महाराष्ट्र प्रदेश कांग्रेस को विपक्ष का नेता पद खोने का डर

0
310
विधायक कालीदास कोलम्बकर और नीतेश राणे सिरदर्द बने कांग्रेस के.

दो विधायकों के कारण स्थिति बनी सांप-छूछूंदर की

मुंबई : महाराष्ट्र प्रदेश कांग्रेस को डर सता रहा है कि निचले सदन में विपक्ष के नेता का पद उनके हाथ से निकल सकता है. इसका कारण हैं दो बागी विधायक. इससे प्रदेश कांग्रेस की स्थिति सांप-छूछूंदर के बन गई है.

इन दो विधायकों में नीतेश राणे और कालीदास कोलम्बकर शामिल हैं. जिनके खिलाफ कार्रवाई को लेकर दुविधा में है. नीतेश पूर्व कांग्रेस नेता नारायण राणे के पुत्र हैं और कालीदास उनके जबरदस्त समर्थक हैं. अपने इन दो विधायकों पर विधानसभा में उनके आचरण से अड़चन में आने के बावजूद पार्टी उनके खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई करने से बच रही है.

इन्हें निकाला तो एनसीपी को मिल जाएगा विपक्ष का नेता पद

पार्टी के एक वरिष्ठ नेता के अनुसार यदि कांग्रेस दोनों विधायकों राणे और कालीदास को निलंबित करती है तो 42 की जगह पार्टी के 40 विधायक ही बचेंगे, जो एनसीपी से एक कम होगा. इससे एनसीपी को विधानसभा में विपक्ष के नेता पद का दावा करने का मौका मिल जाएगा, क्योंकि उसके 41 विधायक हैं. ऐसे में विपक्ष के नेता की हैसियत से मिलने वालेकांग्रेस अपने सारे विशेषाधिकार खो देगी. कैबिनेट मंत्री स्तर के इस पद पर फिलहाल कांग्रेस के विधायक वरिष्ठ नेता राधाकृष्ण विखे पाटिल आसीन हैं.

NO COMMENTS