पूजा चव्हाण सूसाइड केस : वन मंत्री संजय राठौड़ कटघरे में

0
1632
पूजा चव्हाण
महाराष्ट के वन मंत्री संजय राठौड़ और पूजा चव्हाण.

पिता ने बताया -गलत, कहा आडियो क्लिप में नहीं है आवाज पूजा की

मुंबई : बीड़ जिले की किट-कैट स्टार 22 वर्षीय पूजा चव्हाण की आत्महत्या महाराष्ट्र की राजनीति में एक नया भूचाल लाने जा रही है. इस मामले में राज्य के शिवसेना कोटे के वन मंत्री संजय राठौड़ का नाम आने से राजनीति गर्माती जा रही है. पूजा की मौत के बाद कई आडियो क्लिप वायरल हुए हैं. इसमें मंत्री राठौड़ की आवाज बताई जा रही है. इसी आधार पर पूजा के साथ राठौड़ का प्रेम संबंध होना और मंत्री से कथित धोखा मिलाने से पूजा द्वारा सूइसाइड कर लेना बताया जा रहा है. संजय राठौड़ यवतमाल जिले से शिवसेना विधायक रहे हैं.

इस मामले में भाजपा नेता और पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़णवीस ने भी मांग कर दी है कि फोन के जिस वायरल आडियो क्लिप में मंत्री संजय राठौड़ और पूजा चव्हाण के बीच बातचीत सामने आई है, उसकी जांच कराई जाए. उन्होंने कहा है कि पूजा गर्भस्थ थी. गर्भस्थ शिशु मंत्री का था. इसी कारन उसे आत्महत्या करनी पड़ी.

इस बीच पूजा के एक और मित्र 24 वर्षीय अरुण राठौड़ का नाम भी सामने आया है, जो वन विभाग में कार्यरत है. उसे वन मंत्री का करीबी बताया जा रहा है. लेकिन स्थानीय ग्रामीणों ने आडियो क्लिप की आवाज को अरुण राठौड़ की आवाज मानाने से इंकार कर दिया है. उनका कहना है कि आडियो में अरुण राठौड़ की आवाज बिलकुल नहीं है.

हालांकि जिस आडियो टेप को लेकर यह बवाल मचा है, उसके बारे में पूजा चव्हाण के पिता लहूदास चव्हाण का कहना है कि आडियो टेप में आवाज पूजा की है ही नहीं. उन्होंने कहा है की पॉल्ट्री व्यवसाय में पूजा को बर्ड फ्लू के कारण 50 लाख रुपए का नुकसान हो गया था. संभवतः इसी कारण से उसने ऐसा कदम उठाया है. पूजा ने बैंक से कर्ज लेकर यह व्यवसाय शुरू किया था.  

रिपोर्ट के मुताबिक़ पूजा चव्हाण पुणे में अपने भाई और उसके मित्र के साथ रह रही थी. वह वहां इंग्लिश स्पीकिंग कोर्स करने गई थी. उसने पिछले 8 फरवरी को वहां बावनवाड़ी एरिया में स्थित हेवन पार्क नामक बिल्डिंग से कूद कर आत्महत्या कर ली थी. इसके बाद सोशल मीडिया में वायरल एक आडियो क्लिप को लेकर यह बवाल शुरू हो गया है.

इस मामले में मचे बवाल पर नाराजगी व्यक्त करते हुए लहूदास चव्हाण ने कहा कि यह विवाद उनकी बेटी और उनके परिवार को बदनाम कर रहा है. उन्होंने कहा कि जिस मंत्री संजय राठौड़ का नाम जोड़ा जा रहा है, वे उसके पिता सामान रहे हैं. उनका इस मामले से कोइ संबध नहीं हो सकता.

इधर इस मामले को भारतीय जनता पार्टी के स्थानीय नेताओं सहित भाजपा विधायक नीतेश राणे ने अलग ही रंग दे दिया है. विवाद राज्य महिला आयोग तक जा पहुंची है. आयोग ने पुलिस और जिला प्रशासन को जांच से संबंधित रिपोर्ट भेजने का आदेश दिया है.

इससे पूर्व मामले को तूल देते हुए महाराष्ट्र भाजपा महिला मोर्चा (आघाड़ी) की उपाध्यक्ष चित्रा वाघ ने पूजा के सुसाइड प्रकरण में राज्य के मंत्री संजय राठौड़ की कथित संलिप्तता को लेकर उनके विरुद्ध पुलिस थाने में मामला दर्ज करवा दी है. इसके बाद इस  राजनीतिक रंग मिल गया है.

इस प्रकारण में भाजपा विधायक नीतेश राणे भी सक्रीय हो गए हैं. उन्होंने संजय राठौड़ पर तंज कसते हुए शिवसेना के नेतृत्व वाली महाविकास आघाड़ी (मोर्चा) सरकार के साथ ही मंत्री आदित्य ठाकरे पर भी निशाना साधा है. मराठी में ट्वीट कर उन्होंने कहा है- या महा विकास आघाडी सरकारची दूरदृष्टीला सलाम! यांना माहीत होते.. पर्यावरणमंत्र्या ची “दिशा”चुकली.. मग आता वनमंत्री “पूजा ”घालण्याच्या लायकीचे राहिले नाहीत.. बाकी मंत्र्यांचे पण “कहानी घर घर की” चालू आहे.. म्हणूनच “जेल पर्यटन”चालू केले असावे! जनता मंत्र्यांना अजुन कुठे भेटणार ?

 

पूजा चव्हाण
महाराष्ट्र भाजपा महिला मोर्चा (आघाड़ी) की उपाध्यक्ष चित्रा वाघ और संजय राठौड़.  

प्रकरण को उछाले जाने पर मिल रही कथित धमकियों के बारे में भाजपा महिला मोर्चा की चित्रा वाघ ने कहा है कि “धमक्यांना घाबरणारी चित्रा वाघ अजिबात नाही त्यामुळे उगा मला फोनकरून वेळ वाया घालवू नका माझ्या भावड्यांनो
जिथे जिथे महिलांवर अन्याय अत्याचार होणार तिथे तिथे नडणार आणि भिडणारचं।” उन्होंने भी ट्वीट किया है-

 

इसके साथ ही महाराष्ट्र के पक्ष-विपक्ष के अनेक नेताओं और पार्टी कार्यकर्ताओं ने भी मोर्चा संभाल लिया है. वे सभी सोशल मीडिया, खासकर ट्वीटर पर जुट गए हैं. विपक्ष के लोग राज्य की शिवसेना नीत महा विकास आघाड़ी सरकार को निशाना बना रहे हैं.

उल्लेखनीय है कि इससे पूर्व सरकार में एनसीपी कोटे के मंत्री धनंजय मुंडे पर भी बलात्कार का आरोप लगाया गया था. संबंधित युवती द्वारा भी आत्महत्या कर लिए जाने के बाद भाजपा ने जम कर उनके और राज्य की उद्धव ठाकरे सरकार के विरुद्ध मोर्चा खोल दिया था.

NO COMMENTS