फरियादी पति ही निकला पत्नी का कातिल, 33 दिनों की छानबीन के बाद आया पकड़ में

0
1663

पुलगांव (वर्धा) : स्थानीय रेलवे क्वाटर तारफैल निवासी धीरज तुलसीदास जांभुलकर (43) को अपनी पत्नी भारती पर 15 सितम्बर की हत्या के आरोप में कल 18 अक्टूबर को गिरफ्तार कर 22 अक्टूबर तक की पुलिस हिरासत में लिया. उल्लेखनीय है कि इस हत्या का फरियादी भारती का पति स्वयं धीरज जांभुलकर ही था.

धीरज ने ही पीछे महीने 15 सितंबर को पुलगांव पुलिस को बताया था कि उसकी पत्नी की हत्या किसी अज्ञात व्यक्ति ने उसके रेलवे क्वाटर क्रमांक आर.बी. 24 ई में घुस कर धारदार हथियार से उसके गले, चेहरे, आंखों, और हाथ पर वार कर कर दी. उसकी शिकायत पर पुलिस ने मामला दर्ज जांच शुरू कर दी. लेकिन अपराध की गंभीरता को देखते हुए पुलिस अधीक्षक ने पुलगांव पुलिस के सहयोग के लिए क्राइम ब्रांच को भी लगाया.

पूरे 33 दिनों तक जांच के सभी पहलुओं की बारीकी से छानबीन और खबरियों के माध्यम से पूछताछ के साथ ही प्रत्यक्ष और परोक्ष रूप से प्राप्त साक्ष्य की सभी ऐंगल से जांच और धीरज और उसके मित्रों, रिश्तेदारों, पड़ोसियों आदि से मिली जानकारी के बाद अंततः जांच दल ने पाया कि फरियादी पति धीरज ही इस हत्या का आरोपी है. इसके बाद पुलिस ने धीरज को 18 अक्टूबर को गिरफ्तार कर लिया. इसके साथ ही उसे अदालत में पेश कर 22 अक्टूबर तक के लिए पुलिस हिरासत में लिया.

इस मामले की जांच पुलिस निरीक्षक निलेश ब्राम्हणे, स्थानीय क्राइम ब्रांच, वर्धा पुलिस निरीक्षक एम.पी. बुराडे, पुलगांव थाने के पु.उप.नि. महेंद्र इंगले, स.फौ. नामदेव किटे, हवलदार सलाम कुरेशी, नरेंद्र डहाके, स्वप्निल भारद्वाज, मनीष श्रीवास, वैभव कट्टोजवार, अमित शुक्ला, जगदीश डफ, सचिन खैरकार और पुलगांव के हवलदार विवेक बन्सोड, रविंद्र मुजबैले, अमोल आत्राम, किसना कास्देकर और विकास मुंडे ने पुलिस अधीक्षक डॉ. बसवराज तेली, अपर पुलिस अधीक्षक निखिल पिंगले, उपविभागीय पुलिस अधिकारी डॉ. दिनेश कुमार कोल्हे के मार्गदर्शन में किया और सही आरोपी का पता लगा कर उसे गिरफ्तार करने में सफलता प्राप्त की.

NO COMMENTS