धान की नई प्रजाति ‘पार्वतीसुत-27’ बनी किसानों की पसंद

125 दिनों में "पार्वतीसुत-27" प्रजाति का यह धान तैयार हो जाता है. कम दिनों में उत्पादन देने वाले इस प्रजाति के धान के चावल के दाने छोटे हैं, किन्तु सुगन्धित हैं. किसानों ने इसे बहुत पसंद किया है...

0
1098

चंद्रपुर के किसान सुधाकर पोशेट्टीवार ने किया विकसित, “आत्मा” कर रहा प्रोत्साहित

नागपुर : चंद्रपुर के प्रगतिशील किसान सुधाकर पोशेट्टीवार द्वारा विकसित धान की एक नई प्रजाति “पार्वतीसुत-27” को नागपुर जिले में व्यापक समर्थन मिल रहा है. जिले के 200 एकड़ खेतों में इसकी रोपनी की गई है. पिछले वर्ष प्रायोगिक तौर पर 170 एकड़ खेती में इसकी रोपनी की गई थी. 20 हेक्टेयर खेती में इसकी फसल से 1,360 क्विंटल धान का उत्पादन हुआ है. प्रति हेक्टेयर 20 क्विंटल इसकी फसल आई.

चावल के दाने छोटे, किन्तु सुगन्धित हैं
‘आत्मा’ की परियोजना निदेशक डॉ. नलिनी भोयर ने बताया कि 125 दिनों में “पार्वतीसुत-27” प्रजाति का यह धान तैयार हो जाता है. कम दिनों में उत्पादन देने वाले इस प्रजाति के धान के चावल के दाने छोटे हैं, किन्तु सुगन्धित हैं. किसानों ने इसे बहुत पसंद किया है. उन्होंने बताया कि हाल ही में यहां नागपुर में आयोजित ‘धान्य (अनाज) महोत्सव’ में इसका चावल 70 रुपए प्रति किलो की दर से बिका.

किसानों को मिला इसके गुणधर्म और गुणवत्ता का अंदाजा
डॉ. भोयर ने बताया कि आत्मा की ओर से धान की इस प्रजाति के बीज नागपुर जिले के मौदा, उमरेड, कुही, रामटेक, पारशिवनी आदि तहसीलों के किसानों को रोपनी के लिए उपलब्ध कराया गया है. पहली रोपनी के बाद ही किसानों को इसके गुणधर्म और गुणवत्ता का अंदाजा मिल गया है. डॉ. भोयर ने विश्वास व्यक्त किया की आने वाले दिनों में अधिक से अधिक चावल उत्पादक क्षेत्र के किसान इसके बीजों का उपयोग कर अपनी आय बढ़ाने के लिए प्रोत्साहित होंगे.

NO COMMENTS