भारतीय ऊर्जा-जरूरतों की रीढ़ है कोयला : मिश्र

0
256
कोयला

नागपुर : देश के विकास में कोयले की बहुत बड़ी भूमिका है. कोयला भारतीय ऊर्जा-जरूरतों की रीढ़ है. देश को विकसित देशों की श्रेणी में ले जाने में कोयले की महत्वपूर्ण भूमिका है. कोयला उत्खनन में लगे लोगों को एक मंच पर आकर आधुनिक तकनीकों का उपयोग करते हुए और आगे लेकर जाने का मार्ग तैयार करना है, ताकि देश की ऊर्जा पूर्ति कुशलतापूर्वक सुनिश्चित की जा सके. यह बात वेस्टर्न कोल फील्ड्स लिमिटेड (वेकोलि) के अध्यक्ष-सह-प्रबन्ध निदेशक (सीएमडी) राजीव रंजन मिश्र ने एक तीन दिवसीय नेशनल कॉन्फ्रेंस एंड एक्सपो में कही. 
कोयला
मिश्र ने बताया कि TEAM WCL ने कोयला उत्पादन के साथ-साथ ईको माइन पर्यटन, Over Burden से रेत अलग करने, कोल नीर (पेयजल) आदि तैयार करने के क्षेत्रों में महत्वपूर्ण कार्य किए हैं. सीएमडी मिश्र शनिवार, 19 अक्टूबर को Indian Mine Managers’ Association -NAGPUR BRANCH, VNIT MINNING ALUMNI ASSOCIATION और SHRI RAMDEOBABA COLLEGE OF ENGINEERING AND MANAGEMENT द्वारा आयोजित तीन दिवसीय नेशनल कॉन्फ्रेंस एंड एक्सपो में मुख्य अतिथि के रूप में शुभारम्भ किया. कॉन्फ्रेंस की थीम थी – “Advances in Mining and Geotechnical Engineering”

इस अवसर पर नागपुर के जाने माने शिक्षाविद गोविंद प्रसाद अग्रवाल ने कार्यक्रम की अध्यक्षता की. MOIL के निदेशक तकनीकी दीपांकर सोम विशिष्ट अतिथि थे. IMMA  के अध्यक्ष आर.सी. सनोडिया ने स्वागत भाषण किया. प्रस्ताविक सम्बोधन आयोजन समिति के अध्यक्ष डी. एम. गोखले ने किया. कार्यक्रम में अतिथियों ने एक स्मारिका का भी विमोचन किया. धन्यवाद ज्ञापन आयोजन सचिव श्री मनोज एस तिवारी ने किया. समारोह में विभिन्न क्षेत्रों के जाने माने खनन अभियंता उपस्थित थे.

NO COMMENTS