जानकारी मिलते ही प्रदेश महिला कांग्रेस की अध्यक्ष चारूलता टोकस ने पीड़ित परिवारों से मिल कर उन्हें सांत्वना दी. विस्फोट की इस घटना से एक बार फिर पुलगांव और आसपास के गांव के लोग दहल...
solar energy

किसानों की अनुत्पादक भूमि पर बनेंगे सौर ऊर्जा प्रकल्प : नितिन गड़करी

नागपुर के तीनों थर्मल पावर स्टेशन शहर के गंदे पानी से चलेंगे नागपुर : किसानोंकी अनुत्पादक भूमिपर महाराष्ट्रके ऊर्जा विभाग ने सौर ऊर्जाके छोटे प्रकल्प तैयार करनेका महत्वाकांक्षी निर्णय लिया है. सौर ऊर्जा का उत्पादन इसके लिए किसानोंकी अनुत्पादक भूमि किराएपर लेकर ऊर्जा विभाग उस पर सौर ऊर्जा का उत्पादन करने वाला है. स्वतंत्र फिडरके माध्यमसे यह बिजली किसानोंको अनुदानित दरपर दी जाएगी. राज्यकी इस योजनाको पूरे देशमें लागू करनेका निर्णय नीती आयोगने लिया है. यह जानकारी केंद्रीय भूतल परिवहन मंत्री नितीन गड़करी ने नागपुर में दी. गंदे पानी से चलाए जाएंगे थर्मल पावर स्टेशन उन्होंने बताया कि अकाल जैसी स्थितिको देखते हुए नागपुर जिलेके तीनों थर्मल स्टेशनोंको शहरके गंदे पानीसे चलाया जाएगा. इससे गर्मी के मौसममें नागपुर शहरमें पेयजलकी कमी नहीं होगी. मध्य भारत की सबसे बड़ी कृषि प्रदर्शनी 23 से 26 नवंबर तक नागपुर में उन्होंने यह भी बताया कि मध्य भारतकी सबसे बड़ी कृषि प्रदर्शनी 23 से 26 नवंबर तक नागपुरमें होने वाली है. कृषि प्रदर्शनीका उद्घाटन उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ करेंगे. राज्यके मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़णवीस भी इस अवसर पर उपस्थित रहेंगे.
अभिषेक धामणकर abhishek-dhamankar

आईएएस अधिकारी बन कर अमरावती लौटा अभिषेक धामणकर

राजकमल चौराहे पर जमकर आतिशबाजी, स्वागत में उमड़े शहरवासी अमरावती : भारतीय प्रशासनिक सेवा (आईएएस) अधिकारी बन कर अमरावती लौटे अभिषेक धामणकर का आज शनिवार की दोपहर शहरवासियों की ओर से जोरदार स्वागत किया गया. गोंडवाना एक्सप्रेस से बडनेरा स्टेशन पर उतरे महाजनपुरा निवासी अभिषेक महेंद्र धामणकर की शानदार अगवानी की गई. शहरवासियों ने राजकमल चौराहे पर जमकर आतिशबाजी भी की. लोगों ने अभिषेक को फूल मालाओं से लाद दिया. राजकमल चौक पर अभिषेक का स्वागत, आतिशबाजी भी की इस अवसर पर महापौर संजय नरवणे, मनपा पार्षद विलास इंगोले, अजय सारस्कर व दिनेश बूब सहित प्रा. डॉ. संजय तीरथकर, रविकांत कोल्हे, प्रा. रविंद्र खांडेकर, सीमा धामणकर, सुरेंद्र धामणकर, अश्विनी तायड़े, पूजा धामणकर, रोहित शिवणकर, रोहिणी शिवणकर, पल्लवी पांडे, साहिल धामणकर, गौरव धामणकर, महेंद्र धामणकर, मदन भिसेकर व ज्योति भिसेकर के साथ चित्रा चौक व गुप्ता मार्केट के सभी व्यापारियों ने भी राजकमल चौक पर अभिषेक का स्वागत किया. बेहद विपरीत परिस्थितियों में मात्र 22 वर्ष की आयु में अभिषेक आईएएस अधिकारी बने. उसने मई 2017 में पुणे से अपनी इंजीनियरिंग की शिक्षा पूरी की. अभिषेक के सिर से बचपन में ही मां का साया हट गया था. उसकी बड़ी मां माया धामणकर ने उसे पाला-पोसा. किंतु एक वर्ष पूर्व 3 नवंबर 2017 को, जब अभिषेक दिल्ली में रहकर यूपीएससी का अभ्यास कर रहा था, तभी उसकी बड़ी मां का साया भी उठ गया. इस दारुण दुःख के बावजूद उसने हिम्मत नहीं हारी. अपनी बड़ी मां के सपने को पूरा करने में जुट गया. जी जान से पढ़ाई की. और वह आईएएस अधिकारी बनने में सफल रहा.
कार्यशाला workshop

वेकोलि में कार्यशाला : कोयला उद्योग में वर्तमान एवं भविष्य की चुनौतियों पर चिंतन

कोल इण्डिया के पूर्व अध्यक्ष डॉ. नारायणन ने दिया सामूहिक प्रयास से लक्ष्य की प्राप्ति का मंत्र नागपुर : वेस्टर्न कोलफील्ड्स लिमिटेड (वेकोलि) में आज शनिवार को "कोयला उद्योग : वर्तमान एवं भविष्य की चुनौतियां" विषय पर कार्यशाला संपन्न हुई. कोल इंडिया लिमिटेड के भूतपूर्व अध्यक्ष डॉ. एम.पी. नारायणन ने विशिष्ट अतिथि के रूप में आह्वाहन किया कि कोयला उद्योग की तरक्की के लिए यह आवश्यक है कि प्रबंधन और ट्रेड यूनियन दोनों में 'हम' यानि एक इकाई "हम सब एक हैं" की भावना सदैव सुदृढ़ रहे. उन्होंने कहा कि किसी परियोजना की योजना निचले स्तर से प्रारंभ करें. इस अवसर पर सीसीएल एवं सीएमपीडीआईएल के भूतपूर्व सीएमडी बी. अकला तथा कोल इंडिया लि. के भूतपूर्व निदेशक (कार्मिक एवं औद्योगिक सम्बंध) सी. एच. खिस्ती भी उपस्थित थे. प्रमुख अतिथि डॉ. एम.पी. नारायणन ने अपने सम्बोधन में कहा कि उत्पादन और उत्पादकता पर नए सिरे से कार्य करने पर वर्तमान एवं भविष्य की चुनौतियों का मुकाबला कोयला उद्योग आसानी से कर सकता है. उन्होंने कहा कि कुछ भी असंभव नहीं है. विशिष्ट अतिथि बी. अकला ने कहा कि कोयला उद्योग के प्रबंधन में आधुनिक सोच ज़रूरी है, तभी वर्तमान एवं भविष्य की चुनौतियों से निपटा जा सकता है. उन्होंने कहा कि हमारा विज़न और मिशन दोनों स्पष्ट होना चाहिए. अकला ने कहा कि मैन पॉवर का सही नियोजन और उनका समुचित प्रशिक्षण आवश्यक है तथा प्रेरक माहौल बना कर कर्मियों का मनोबल हमेशा ऊंचा रखें. सी.एच. खिस्ती ने सार्वजनिक उपक्रम में कार्य करते हुए राष्ट्रीय आवश्यकता की पूर्ति करके को अपने आप में चुनौतीपूर्ण दायित्व बताया. उन्होंने सलाह दी कि हमेशा नियमों का पालन करें, कभी किसी प्रकार के लालच का शिकार न बनें. खिस्ती ने कहा कि जब आप सही कार्य करेंगे तो और कोई दूसरी चीज याद रखने की जरूरत नहीं पड़ेगी. अतिथि वक्ताओं ने वेकोलि द्वारा चलाये जा रहे "मिशन : डब्ल्यूसीएल 2.0" की सराहना करते हुए कहा कि इसका अनुसरण कोल इंडिया की सभी अनुषंगी कम्पनियों द्वारा किया जाना चाहिए. स्वागत एवं प्रास्ताविक सम्बोधन वेकोलि एवं एमसीएल के सीएमडी राजीव रंजन मिश्र ने किया. उन्होंने बताया कि पांच महीने पूर्व प्रारंभ "मिशन डब्ल्यूसीएल : 2.0" के सकारात्मक परिणाम अब दिखने लगे हैं. मिश्र ने कहा कि बदलाव की छोटी पहल भी महत्वपूर्ण होती है. टीम वेकोलि के सदस्य वाकई सर्वोत्तम हैं. उन्होंने कहा कि आज की यह कार्यशाला पूरे कोयला उद्योग के लिए पथ प्रदर्शक साबित होगी. कार्यक्रम में कम्पनी के निदेशक (कार्मिक) डॉ. संजय कुमार, निदेशक (वित्त) एस.एम. चौधरी, निदेशक (तकनीकी) पी.एम. प्रसाद तथा संचालन समिति सदस्य सर्वश्री सौरभ दुबे, वाई.एन. सिंह, एस.एच. बेग, शिवकुमार यादव, सुधीर घुरडे एवं एन.टी. मस्के प्रमुखता से उपस्थित थे. कोल इंडिया गीत के साथ प्रारंभ कार्यक्रम में "मिशन डब्ल्यूसीएल : 2.0" की वीडियो प्रस्तुति की गई. कार्यशाला में व्यक्त विचारों का सार-संक्षेप महाप्रबंधक द्वय (खनन) सर्वश्री तरुण कुमार श्रीवास्तव एवं आलोक कुमार ने प्रस्तुत किया. कार्यशाला का समापन राष्ट्रगान के साथ हुआ. धन्यवाद ज्ञापन विभागाध्यक्ष (एचआरडी) श्री मार्कण्डेय मिश्रा ने तथा कार्यक्रम का संचालन उप प्रबन्धक (कार्मिक) श्रीमती ऋतु सिंह ने किया. कार्यशाला में बड़ी संख्या में उपस्थित टीम वेकोलि...
घोषणापत्र

मध्य प्रदेश की लड़कियों को स्कूटी दिलाएगी भाजपा, हर साल 10 लाख रोजगार

म.प्र. भाजपा के चुनावी घोषणापत्र में वादों की झड़ी लगाई मुख्यमंत्री चौहान ने भोपाल : मध्य प्रदेश विधानसभा चुनाव के लिए भारतीय जनता पार्टी आज अपना घोषणापत्र जारी कर दिया है. भाजपा ने अपने घोषणापत्र को दृष्टि पत्र नाम दिया है. आज भोपाल में वित्त मंत्री अरुण जेटली और केंद्रीय मंत्री धर्मेंद्र प्रधान की मौजूदगी में भाजपा की ओर से मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने यह दृष्टिपत्र जारी किया. 28 नवंबर को मतदान, मतगणना 11 दिसंबर को प्रदेश में एक ही चरण में 28 नवंबर को मतदान है. वोटों की गिनती 11 दिसंबर को होगी. मध्य प्रदेश के 53 जिलों में विधानसभा की 230 सीटें हैं. मध्य प्रदेश में चौथी बार सत्ता में वापसी की कोशिश कर रही भाजपा ने जनता से वादों की झड़ी लगा दी है. 'नारी शक्ति संकल्प पत्र' मुख्यमंत्री चौहान ने पार्टी का चुनावी दृष्टिपत्र जारी करते हुए कहा कि उनकी पार्टी ने महिलाओं के लिए अलग से घोषणापत्र बनाया है. इसके अंतर्गत 'नारी शक्ति संकल्प पत्र' के तहत महिला सशक्तिकरण और महिला सुरक्षा एवं प्रगति को प्राथमिकता दी गई है. महिलाओं के लिए अलग से घोषणापत्र अगर भाजपा की राज्य में फिर से सरकार बनती है तो- 1. बारहवीं में 75% से ज्यादा नम्बर लाने वाली लड़कियों को उनकी सरकार स्कूटी देगी. इसका रजिस्ट्रेशन चार्ज भी सरकार देगी. 2. सरकार इंटरनेट कनेक्शन वाली E-Library और 'विजया लर्निंग सेंटर' भी खोलेगी. 3. ग्रामीण इलाकों की छात्राओं को महाविद्यालय तक ले जाने के लिए निशुल्क महिला बसों की व्यवस्था की जाएगी. 4. लड़कियों को सैनिटरी प्रोडक्ट देने के लिए सरकार मुक्ता योजना लाएगी. इसके तहत उच्च प्राथमिक और माध्यमिक विद्यालयों के छात्रा शौचालयों में स्वचालित सैनिटरी नैपकिन वेंडिंग मशीन लगाई जाएगी. 5. महिला सशक्तिकरण के लिए स्वयं सहायता समूहों का गठन किया जाएगा. इसके अलावा तेजस्विनी द्वारा स्वरोजगार को अभियान बनाया जाएगा. युवाओं और उद्यमियों के लिए वादा 1. युवाओं को नौकरी देने के लिए हर साल 10 लाख रोजगार के अवसर पैदा किया जाएगा. 2. युवा उद्यमियों को स्टार्ट अप की सुविधाएं उपलब्ध कराने का वादा 3. राज्य में नए इंडस्ट्रियल टाउनशिप स्थापित किया जाएगा. 4. व्यापारी कल्याण कोष की स्थापना करने का भी लक्ष्य रखा गया है. भोपाल में ग्लोबल स्किल पार्क बनाने की घोषणा 1. दो लाख करोड़ रुपए से शहरों में इंफ्रास्ट्रक्चर को बेहतर किया जाएगा. 2. व्यापारी के लिए GST मित्र योजना बनाई जाएगी, ताकि टैक्स भरने में आ रही कठिनाइयों को दूर किया जा सके. 3. नर्मदा एक्सप्रेस वे, चंबल एक्सप्रेस वे और औद्योगिक कॉरिडोर विकसित करने का लक्ष्य निर्धारित करेगी. 4. बिजली की क्षमता को 14000 मेगावाट तक ले जाएंगे. इसके अलावा ग्रामीण क्षेत्रों में पेयजल के लिए नलजल योजना शुरू की जाएगी. किसानों के लिए उठाया जाने वाला विशेष कदम 1. कृषि उत्पाद मूल्य स्थिरीकरण कोष जो पहले 500 करोड़ रुपए से शुरू हुआ था, उसे बढ़ा कर 2000 करोड़ करने का निर्णय ताकि बाजार मूल्य गिरने पर किसानों को लाभकारी मूल्य मिल सके.
केवाईसी अपडेट

