नहीं रहे वरिष्ठ पत्रकार कुलदीप नैयर

0
104

नई दिल्ली : वरिष्ठ पत्रकार कुलदीप नैयर का कल आधी रात के बाद यहां एक निजी अस्पताल में निधन हो गया। वह 95 वर्ष के थे. उनके परिवार के एक सदस्य ने यह जानकारी दी.

प्रेस की स्वतंत्रता और नागरिक स्वतंत्रता के लिए लड़ने वाले मशहूर पत्रकार और लेखक नैयर के बड़े बेटे सुधीर नैयर ने बताया कि उनके पिता की मौत कल आधी रात के बाद 12 बजकर 30 मिनट पर एक निजी अस्पताल में हुई. उन्होंने बताया कि वह न्यूमोनिया से पीड़ित थे और पांच दिन पहले उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया था. उनके परिवार में पत्नी के अलावा दो बेटे हैं. नैयर का अंतिम संस्कार लोधी शवदाह गृह में किया जाएगा.

वरिष्ठ पत्रकार कुलदीप नैयर के निधन पर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद तथा प्रधानमंत्री सहित कई अन्य नेताओं ने शोक व्यक्त किया है.

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने वरिष्ठ पत्रकार को ‘लोकतंत्र का प्रतिबद्ध योद्धा’ बताया है. राष्ट्रपति ने ट्वीट किया, ‘ प्रसिद्ध संपादक, लेखक, राजनयिक और संसद सदस्य कुलदीप नैयर के निधन की खबर सुनकर दुख हुआ. आपातकाल के दौरान वह लोकतंत्र के प्रतिबद्ध योद्धा थे. उनके पाठक उन्हें याद करेंगे. उनके परिवार और सहकर्मयों के प्रति संवेदनाएं.’

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कुलदीप नैयर को आज ‘‘बुद्धिजीवी’’ बताया और कहा कि वरिष्ठ पत्रकार को उनके निर्भीक विचारों के लिए हमेशा याद किया जाएगा. उन्होंने कहा कि वह उनके निधन से दुखी हैं. मोदी ने टि्वटर पर कहा, ‘‘कुलदीप नैयर हमारे समय के बुद्धिजीवी थे. अपने विचारों में स्पष्ट और निर्भीक. आपातकाल के खिलाफ उनका कड़ रुख, लोक सेवा और बेहतर भारत बनाने के लिए उनकी प्रतिबद्धता को हमेशा याद किया जाएगा. उनके निधन की खबर से दुखी हूं. मेरी संवेदनाएं.”

नैयर के निधन पर शोक जताते हुए माकपा नेता सीताराम येचुरी ने आज कहा कि ‘‘पाकिस्तान और हिंदुस्तान के लोगों के बीच संवाद की वकालत करना उनकी विशेषता रही थी.’’ येचुरी ने कहा कि नैयर ने हमेशा लोकतांत्रिक अधिकारों और नागरिक स्वतंत्रता का समर्थन किया. उन्होंने ट्वीट किया, ‘‘हमारे लोकतांत्रिक अधिकारों, नागरिक स्वतंत्रता के चैंपियन और उन संघर्षों में अग्रणी रहे कुलदीप नैयर ने हमेशा विशिष्ट तरीके से भारत की सेवा की. वर्तमान संघर्ष में उनकी मौजूदगी मजबूती का स्रोत रही. श्रद्धांजलि.’’

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY