सख्त पाबंदी या लॉकडाउन का मंडराया महाराष्ट्र पर साया

0
555
दूसरा साल

मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे मुखातिब होंगे राज्य की जनता से

मुंबई : कोरोना के बढ़ते संक्रमण के बीच महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे आज रविवार शाम सात बजे राज्य की जनता से मुखातिब होंगे. अनुमान है कि सीएम ठाकरे लॉकडाउन या सख्त पाबंदी जैसे कुछ कदमों का ऐलान कर सकते हैं.

यवतमाल और अमरावती में पहले ही लग चुका है लॉकडाउन
बढ़ते मामलों से चिंतित विदर्भ के यवतमाल जिला प्रशासन ने 16 फरवरी की रात से दस दिवसीय लॉकडाउन का आदेश दिया था. इससे पहले दिन में, इसी विदर्भ क्षेत्र के अमरावती जिले में शनिवार रात 8 बजे से सोमवार सुबह 7 बजे तक सप्ताहांत लॉकडाउन की घोषणा भी की गई थी. वर्धा और अकोला जिले में कोरोना  संक्रमण  पकड़ रहा है.

कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए यह अनुमान लगाया जा रहा है महाराष्ट्र में फिर से लॉकडाउन लगाया जा सकता है. पिछले दिनों मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने इसके संकेत भी दिए थे. उन्होंने कोरोना मरीजों में बढ़ोतरी पर चिंता जाहिर करते हुए पिछले 16 फरवरी को कहा था कि नागरिक मास्क पहनने और उचित दूरी का पालन करने जैसे निर्देशों का सख्ती से पालन करें या एक बार फिर लॉकडाउन का सामना करने के लिए तैयार रहें.

‘लॉकडाउन जरूरी नहीं; दोहरा मास्क लगाने, सूक्ष्म निरुद्ध क्षेत्र बनाने की जरूरत’
दूसरी ओर, महाराष्ट्र सरकार के कोविड-19 कार्यबल के एक वरिष्ठ सदस्य ने 20 फरवरी को कहा कि लॉकडाउन एक बहुत सख्त उपाय है. वायरस को फैलने से रोकने में इसकी प्रभावकारिता अब सीमित है.

कार्यबल के सदस्य और चिकित्सक डॉ. शशांक जोशी के मुताबिक ‘दोहरा मास्क पहनने’ (चेहरे को ढंकने के लिए दोहरे स्तर का मास्क पहनने) और सूक्ष्म निरुद्ध क्षेत्रों को बढ़ावा देना प्रभावी हो सकता है. महाराष्ट्र में इस महीने संक्रमण में बढ़ोतरी देखी जा रही है.

उन्होंने एक पैनल चर्चा में कहा, ‘लॉकडाउन बहुत सख्त उपाय है. यह (लागू करना) आसान प्रतीत होता है, लेकिन इसकी जरूरत नहीं है और रात्रि कर्फ्यू लगाने का कोई मतलब नहीं है.’

NO COMMENTS