…तो 1 दिसंबर से रद्द हो जाएगा रसोई गैस कनेक्शन

उपभोक्ताओं के लिए 30 नवंबर तक अपना केवाईसी अपडेट कराना अनिवार्य नई दिल्ली : रसोई गैस (एलपीजी) उपभोक्ताओं के लिए अपनी पहचान सुनिश्चित कराना जरूरी कर दिया गया है. इसके तहत उपभोक्ताओं को 30 नवंबर तक अपना केवाईसी अपडेट कराना जरूरी है, अन्यथा 1 दिसंबर से गैस कनेक्शन रद्द हो सकता है. दरअसल गैस कंपनी भारत गैस, एचपी गैस और इंडेन गैस ने 30 नवंबर तक सभी ग्राहकों को केवाईसी पूरा करने के लिए कहा है. अगर ग्राहकों की तरफ से तय तारीख तक केवाईसी अपडेट नहीं किया जाता तो ऐसे कस्टमर का गैस कनेक्शन रद्द किया जा सकता है और उन्हें दिसंबर से गैस की डिलीवरी नहीं की जाएगी. 1 करोड़ गैस कनेक्शन किए जाएंगे रद्द मिली जानकारी के अनुसार केवाईसी पूरा नहीं होने के कारण सरकार की तरफ से ऐसे 1 करोड़ गैस कनेक्शनों को रद्द करने की तैयारी की जा रही है. गैस कंपनियों के हवाले से दी गई जानकारी के मुताबिक़ जिन उपभोक्ताओं की पहचान वैध नहीं हो पाई अथवा जिनका गैस कनेक्शन निर्धारित मानक के आधार पर नहीं है, ऐसे लोगों को दिसंबर से रसोई गैस सिलेंडर नहीं दिए जाएंगे. उल्लेखनीय है कि केंद्र सरकार ने गैस एजेंसियों से केवाईसी के तहत आधार नंबर जमा नहीं करने वाले और 'गिव इट अप' स्किम को अपनाने वाले लोगों की जानकारी मांगी है. फर्जी ग्राहकों का कनेक्शन बंद करने की तैयारी गिव इट अप अपनाने वाले ग्राहकों को केवाईसी इसलिए पूरा करने के लिए कहा गया है, ताकि फर्जी ग्राहकों का कनेक्शन बंद किया जाए और असल ग्राहकों को गैस सिलेंडर आसानी से मिल सके. ज्ञातव्य है कि सरकार ने तीन साल पहले गैस कनेक्शनों को बैंक खाते से जोड़ने की योजना शुरू की थी. ताकि सब्सिडी का लाभ सीधे लाभार्थी को मिल सके. लेकिन 3 वर्ष बाद भी बहुत सारे लोगों ने अपने केवाईसी अपडेट नहीं किए हैं और ये लोग गैस सब्सिडी का लाभ भी नहीं उठा पा रहे हैं.
वेकोलि

वेकोलि कॉलोनी के घरेलू कामगारों का दीपावली के उपलक्ष्य पर हुआ सम्मान

झंकार महिला मंडल ने दी घरों में काम करने वाले लोगों को दीपावली की शुभकामनाएं नागपुर : वेस्टर्न कोलफील्ड्स लिमिटेड (वेकोलि) के अधिकारियों और कर्मचारियों की रिहायशी कॉलोनियों में घरेलू कार्यों में सहयोग करने वाले के रूप में बड़ी संख्या में महिला और पुरुष वर्ग को रोजगार उपलब्ध है. ऐसे कामगारों से वेकोलि कर्मियों के परिवार को दैनन्दिन जीवन में घरेलू काम में भरपूर सहयोग मिलता है. इनके माध्यम से वेकोलि कर्मी अपने परिवार को घरेलू कामकाज में हाथ बटाने के अपने दायित्व से आंशिक रूप से राहत प्राप्त करते हैं. वेकोलि के झंकार महिला मंडल ने इन घरेलू कामगारों के इस महत्व के उनके योगदान के लिए पिछले दिन दीपावली पर प्रत्येक वर्ष की तरह इस वर्ष भी एक कार्यक्रम का आयोजन कर उनका सम्मान किया, उन्हें उपहरर दिए और दीपावली की शुभकामनाएं भी दीं. संस्था की अध्यक्ष श्रीमती अनिता मिश्र ने अपने सम्बोधन में कार्यक्रम में उपस्थित इन महिला और पुरुष कामगारों के प्रति उनकी सेवाओं के लिए आभार वक्त करते हुए कामना की कि आप सभी स्वस्थ रहें, प्रसन्न रहें और अपने परिवार की भी देखभाल करें. उन्होंने सभी से सुरक्षित दीपावली मनाने की अपील की. वेकोलि के इंदौरा हाउसिंग कॉम्प्लेक्स में आयोजित कार्यक्रम में झंकार महिला मंडल की अध्यक्ष श्रीमती अनिता मिश्र, उपाध्यक्ष श्रीमती रीना कुमार एवं श्रीमती प्रगति लभाने ने दीपावली-शुभकामना के तौर पर 45 कामकाजी लोगों को मिठाई के पैकेट और उपयोगी सामग्री भेंट की. इस अवसर पर सचिव श्रीमती संगीता दास, कोषाध्यक्ष श्रीमती सुषमा गोखले एवं श्रीमती नीरा हिरवानी प्रमुखता से उपस्थित थीं. उल्लेखनीय है कि प्रतिसाद में लाभार्थियों ने झंकार महिला मंडल की इस पहल के प्रति दिल से आभार प्रकट किया और कहा कि उनके जीवन का यह सुखद अनुभव है, जब घरों में काम करनेवाले लोगों की झंकार महिला मंडल ने सुध ली और उनके जीवन में दिवाली की रोशनी बिखेरने की कोशिश की.

विदेशी महिला पहलवान ने पिटाई कर दी राखी सावंत की

पहलवानी के रिंग में डांस की चुनौती देना और चिढ़ाना पड़ा भारी, अस्पताल जाना पड़ा चंडीगढ़ : अभिनेत्री राखी सावंत को पंचकूला एक विदेशी महिला पहलवान को चैलेंज देना महंगा पड़ा. यहां के सेक्टर 3 स्थित ताउ देवी लाल खेल परिसर में आयोजित कॉन्टिनेंटल रेसलिंग इंटरटेनमेंट (सीडब्ल्यूई) के बैनर तले पहलवानी की बिग फाइट में अभिनेत्री राखी सावंत को एक विदेशी महिला पहलवान को डांस की चुनौती देना और उसे चिढ़ाना महंगा पड़ गया. पहलवान को अचानक राखी सावंत पर गुस्सा आ गया और उसने राखी की पिटाई कर दी. राखी को चोट लगी और उपचार के लिए उन्हें अस्पताल ले जाया गया. बिग फाइट के दौरान रविवार को महिला पहलवानों के भी मुकाबले रखे गए थे. कई विदेशी पहलवानों के बीच मुकाबले के बाद विदेशी महिला पहलवान रैवल ने फाइट जीतने के बाद खुली चुनौती देते हुए कहा कि यदि किसी भी भारतीय महिला में दम है, तो मुझ से आकर लड़े, लेकिन कोई महिला तैयार नहीं हुई. इसके बाद राखी सावंत स्टेज पर आ गई और महिला पहलवान को चुनौती देते हुए कहा कि यदि उसमें दम है तो उसके जैसा डांस करके दिखाए. इसके बाद दोनों के बीच मुकाबला शुरू हो गया. लोग राखी सावंत के ठुमकों पर हूटिंग कर रहे थे. कुछ लोगों ने विदेशी पहलवान को अंगूठा नीचे करके दिखाना शुरू कर दिया. राखी सावंत भी रैवल को चिढ़ाती हुई नजर आई. कुछ ही क्षण में रैवल को गुस्सा आ गया और उसने राखी को उठाकर नीचे पटक दिया. इसके बाद राखी जोर से चिल्लाने लगी. आसपास खड़े बाउंसर रिंग के अंदर आ गए और उन्होंने तुरंत राखी सावंत को उठाया. राखी ने आयोजकों को बताया कि उसकी पीठ और पेट में काफी दर्द हो रहा था, जिसके बाद उसे तुरंत अस्पताल ले जाया गया. आयोजन समिति के सदस्य बलवान ने बताया कि राखी सावंत ने विदेशी पहलवान रैवल को डांस के लिए चैलेंज दिया था. इसके बाद अचानक रैवल को डांस करते हुए गुस्सा आ गया और उसने राखी को उठाकर नीचे पटक दिया. राखी को तुरंत अस्पताल ले जाया गया. फिलहाल उनकी स्थिति ठीक है.
https://vidarbhaapla.com/

यात्री की सतर्कता से पुरी-ओखा एक्सप्रेस की बड़ी दुर्घटना टली

बल्लारशाह-वर्धा के बीच हुआ हादसा, गोरखपुर-यशवंतपुर एक्सप्रेस की दुर्घटना की पुनरावृति आश्विन शाह, वर्धा : एक रेल यात्री की सतर्कता के कारण बल्लारशाह-वर्धा के बीच आज मंगलवार की सुबह करीब 9 बजे रेल का बड़ा हादसा होते-होते बचा. सतर्क रेल यात्री किशोर रविंद्र कन्हर ने पुरी-ओखा एक्सप्रेस के S5 कोच के नीचे के भाग से कुछ टूटने की आई आवाज सूनी सुनी और उन्होंने तत्काल टिकट निरीक्षक रविन्द्र सलामे तथा एक अन्य यात्री संतोष कुमार को यह बात बताई. कोच के नीचे से आ रही आवाज से उन्हें भी खतरे का आभास हुआ और तत्काल उन्होंने रेल अधिकारियों को सूचित किया. ट्रेन जैसे ही वर्धा स्टेशन पहुंची, वहां वर्धा रेलवे के स्टेशन सुपरिंडेंट धीरज ठाकुर को उन्होंने इसकी जानकारी दी. धीरज ठाकुर ने भी इसकी जांच कर नागपुर स्थित पश्चिम रेल के मंडल रेल प्रबंधक (डीआरएम) कार्यालय के वरिष्ठ अधिकारी को सूचना दे कर गाड़ी को वहीं वर्धा में रोककर S5 कोच को यात्रियों से खाली करवाया और उस कोच को अलग करवाया. इसके साथ ही दूसरा कोच जोड़ कर सभी यात्रियों को उसमें शिफ्ट कर बाद में ट्रेन को रवाना किया. युवा यात्री किशोर कन्हर, जिनकी सतर्कता से पुरी-ओखा एक्सप्रेस ट्रेन के उस कोच संख्या 988227 के नीचे के भाग के स्प्रिंग के पास टूट-फूट का पता चल पाया, ओडीसा के फुलबनी जिले के रहने वाले हैं. इसी तरह की घटना में यात्रियों की सतर्कता से बचा था गोरखपुर–यशवंतपुर एक्सप्रेस उल्लेखनीय है कि इसी प्रकार की दुर्घटना इसी वर्ष 29 मई को मध्य रेल नागपुर मण्डल के काटोल–कलमेश्वर खंड के बीच सोनखांब-कोहली स्टेशन के पास गोरखपुर–यशवंतपुर एक्सप्रेस गाड़ी (ट्रेन नंबर 15015) साथ हुई थी. ट्रेन के एक एसी कोच का पहिया टूट गया था. यह ट्रेन नागपुर से 40 किलोमीटर पहले काटोल और कलमेश्वर स्टेशनों के मध्य स्थित सोनखाम एवं कोहली स्टेशनों के बीच थी. तभी एक एसी-2 कोच का एक पहिया तेज आवाज के साथ टूट गया और ऊपर कोच का फर्श फाड़ कर वापस नीचे ट्रैक पर जा गिरा. उसके ऊपर की बर्थ पर यात्रा कर रही महिला के हाथ में गंभीर चोट लगी थी. इससे पूर्व इसी अवस्था में ट्रेन कुछ किलोमीटर दौड़ी चली आई थी. संयोग से ट्रेन डिरेल नहीं हुई. अन्यथा तेज गति दौड़ रही तेन के डिरेल होने से अनेक यात्रियों की जान-माल क्षति पहुंचती और रेलवे को भी भारी नुकसान होता. स्थिति देख ट्रेन स्टाफ के होश उड़ गए थे जैसे ही यह हादसे की गंभीरता यात्रियों को समझ में आई, उन्होंने चेन पुलिंग करके ट्रेन रोकी और ट्रेन में चल रहे स्टाफ को जानकारी दी. उन्होंने जब कोच की हालत देखी तो उनके होश उड़ गए. ट्रेन एक तिहाई पहिए पर ही कई किलोमीटर दौड़ चुकी थी. उन्होंने नागपुर स्थित रेल प्रशासन को सूचना दी. बाद में नागपुर से मदद पहुंची और ट्रेन को धीमी गति से चला कर नागपुर स्टेशन लाया गया और फिर वहां उस कोच को ट्रेन से अलग किया गया और उस कोच के यात्रियों को दूसरे कोच में बैठा कर टर्न रवाना किया गयाथा.
https://vidarbhaapla.com/

