कांग्रेस के भारत बंद का अचलपुर में असर नहीं, परतवाड़ा में सफल

0
1887
कृषि उत्पन्न बाजार समिति के सामने अमरावती-परतवाड़ा रास्ता रोकते हुए कांग्रेसी आंदोलनकारी.

समर्थन देने के बावजूद सामने नहीं आई राकां, बंद कराने में मनसे, कम्युनिस्ट पार्टी ने दिया साथ

इरशाद अहमद
अचलपुर (अमरावती) :
कांग्रेस पार्टी की ओर से महंगाई, डीजल-पेट्रोल की कीमतों में वृद्धि और कथित घोटालों को लेकर भारत बंद का जुड़वां शहर अचलपुर-परतवाड़ा में बंद को मिलाजुला प्रतिसाद मिला. अचलपुर तो पूरी तरह से रोज की तरह चालू रहा, वहीं परतवाड़ा में कार्यकर्ताओं ने घूम-घूमकर दुकानें बंद करवाई. लेकिन इसमें समर्थन देने वाली राष्ट्रवादी कांग्रेस के नेता और कार्यकर्ता इस आंदोलन से हाथ खींचते हुए नजर आए.

आज सुबह से ही कांग्रेसी कार्यकर्ताओं ने परतवाड़ा में घूमकर बाजार की सभी दुकानें बंद करवाई. सुबह 11.00 बजे से ही कृषि उत्पन्न बाजार समिति के बाहर कांग्रेस, महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना और भारतीय कम्युनिस्ट पक्ष के कार्यकर्ता इकट्ठा होना शुरू हो गए थे.
परतवाड़ा बन्द करवाने के लिए कांग्रेसी, मनसे व कम्युनिस्ट पार्टी कार्यकर्ता आंदोलनकारियों की रैली.
[/caption]
परतवाड़ा बस डेपो के सामने से निकलते हुए जयस्तंभ चौक, गुजरी बाजार, दुरानी चौक, अंजनगांव स्टाफ होते हुए कांग्रेस के नेता और कार्यकर्ताओं ने उपविभागीय अधिकारी कार्यालय में जाकर उन्हें निवेदन सौंपा. जिसमें भी कांग्रेस ने देश में बढ़ती महंगाई, बढ़ते घोटाले और पेट्रोल डीजल वृद्धि पर विरोध व्यक्त किया.

बंद करवाने के दौरान कांग्रेस कार्यकर्ताओं के मुंह से भाजपा विरोधी नारे गूंज रहे थे. अचलपुर-परतवाड़ा जुड़वां शहर में बंद का मिलाजुला प्रतिसाद मिला, वहीं राष्ट्रवादी कांग्रेस द्वारा समर्थन देने के बावजूद भी रांका के नेता और कार्यकर्ता बंद कराने के दौरान नजर नहीं आए.

पेट्रोल पंप को बंद करवाते हुए कांग्रेस कार्यकर्ता.

वैसे भी अचलपुर शहर में बंद का कोई असर देखने को नहीं मिलता. मराठा आंदोलन के समय भी अचलपुर में भरपूर सौ प्रतिशत दुकानें चालू थी तथा इस बंद का अचलपुर पर कोई असर नहीं होता था. इस बार भी कांग्रेस द्वारा जगह-जगह प्रदर्शन किए जा रहे हैं, लेकिन अचलपुर में इसका असर बिल्कुल भी देखने को नहीं मिला.

कृषि उत्पन्न बाजार समिति के बाहर अमरावती परतवाड़ा रोड पर चक्का जाम किया गया था. वही परतवाड़ा के जयस्तंभ चौक पर भी कार्यकर्ताओ ने वाहनों को रोक कर सरकार के विरोध में नारेबाजी की.

कांग्रेस नेताओं और कार्यकर्ताओं में कांग्रेस पूर्व नगर अध्यक्ष हरिशंकर अग्रवाल, शहर अध्यक्ष श्रीकांत झोड़पे, नगरसेवक नासिर शाह, सईद मौलाना, नगरसेवक साईद खान, तालुका ग्रामीण अल्पसंख्यक अध्यक्ष अनीस खान, कांग्रेस जिला अल्पसंख्यक अध्यक्ष अजीज खान, प्रशांत देशमुख, बाला सिरसुध्दे, राजिक भाइ, प्रवीण हिरूलकर, रामदास भोजने, राजेश काले, श्रीधर काले, जिला उपाध्यक्ष मो साजिद फुलारी, राजा भाउ टोलारकर, कैलाश आवरे, मो अंसार, मनसे के जिला उपाध्यक्ष विजय पोटे पाटिल, कम्युनिस्ट पार्टी के शाहने सर, धनंजय मसके सहित कांग्रेस व मनसे व कम्युनिस्ट पार्टी के हजारों कार्यकर्ता ने महंगाई का विरोध करते हुए एक निवेदन सौंपा.

NO COMMENTS