देश के 7 करोड़ विकलांगों को निराश किया वित्त मंत्री के बजट ने

0
159
सुप्रसिद्ध समाजसेवी शंकरबाबा पापालकर.

समाजसेवी शंकरबाबा पापालकर की तीखी प्रतिक्रिया

अमरावती : ‘पिछले शुक्रवार को वित्त मंत्री द्वारा पेश बजट ने देश भर के 7 करोड़ विकलांगों को घोर निराश किया है.’ यह तीखी प्रतिक्रिया यहां वरिष्ठ समाजसेवी शंकरबाबा पापलकर ने व्यक्त की.

उन्होंने इस बात पर गंभीर चिंता जताई है कि सरकार तो क्या, देश के विकलांगों के इतने बड़े घटक की उपेक्षा पर किसी समाजसेवी अथवा राजनेता ने भी कोई प्रतिक्रिया व्यक्त करना जरूरी नहीं समझा. जब कि विकलांगों की इतनी बड़ी आबादी विपन्नावस्था में बेहद कठिन जीवन जीने को बाध्य हैं.

शंकरबाबा के अनुसार पहले विकलांगों को कर्ज देकर उन्हें अपने पैरों पर खड़ा करने के लिए सरकार ने योजना लाई थी, लेकिन ऐसी योजना से उनकी समस्या का निदान संभव नहीं है. उन्होंने कहा कि इन उपेक्षितों के लिए महाराष्ट्र शासन ने नौकरियों में 1 प्रतिशत आरक्षण घोषित किया है. किन्तु राज्य में उनकी संख्या को देखते हुए इस 1 प्रतिशत आरक्षण से 10 हजार से अधिक विकलांगों को नौकरी मिलना संभव नहीं है.

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY