अवसाद पर काबू पाना इतना सरल है क्या?

0
1031
अवसाद

धारणाएं, आदतें और संवेदनाएं बदलने से बहुत कुछ बन जाता है जीवन में सुन्दर

10 सितंबर : आत्महत्या रोकथाम दिवस पर प्रवीण टाके – 
आलेख : जीवन में हमेशा कुछ न कुछ चाहा-अनचाहा घटता ही रहता है और यह हमारी मनःस्थिति को प्रभावित भी करता है. यह प्रभाव कभी अस्थायी तो कभी लंबे समय तक चलने वाला होता है. अनचाही घटना, यदि लंबे समय तक मन में बनी रहे तो यह अवसाद के रूप में गंभीर मानसिक बीमारी का कारण बन सकता है. इसमें वही नकारात्मक विचार जैसे- पश्चाताप, अपराधबोध, भविष्य के बारे में अनुचित चिंताएं, आप बेकार हैं, आपका जीवन व्यर्थ है. ऐसा लगता है कि जीने का कोई मतलब नहीं है. बाद में, ये विचार आपको आत्म-विलुप्त होने की मानसिक स्थिति में ले जाते हैं.

इस स्थिति के मुख्य लक्षण अनिद्रा, भूख न लगना, सुबह उठने के बाद अस्वस्थ महसूस करना, संभोग की इच्छा में कमी आदि हैं. साथ ही बेचैनी ही बेचैनी. अस्वस्थता की भावना या एकाग्रता की कमी, निर्णय लेने में कठिनाई जैसी स्थितियां घर कर जाती हैं.  

संभव है ऐसी बीमारियों का इलाज
लेकिन, इन सभी बीमारियों का इलाज संभव है. यह सुविधा अब नागपुर के क्षेत्रीय मनोरोग अस्पताल और सभी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों में उपलब्ध है. 10 सितंबर आत्महत्या रोकथाम दिवस है. वर्तमान में जिला मानसिक स्वास्थ्य कार्यक्रम के तहत जिले में आत्महत्या रोकथाम के उपाय लागू किए जा रहे हैं. प्रशासन बड़ी संख्या में मरीजों से इसमें भाग लेने की अपील कर रहा है.

सटीक लक्षण
आइए अब सटीक लक्षणों को समझते हैं. किसी घटना के बाद कुछ दिनों तक उदास रहना स्वाभाविक है. लेकिन जरूरी नहीं कि हर बार ऐसा ही हो. कभी-कभी बिना किसी स्पष्ट कारण के अवसाद हो सकता है. यह मुख्य रूप से मस्तिष्क में रासायनिक परिवर्तन (सेरोटोनिन और नोरेपीहेफ्रिन) के कारण होता है. कभी-कभी यह आनुवंशिकता के कारण होता है. बच्चे के जन्म के बाद होने वाले हार्मोनल परिवर्तन कई महिलाओं में इसका कारण बनते हैं. पार्किंसंस और हाइपोथायरायडिज्म जैसी कुछ शारीरिक बीमारियां भी अवसाद के लक्षण पैदा कर सकती हैं. कुछ रक्तचाप की दवाएं, स्टेरॉयड और कुछ पित्त संबंधी दवाएं भी लक्षण पैदा कर सकती हैं. बचपन में हुई किसी दुर्भाग्यपूर्ण घटना के कारण भी अवसाद हो सकता है.

अवसाद (डिप्रेशन) के लक्षण कमोबेश एक जैसे ही होते हैं. जब अवसाद की दर और गंभीरता अधिक होती है, तो व्यक्ति काफी बदल जाता है. लेकिन अगर यह कम हो तो व्यक्ति में बदलाव इतने धीमे होते हैं कि उसे पता ही नहीं चलता कि वह बीमार है. मूल रूप से, यदि क्षमता अधिक है, तो वह अपनी जिम्मेदारियों को पूरा करता रहेगा. ऐसे लोगों का व्यवहार अनैतिक माना जाता है. यह ध्यान दिया जाना चाहिए कि तीव्र मानसिक दर्द सबसे महत्वपूर्ण लक्षण है.

डिप्रेशन के लक्षणों के तीन मुख्य प्रकार हैं –
मानसिक लक्षण : मानसिक लक्षण व्यक्ति को उदास और असहाय महसूस कराते हैं. इतना ही नहीं, वे अक्सर किसी भी घटना के लिए खुद को जिम्मेदार ठहराते हैं.

शारीरिक लक्षण : शारीरिक लक्षणों में अवसाद और थकान से पीड़ित व्यक्ति शामिल होता है. वे बहुत धीमी आवाज में बोलते हैं, उनके सोने का समय भी बदल गया लगता है. रात को देर से उठना और सुबह जल्दी न उठना जैसे प्रकार.

सामाजिक लक्षण : जब सामाजिक लक्षणों की बात आती है, तो ऐसे लोग लोगों और दोस्तों के संपर्क में आने से बचते हैं. वे समाज में कई गतिविधियों में भाग लेने से भी बचते हैं. वे अपनी दैनिक आदतों को भी बदलते हैं. वे परिवार में समय बिताने में भी सहज महसूस नहीं करते हैं.

इन आदतों से हो सकती है मानसिक बीमारी
1. बैठने का गलत तरीका : शोधकर्ताओं के अध्ययन के अनुसार, आपके बैठने का तरीका आपकी भावनात्मक प्रक्रिया को प्रभावित करता है. सख्ती से बैठा व्यक्ति सकारात्मक बोलता है. इसलिए जो झुकता है वह नकारात्मक बोलता है. यदि आप कभी भी चिंतित या निराश महसूस करते हैं तो अपने बैठने की स्थिति पर ध्यान दें और स्थिर बैठने की कोशिश करो.

2. स्मार्टफोन की लत : स्मार्टफोन की लत से अवसाद, चिंता और अनिद्रा हो सकती है. ऐसा शोधकर्ताओं का कहना है.

3. काम में हेराफेरी करना : अगर आपको काम में हेराफेरी करने की आदत है तो मौका चूकने की संभावना है. यह आपको वह हासिल करने से रोकता है, जो आपने करने के लिए निर्धारित किया था. यह आपके आत्मविश्वास और आत्म-सम्मान को आहत करता है. यह अवसाद की ओर ले जाता है.

4. सोशल मीडिया का अत्यधिक उपयोग : सोशल मीडिया पर अपडेट देखने से अवसाद, ईर्ष्या, अकेलेपन की भावना पैदा हो सकती है. उदा. हो सकता है कि आप किसी पार्टी में नहीं गए हों और दोस्तों द्वारा अपलोड किए गए फोटो, स्टेटस को देखकर आप उदास, निराश महसूस कर रहे हों.

5. यदि आप एक खराब रिश्ते का अनुभव कर रहे हैं : यदि आप किसी मित्र, सहकर्मी, प्रेमी / प्रेमिका या परिवार के किसी सदस्य के साथ खराब संबंध का अनुभव कर रहे हैं तो उस व्यक्ति से खुद को दूर रखें. अगर आप किसी रिश्ते में भावनात्मक रूप से आहत हैं, अगर आपके अंदर नकारात्मक भावनाएं हैं, तो इसका सीधा असर आपके मानसिक और भावनात्मक स्वास्थ्य पर पड़ता है.

6. व्यायाम की कमी : व्यायाम से एंडोर्फिन का उत्पादन होता है या शरीर में अच्छे हार्मोन महसूस होते हैं. कुछ रिपोर्टों के अनुसार, व्यायाम अवसाद के लक्षणों से लड़ने में मदद करता है. नियमित व्यायाम अवसाद के जोखिम को कम करता है. जब आप व्यायाम करना शुरू करें तो 30 मिनट पैदल या जॉगिंग करें. इसलिए शारीरिक स्वास्थ्य के साथ-साथ मानसिक स्वास्थ्य भी बना रहेगा.

अवसाद को दूर किया जा सकता है
हर किसी के अवसाद (डिप्रेशन) का कारण अलग होता है. लेकिन इसके लिए उपचार हैं. अन्य बीमारियों की तरह, रोगी उपचार के बाद पूरी तरह से ठीक हो सकता है. सबसे पहले, निदान जल्दी किया जाना चाहिए और यदि आवश्यक हो, तो आवश्यक परीक्षण किए जाने चाहिए.

1. सबसे पहले इस बात को स्वीकार करें कि आप उदास हैं.

2. दूसरी बात यह है कि इन बुरे समय में भी आपको यह विश्वास करना होगा कि आप पूरी तरह से ठीक हो जाएंगे और फिर से एक खुशहाल जीवन जी पाएंगे.

3. जीवन में जो भी अच्छी और छोटी चीजें हुई हैं, उन पर ध्यान दें. ऐसी चीजें खोजें जो आपके हौसले को बढ़ा दें.

4. बुरी चीजों से दूर रहना एक अच्छा लक्ष्य हासिल करने का एक शानदार तरीका हो सकता है.

5. सावधान रहें, सतर्क रहें, स्वयं को देखें और स्वयं प्रेरित रहें.

6. वापस तो आप निराश महसूस करने लगे कि आप अपनी पसंद की चीजें करते हैं या उस तरह की चीजें ढूंढते हैं.

7. जो आपके मन में सकारात्मक भाव पैदा करेगा।यदि आप अपने बारे में संदेह रखते हैं और उदास महसूस करते हैं, तो एक दिलचस्प वीडियो, सुंदर फोटो या प्रकृति की सुंदरता देखें.

8. पौष्टिक आहार लें (उच्च कंपन भोजन, जिसे इंद्रधनुष भोजन कहा जाता है). अपने आहार में विभिन्न प्रकार के खाद्य पदार्थों को शामिल करें, क्योंकि एक पौष्टिक आहार आपको शारीरिक और मानसिक दोनों तरह से अवसाद से उबरने में मदद कर सकता है.  

9. चाहे आहार शाकाहारी हो या मांसाहारी, सुनिश्चित करें कि आपको इससे पर्याप्त विटामिन और खनिज मिले.

10. अपने मानसिक स्वास्थ्य को बेहतर बनाने के लिए उन चीजों की सूची बनाएं, जिन्हें आप करना पसंद करते हैं.

11. मन में ध्यान भटकाने और सकारात्मक भावनाओं को पैदा करने में यह बहुत मददगार हो सकता है. अन्य काम करके अपनी भावनात्मक स्थिति बदलें. उदाहरण के लिए, इसके लिए संगीत सुनें, बगीचे में या पेड़ों के पास टहलने जाएं जिससे आप तरोताजा महसूस करेंगे. प्रकृति आपको अपने मन की भावनाओं को समझने के लिए प्रोत्साहित करेगी.

12. जिन चीजों का आप समर्थन करते हैं, उन्हें अपने मन में कृतज्ञता की भावना से जोड़ें. चिंतन करें कि आप किस चीज के लिए आभारी हैं.

13. कृतज्ञता व्यक्ति के मन को शांत करती है आप जितने आभारी होंगे, मन की शांति उतनी ही अधिक होगी.

14. नेगेटिव लोग, टीवी पर नेगेटिव खबरें और नेगेटिव बातें आपके हालात को और खराब कर सकती हैं, इसलिए ऐसी चीजों से दूर रहें.

15. तनाव में भी खुश और सकारात्मक रहने की कल्पना करें.

16. यदि आप वास्तव में सूर्योदय और सूर्यास्त नहीं देख सकते हैं तो उसे फोटो में देखें. सूर्योदय एवं सूर्यास्त का सुनहरा और नारंगी रंग आपको आपकी आत्म-शक्ति से फिर से जोड़ देगा.

संक्षेप में, मानसिक बीमारी का इलाज है. इसके लिए सिर्फ मरीजों को ही नहीं, बल्कि परिजनों को भी इस बीमारी पर ध्यान देने की जरूरत है. निकलने का रास्ता पक्का है. इसके लिए एक कदम आगे, उचित सलाह और इलाज की जरूरत है.

 

NO COMMENTS