गढ़चिरोली जिले में 14 नक्सलियों का खात्मा

0
1623
symbolic picture.

बोरिया जंगल में सी-60 पुलिस दल पर हुए नक्सली हमले के बाद जवाबी कार्रवाई, 38 वर्षों में तीसरी बड़ी सफलता

गढ़चिरोली (महाराष्ट्र) : नक्सलवाद विरोधी अभियान के अंतर्गत पुलिस ने यहां पिछले 34 वर्षों में तीसरी बड़ी सफलता हासिल की है. पुलिस कार्रवाई में आज रविवार, 22 अप्रैल को भामरागढ़-एटापल्ली तहसील के सीमावर्ती बोरिया जंगल में सी-60 पुलिस दल पर हुए नक्सली हमले के बाद जवाबी कार्रवाई में 14 नक्सली मारे गए.

मृतकों में नक्सल कमांडरों के भी होने का अनुमान
मृत नक्सलियों में नक्सल जोनल समिति के सदस्य साईनाथ, सिनु और अन्य कई कमांडरों के भी शामिल होने का अनुमान है. इससे पूर्व इसी माह 3 अप्रैल को पुलिस ने 3 नक्सलियों को मार गिराया था. इस वर्ष जनवरी से आज तक की पुलिस कार्रवाई में कुल 21 नक्सली मारे जा चुके हैं.

9.30 बजे शुरू हुई मुठभेड़ दोपहर 2 बजे ख़त्म हुई
सुबह करीब 9.30 बजे शुरू हुई यह मुठभेड़ दोपहर 2 बजे ख़त्म हुई. नक्सल विरोधी अभियान के महानिरीक्षक शरद शेलार से प्राप्त जानकारी के अनुसार भागरागढ़ पुलिस स्टेशन की सीमा स्थित बोरिया जंगल में नक्सल विरोधी अभियान के पुलिस दल के जवान गश्त पर थे. इसी बीच सुबह 9.30 बजे पुलिस दल पर नक्सलियों ने गोलीबारी शुरू कर दी.

हमला होते ही जवानों ने मोर्चा संभाला
महानिरीक्षक शेलार के अनुसार पुलिस दल को पहले से क्षेत्र में नक्सलियों के होने की जानकारी थी. इसलिए जवान पहले से सतर्क थे. नक्सलियों की ओर से हमला होते ही जवानों ने मोर्चा संभाल लिया और जवाबी कार्रवाई शुरू कर दी. सुबह 9.30 बजे से दोपहर 1 बजे तक चली कार्रवाई में नक्सली अपने मृत और जख्मी साथियों को ले कर पीछे हटने लगे. इसके बाद पुलिस ने तलाशी शुरू की तो 2 बजे तक वे पुलिस दल पर गोलीबारी करते रहे.

बाद में पुलिस ने मुठभेड़ स्थल से नक्सलियों के 14 शव और हथियार एवं अन्य सामग्रियां बरामद की. मृत नक्सलियों में नक्सल जोनल समिति के सदस्य साईनाथ, सिनु और अन्य कई कमांडरों के भी शामिल होने का अनुमान है.

मृत नक्सलियों के शवों को हेलिकॉप्टर से गढ़चिरोली लाया गया
कार्रवाई की जानकारी मिलते ही पुलिस अधीक्षक डॉ. अभिनव देशमुख हेलिकॉप्टर से भामरागढ़ के लिए रवाना हुए. सभी मृत नक्सलियों के शवों को उसी हेलिकॉप्टर से गढ़चिरोली लाया गया है. उपमहानिरिक्षक अंकुश शिंदे ने बताया कि इस वर्ष जनवरी से आज तक की पुलिस कार्रवाई में कुल 21 नक्सली मारे जा चुके हैं.

पिछले 38 वर्षों में नक्सल विरोधी अभियान के सी-60 पुलिस दल की यह तीसरी बड़ी सफलता है. इससे पूर्व 2013 में अहेरी तहसील के गोविंदगांव में पुलिस के साथ मुठभेड़ में 6 नक्सली मारे गए थे. उसके बाद 6 दिसंबर 2017 को सिंरोंचा तहसील के कल्लेड में 7 नक्सलियों को मार गिराया गया था.

NO COMMENTS