विदर्भ के सभी 11 जिलों में पृथक राज्य के लिए शुरू होगा 2 अक्टूबर से आंदोलन

0
127

2019 के चुनावों के पूर्व पृथक विदर्भ राज्य की घोषणा करने की विदर्भ राज्य आंदोलन समिति की मांग

नागपुर : गोंदिया जिले के तिरोड़ा में विदर्भ राज्य आंदोलन समिति ने आगामी 2 अक्टूबर से पूरे विदर्भ में सामूहिक उपवास और आंदोलन में भाग लेने का आह्वान समस्त विदर्भवासियों से किया. तिरोड़ा में आयोजित समिति की बैठक में पूरे विदर्भ के सभी 11 जिलों और 120 तहसीलों में आंदोलन की रूपरेखा पर विचार-विनिमय किया गया. इसमें विदर्भ राज्य आंदोलन समिति के पदाधिकारी एवं सदस्य शामिल थे.

समिति के प्रधान संयोजक राम नेवले ने इस अवसर पर कहा कि विदर्भ के विकास का मार्ग तभी प्रशस्त होगा जब विदर्भ पृथक राज्य बनेगा. उन्होंने कहा कि अलग राज्य बनाने पर ही सिंचाई का अनुशेष पूर्ण होना संभव है, तभी विदर्भ में रोजगार के अवसर बढ़ेंगे और उद्योगों की आधी दर पर बिजली मिल सकेगी. उन्होंने सरकार से मांग की कि वह 2019 के चुनावों के पूर्व पृथक विदर्भ राज्य की घोषणा करे.

इस अवसर पर पश्चिम विदर्भ महिला आघाड़ी की अध्यक्ष रंजना बांबर्डे, पत्रकार संघ के अध्यक्ष डी.आर. गिरीपुंजे, जिला महिला आघाड़ी की अध्यक्ष अधि. माधुरी रहांगडाले, तहसील संयोजक जगन्नाथ पारधी, बी.यू. बिसेन, कमल कापसे, राजेश तायवाड़े,शहर प्रमुख बाबुराव डोमले, तहसील महिला आघाड़ी की अध्यक्ष उत्तरा भोंगाडे, रामकृष्ण आगाशे, रमेश वंजारी, भोजराम तुरकर, इंदू भोंगाडे, सुमित्रा वालदे, सुनिता पुराडे, यशवंत बावनकर, सुनील बारापात्रे, सुरेश धुर्वे, सरपंच जगदेव आमकर आदि उपस्थित थे.

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY