मुख्यमंत्री 16 को करेंगे महाजेनको के 3 प्रकल्पों का भूमिपूजन

0
1955
महानर्मिति का भानेवाड़ी जल प्रक्रिया प्रकल्प.

वेकोलि की खानों से थर्मल केंद्रों को जलापूर्ति व कोयले के लिए पाईप कन्वेयर प्रकल्प

नागपुर : महाराष्ट्र शासन की विद्युत उत्पादन कंपनी महानिर्मिति (महाजेनको) के 443.91 करोड़ रुपए के महत्वाकांक्षी तीन प्रकल्पों का भूमिपूजन सोमवार, 16 जुलाई को मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़णवीस करेंगे. यह कार्यक्रम प्रातः 10 बजे रेशिमबाग स्थित कविवर्य सुरेश भट सभागृह में संपन्न होगा.

इस अवसर पर केंद्रीय मंत्री नितिन गड़करी, केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल, केंद्रीय राज्यमंत्री हरदीप सिंह पुरी, ऊर्जा मंत्री चंद्रशेखर बावनकुले, ऊर्जा राज्यमंत्री मदन येरावार सहित नागपुर की महापौर और अन्य विधायक एवं सांसद भी उपस्थित रहेंगे. यह जानकारी महानिर्मिति द्वारा जारी प्रेस विज्ञप्ति में दी गई है.

इस अवसर पर वेकोलि की 5 कोयला खानों से पाईप कन्वेयर द्वारा थर्मल विद्युत केंद्रों कोराडी और खापरखेड़ा में कोयला आपूर्ति करने के एक प्रकल्प और वेकोलि की भानेगांव खान के पानी का उपयोग खापरखेड़ा विद्युत केंद्र में करने और भांडेवाड़ी के पानी को साफ कर खापरखेड़ा, कोराडी व चंद्रपुर विद्युत् केन्द्रों में उपयोग करने के दो प्रकल्पों का भूमिपूजन होगा. इन प्रकल्पों की लागत 443.91 करोड़ रुपए होगी. महानिर्मिति, वेकोली और नागपुर महानगर पालिका के परस्पर सहयोग से यह तीनों प्रकल्प साकार होने जा रहे हैं.

पाईप कन्वेयर द्वारा कोयले की आपूर्ति परियोजना :
महानिर्मिति के विद्युत उत्पादन केंद्रों में अभी तक वेस्टर्न कोलफील्ड्स लि. (वेकोलि) का कोयला रेलवे वैगनों से अथवा रोप वे द्वारा भेजा जाता है. इसमें आने वाले खर्च में कमी करने और पर्यावरण को पहुंच रहे नुकसान को रोकने के लिए पाईप कन्वेयर प्रकल्प शुरू की जा रही है. अब वेकोलि की 5 खदानों इंदर, कामठी, गोंडेगांव, भानेगांव व सिंगोरी से कोयले की आपूर्ति पाईप कन्वेयर द्वारा कोराडी और खापरखेड़ा को की जाएगी.

भांडेवाड़ी के पानी का पुनर्पयोग प्रकल्प :
पानी का उपयोग पेयजल और कृषि कार्य के लिए आवश्यक है. विद्युत उत्पादन केंद्रों में भी भारी मात्रा में पानी का उपयोग किया जाता है. ऐसे में महानिर्मिति को अपने विद्युत केंद्रों से वेकोलि के बंद भांडेवाड़ी खान के पानी का प्रक्रिया कर पुनर्पयोग करने के लिए प्रतिदिन 150 मिलियन घनलिटर पानी इस प्रकल्प के माध्यम से मिल जाएगा. इसमें कोराडी को 50 मिलियन घनलिटर और खापरखेड़ा को 100 मिलियन घनलिटर पानी अपने उपयोग के लिए मिलेगा. साथ ही नागपुर महापालिका को भी अतिरिक्त 30 करोड़ रुपए का लाभ होगा.

भानेगांव खान के पानी का उपयोग :
भानेगांव खान का वार्षिक 10.76 मिलियन घनलिटर पानी खापरखेड़ा विद्युत केंद्र को मिलेगा. इससे पेंच प्रकल्प का पानी अतिरिक्त बचेगा. वेकोलि से महानिर्मिति को यह पानी निःशुल्क मिलने वाला है. इस प्रकल्प की लागत लगभग 9 करोड़ रुपए है.

NO COMMENTS