अयोध्या में राम मंदिर के लिए 25 को संघ करेगा शंखनाद

उसी दिन अयोध्या और बंगलुरु में हुंकार रैली का आयोजन, दिल्ली में 9 दिसंबर को नागपुर : अयोध्या में राम मंदिर निर्माण का शंखनाद आगामी 25 नवंबर को राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ नागपुर में "हुंकार सभा" में करने वाला है. उसी दिन नागपुर के साथ ही अयोध्या और बंगलुरु में भी हुंकार सभा आयोजित की जाएगी. इसके लिए संघ और उससे संबद्ध सभी संगठन एवं भारतीय जनता पार्टी के सभी विधायक और अन्य जनप्रतिनिधि काम पर जुट गए हैं. संघ के महर्षि सभागृह में बताई गई रूपरेखा शनिवार को रेशिमबाग स्थित संघ मुख्यालय स्मृति भवन के महर्षि व्यास सभागृह में विभिन्न संगठनों के 300 से अधिक प्रतिनिधियों की सभा में राम मंदिर आंदोलन की रूपरेखा तय कर दी गई. सभा में संघ के प्रांत कार्यवाह दीपक तामशेट्टीवार, महानगर संघचालक राजेश लोया, सह संघचालक श्रीधर गाडगे, विहिंप के प्रांत संगठन मंत्री अरुण नेटके, अजय निलदावार, सभा के संयोजक सनत गुप्ता और शहर के भाजपा के विधायक एवं महानगरपालिका के पदाधिकारी व अनेक नगरसेवक भी उपस्थित थे. नागपुर की हुंकार रैली में 80 हजार कार्यकर्ता होंगे शामिल निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार आगामी 25 नवंबर को अयोध्या, बंगलुरु और नागपुर में हुंकार सभा के बाद नई दिल्ली में अगले महीने 9 दिसंबर को 'महा-हुंकार सभा' का आयोजन किया जाएगा. नागपुर की संघभूमि में होने वाली हुंकार सभा में नागपुर सहित 6 संसदीय क्षेत्रों से करीब 80 हजार संघ और भाजपा से संबद्ध सभी संगठनों के कार्यकर्ता शामिल होंगे. आयोजन को सफल बनाने के लिए सभी विधायकों और स्थानीय स्वराज संस्था के जनप्रतिनिधियों को जिम्मेदारी सौंपी जा रही है. जरूरत पड़ी तो राम मंदिर के लिए 1992 की तरह का आंदोलन उल्लेखनीय है कि विजयादशमी महोत्सव के अवसर पर संघ के कार्यक्रम में संघ प्रमुख डॉ. मोहन भागवत ने सरकार को अयोध्या में राम मंदिर बनाने के लिए संसद में क़ानून बनाने का सुझाव देकर संघ की मंशा स्पष्ट कर दी थी. उसके बाद ही संघ के अखिल भारतीय कार्यकारिणी मंडल की बैठक के उपरान्त सरकार्यवाह भय्याजी जोशी ने एक कदम आगे बढ़ कर यह घोषित कर दिया था कि 'जरूरत पड़ी तो राम मंदिर के लिए 1992 की तरह का आंदोलन शुरू किया जाएगा.' इसके साथ ही संघ के विदर्भ प्रांत इकाई की ओर से दिवाली के शुभेच्छा पत्र (ग्रीटिंग कार्ड) के माध्यम से राम मंदिर निर्माण के लिए आगे कदम बढ़ाने का संकेत भी देने का काम कर दिया. नागपुर में साध्वी ऋतुंभरा भरेंगी हुंकार निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार स्थानीय हनुमान नगर स्थित क्रीड़ा चौक पर होने वाली हुंकार सभा में साध्वी ऋतुंभरा प्रमुख रूप से उपस्थित रहेंगी. उनके साथ ही विश्व हिंदू परिषद और बजरंग दल जैसे संगठनों के वरिष्ठ नेतागण भी शामिल होंगे.