महाराष्ट्र में अब मुस्लिम आरक्षण के लिए भी ‘मुस्लिम क्रान्ति मोर्चा’ का गठन

0
202
समाजवादी पार्टी के नेता अबु आजमी और मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़णवीस. (अगस्त 2017 का फाइल फोटो)

मराठों के आंदोलन की सफलता से आशान्वित हो उठा है राज्य का मुस्लिम समाज

मुंबई : महाराष्‍ट्र में मराठा आरक्षण ‘आंदोलन’ की सफलता के बाद अब राज्‍य के मुसलमानों ने भी आरक्षण देने की अपनी मांग को तेज कर दिया है. मुस्लिम नेताओं के एक समूह ने समाजवादी पार्टी के महाराष्‍ट्र अध्‍यक्ष अबू आसिम आजमी के नेतृत्‍व में मराठा क्रांति मोर्चा की तर्ज पर मुस्लिम क्रांति मोर्चा का गठन कर लिया है और मांग की है कि राज्‍य सरकार उन्‍हें नौकरियों और शिक्षा में 5 फीसदी आरक्षण दे.

आजमी ने कहा, ‘यह एक व्‍यापक आंदोलन है, जिसे सभी पार्टियों का समर्थन होगा. हमने इसे शुरू किया है क्‍योंकि हमें लगता है कि मराठा क्रांति मोर्चा मराठों के लिए आरक्षण हासिल करने में लगभग सफल हो गया है. हम भी मुसलमानों के आरक्षण के लिए लड़ाई लड़ेंगे.’ पिछले वर्ष सदन में अबु आजमी के मुस्लिम आरक्षण पर उठाए गए सवाल के जवाब में मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़णवीस ने कहा था कि नियमांनुसार, मुस्लिम, ओबीसी और एससी सभी समाज को आरक्षण दिया गया है. वह आरक्षण रद्द नहीं किया गया है.

उन्‍होंने कहा क‍ि बांबे हाई कोर्ट के शिक्षा में 5 फीसदी आरक्षण देने की अनुमति के बाद भी राज्‍य सरकार मुस्लिम आरक्षण पर चुप है, जबकि मराठों को 16 फीसदी आरक्षण देने के लिए कदम उठा रही है. उर्दू पत्रकार सरफराज आरजू ने कहा कि मुस्लिम समुदाय में यह विचार घर कर गया है कि आरक्षण हासिल करने की दौड़ में वे पीछे छूट गए हैं. इसलिए एक संगठित आंदोलन की जरूरत है.

NO COMMENTS