चोरों के लिए स्वर्ग बना कोंढाली का एसटी बस स्थानक

0
2914
अवैध दुकानों के अतिक्रमण से घिरा कोंढाली का एसटी बस स्थानक.

आए दिन लुट रहे हैं बस यात्री, सुरक्षा व्यवस्था है तार-तार

ब्रजेश तिवारी
कोंढाली (नागपुर) :
नागपुर-अमरावती नेशनल हाइवे पर स्थित कोंढाली का एसटी बस स्थानक महाराष्ट्र राज्य परिवहन महामंडल और शासन की उपेक्षा का शिकार बना हुआ है. चोरी और अन्य आपराधिक वारदातों के कारण यह बस स्थानक अब यात्रियों के लिए खतरनाक बनाता जा रहा है.

स्थानीय एसटी बसस्टैड पर यात्रियों के लिए आवश्यक सुरक्षा दीवार, वाहनतल का डामरीकरण आदि आवश्यक बुनियादी सुविधा न होने के कारण यात्रियों को भारी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है. सुरक्षा दीवार के अभाव में कोंढाली बस स्थानक कास्वरूप को झोपड़पट्टी सा हो गया है. यात्रियों के लाखों के जेवर तथा पर्स आदी चोरी जाने के बावजूद एसटी के वरिष्ठ अधिकारी ऐसी गंभीर समस्या की ओर ध्यान देने को तैयार नहीं हैं. राष्ट्रवादी युवक कांग्रेस एसटी महामंडल, पालक मंत्री और स्थानीय विधायक की निष्क्रियता के विरुद्ध जोरदार आंदोलन करने की तैयारी कर रहा है.

नागपुर-अमरावती महामार्ग पर कोंढाली का यह बस स्थानक अत्यंत महत्वपूर्ण है. यहां विदर्भ तमाम शहरों जिलों भंडारा, गोंदिया, नागपुर, वर्धा, अमरावती, अकोला, बुलडाणा सहित औरगाबाद, पुणे से आने और जाने वाली लगभग 800 एसटी बसें रात-दिन ठहरा करती हैं. इन बसों से हजारों यात्री प्रतिदिन सफर करते हैं. लेकिन बस स्थानक बिलकुल लावारिश है.

पालक मंत्री और विधायक ने पूरा नहीं किया विकास जल्द से जल्द कराने के जो वादे
बस स्थानक की बिल्डिंग चार वर्ष पूर्व वर्षों पहले से बनते हुए पूरा हुआ है. पूर्व मंत्री एवं काटोल के पूर्व विधायक विधायक अनिल देशमुख के प्रयास से 57 लाख रुपए की लागत से इस एसटी बस स्थानक के भवन का निर्माण चार वर्ष पूर्व जब पूरा हुआ तो लोकार्पण नागपुर जिले के पालक मंत्री चंद्रशेखर बावनकुले ने काटोल के विधायक डॉ. आशिष देशमुख की उपस्थिति में किया था. इस अवसर पर पालक मंत्री और विधायक ने बस स्थानक का सम्पूर्ण विकास जल्द से जल्द कराने का आश्वासन दिया था. इसके अंतर्गत बसस्टैड का डामरीकरण, सुरक्षा दीवार, सुलभ शौचालय, यात्रियों की सुविधा के सभी संसाधन आदि पूरा करने का आश्वासन दिया गया. लेकिन न तो पालक मंत्री और न विधायक डॉ. देशमुख ने वापस मुड़ कर देखने की जुर्रत की है कि उन्होंने कोंढाली बस स्थानक विकास के जो वादे किए थे, वह पूरा भी हो पाया अथवा नहीं.

कोंढाली बस स्थानक के सामने सुरक्षा दीवार नहीं होने से बस स्थानक की भूमि का अतिक्रमण कर कई अवैध दुकानें चल पड़ी हैं. एसटी ने कोंढाली की प्रगति महिला बचत गुट को एसटी कैंटीन चलाने के लिए 30 हजार रुपए मासिक भाड़े दिया था. लेकिन अवैध दुकानों के कारण बचत गुट को कैंटीन पिछले 1 अप्रेल 2018 से बंद करनी पड़ी. क्यों कि अवैध दुकानदार फ़ौज वहां जमी रहती है. बसों में घुस कर वे सामन बेचते हैं. कैंटीन तक यात्री पहुंच ही नहीं पाते.

अवैध दुकानदार अपने लड़कों के माध्यम से स्थानक पर रुकने वाले बसों में घुस कर सामान बेचते हैं. इन्हीं के साथ बसों में चोर-उच्चके भी घुस कर यात्रियों के कीमती सामन उड़ा ले जाते हैं. सुरक्षा का प्रबंध नहीं होने और अवैध धंधेबाजों पर कोई रोक नहीं होने से यहां ऐसी आपराधिक वारदातें बढ़ती जा रही हैं. बस यात्रियों को बस खुल जाने अथवा गंतव्य तक पहुंच जाने पर चोरी का पता चल पाता है, अतः यहां चोरी के मामले सामने भी नहीं आ पाते हैं.

हाल ही में अमरावती की एक महिला के लगभग तीन लाख रुपए के सोने के जेवर कोंढाली स्थानक से काटोल की बस में चढ़ते समय चोरी हो गए. उसके पहले दिन भी कोंढाली की एक महिला के जेवरों की चोरी तथा पॉकिटमारी की घटना हुई. बस स्थानक के सामने सुरक्षा दीवार नहीं होने से चोर कहीं से भी घुसकर यात्रियों के माल पर हाथ साफ कर बाहर निकल जाते है.

कोंढाली पुलिस भी भारी परेशान है, क्योंकि बस स्थानक पर न तो एसटी का सुरक्षा रक्षक है और न सीसीटीवी कैमरे ही हैं. वाहनतल का डामरीकरण तक नहीं किया गया है. बसों के आते ही स्थानक में धूल और मिट्टी ऐसी उड़ती है, मानो धुएं का बवंडर हो.

कोंढाली बस स्थानक की समस्याओं के विषय में एसटी के नागपुर विभाग के नियंत्रक वरठी से संपर्क करने पर उन्होंने बताया कि कोंढाली बस स्थानक की सुरक्षा दीवार की ई-निविदा जारी की गई है. काम जल्द ही शुरू किया जाएगा. इधर राष्ट्रवादी युवक कांग्रेस के युवा नेता सलील देशमुख के नैतृत्व मे कोंढाली बस स्थानक पर तीव्र आंदोलन करने की चेतावनी राष्ट्रवादी युवक कांग्रेस के अकाश गजबे ने दी है.

NO COMMENTS