साबरमती आश्रम में सरकार : विरोध में सेवाग्राम से चली संदेश यात्रा 

0
525
साबरमती आश्रम

तिलक, आंबेडकर और गांधी प्रतिमाओं को नमन कर गांधी जन चल पड़े सेवाग्राम से साबरमती

 
*MS Delhi Desk
महात्मा गांधी
के प्रसिद्ध साबरमती आश्रम के स्वरूप में बदलाव के विरुद्ध गांधी जनों द्वारा निकाली गई सेवाग्राम से साबरमती संदेश यात्रा की दूसरे दिन, 18 अक्टूबर 2021 को खामगांव में ऐतिहासिक सभा हुई. यात्रा स्वतंत्रता सेनानी बाल गंगाधर तिलक, बाबा साहब भीमराव आंबेडकर और महात्मा गांधी की प्रतिमाओं को नमन करते और अपनी प्रतिबद्धता को प्रगाढ़ करते हुए आगे बढ़ी.
साबरमती आश्रम
सभा में गांधी शांति प्रतिष्ठान के अध्यक्ष कुमार प्रशांत और यात्रा के संयोजक गांधी स्मारक निधि के सचिव संजोय सिम्हा ने कहा कि हम सरकार को राष्ट्रीय धरोहरों को नष्ट करने का अधिकार नहीं दे सकते. साबरमती आश्रम उस ऐतिहासिक नमक आंदोलन का गवाह है, जिसने अंग्रेजी साम्राज्यवाद की चूलें हिला दी थी. यह देश के लिए श्रद्धा और प्रेरणा का स्थान है. हम इसे सत्ताधीशों की सनक का शिकार नहीं बनने देंगे.

सेवाग्राम-साबरमती संदेश यात्रा के संयोजक संजोय सिम्हा ने कहा कि महात्‍मा गांधी हमेशा ही उस विश्‍व के लिए एक प्रेरणा स्रोत बने रहेंगे, जिसमें हम रहते हैं. यही वे बातें थीं, जिन पर मार्टिन लूथर किंग का अटूट विश्वास था और मैं उद्धृत करता हूं- ”यदि मानवता को प्रगति करनी है, तो गांधी के मार्ग से बचा नहीं जा सकता.” उन्होंने अपना जीवन जिया, विचार किया और उसी के हिसाब से कार्य किया, जो शांति एवं सामंजस्य के एक विश्व की दिशा में उभरती मानवता का आदर्श था. हम गांधी जी को अपने जोखिम पर ही नजरअंदाज कर सकते हैं. इस अवसर पर राजेंद्र सिंह राणा, आशा बोथरा, सुगन जी, अशोक भारत, डॉ विश्वजीत, शेख हुसैन, अरविंद कुशवाहा आदि लोगों ने भी अपनी बात रखी.

जगह-जगह सर्वधर्म प्रार्थना
साबरमती आश्रम यात्रा के आयोजन में गांधी स्मारक निधि, गांधी शांति प्रतिष्ठान, सर्व सेवा संघ, सेवा ग्राम आश्रम प्रतिष्ठान, सर्वोदय समाज, राष्ट्रीय गांधी संग्रहालय, नई तालीम समिति, राष्ट्रीय युवा संगठन, जल बिरादरी, महाराष्ट्र सर्वोदय मंडल तथा गुजरात की सर्वोदय संस्थाएं शामिल हैं. यात्रा में जगह-जगह सर्वधर्म प्रार्थना, गोष्ठी, जन संवाद एवं आदि कार्यक्रम आयोजित किए जा रहे हैं.

बुलढाणा जिला सर्वोदय मंडल, तिलक राष्ट्रीय विद्यालय, शंकर महर्षि भास्कर राव सिंघने आर्ट्स कॉलेज, खामगांव, तरुण फाउंडेशन, इन चारों के संयुक्त आयोजन में सेवाग्राम साबरमती आश्रम संदेश यात्रा का वह आयोजन संस्था के सचिव देशमुख जी, सुधाकर राव जी एवं स्थानिक सर्वोदय के कार्यकर्ताओं ने स्थानीय आयोजन करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई और आभार व्यक्त किया.
साबरमती आश्रम
बुलढाणा जिला सर्वोदय मंडल, तिलक राष्ट्रीय विद्यालय, शंकर महर्षि भास्कर राव सिंघने आर्ट्स कॉलेज, खामगांव, तरुण फाउंडेशन, इन चारों के संयुक्त आयोजन में सेवाग्राम साबरमती संदेश यात्रा का वह आयोजन संस्था के सचिव देशमुख जी, सुधाकर राव जी एवं स्थानिक सर्वोदय के कार्यकर्ताओं ने स्थानीय आयोजन करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई और आभार व्यक्त किया.

सोमवार की सुबह बेहद खास थी, यात्रियों ने सबसे पहले तिलक महाराज की प्रतिमा पर माल्यार्पण व दर्शन करने के बाद बाबा साहब आंबेडकर की प्रतिमा पर पहुंचे, वहां माल्यार्पण और दर्शन के उपरांत गांधी जी की प्रतिमा पर पहुंचे, यह बेहद ही खास और रोमांचकारी अनुभव रहा, जब देश के तीन तीन महापुरुषों की अदृश्य उपस्थिति से प्रेरणा और शक्ति लेकर यात्रियों का संकल्प और मजबूत हुआ.

यहां भी भारी संख्या में लोग जुटे. उपस्थित जनसमूह को सम्बोधित करते हुए वक्ताओं ने कहा कि 73 वर्ष पूर्व एक हत्यारे की एक गोली ने महात्मा गांधी की आवाज को सदा के लिए खामोश कर दिया था. उनके पार्थिव शरीर को अग्नि को समर्पित कर दिया गया था, परन्तु उस संदेश को नहीं मिटाया जा सका, जिसके लिए उन्होंने अपना जीवन जिया और शहीद हुए. आज उनकी विरासत को बचाने का हमारा सामूहिक प्रयत्न अवश्य फलीभूत होगा.

अकोला से खामगांव
साबरमती आश्रम सन्देश यात्रा अकोला से निकलकर खामगांव पहुंची. शहर के बाहर ही सभी लोग बस से उतरकर हाथ में बैनर लिए पैदल मार्च करते हुए नारे और गीत के साथ तिलक चौक पहुंचे. वहां पर महापुरुष लोकमान्य बाल गंगाधर तिलक की प्रतिमा पर माल्यार्पण किया गया व उनकी मूर्ति की सफाई की गई. इसके बाद संविधान चौक पहुंचकर गांधी बगीचा में राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के पुतले को बच्चों के हाथों से माल्यार्पण कराया गया. यहां स्थानीय साथियों व तरुणाई फाउंडेशन द्वारा यात्रियों को अल्पाहार कराया गया. वहां से स्वर्गीय भास्कर राव शिंगणे कॉलेज के लिए प्रस्थान हुआ.

NO COMMENTS