बैंक अधिकारियों की मिलीभगत से 1.73 करोड़ का कर्ज घोटाला

0
222

13 आरोपी गिरफ्तार, आईओबी की इमामबाड़ा शाखा को लगाया चूना

विपेन्द्र कुमार सिंह
नागपुर :
इंडियन ओवरसीज बैंक की इमामबाड़ा शाखा के तीन बैंक अधिकारयों की मिलीभगत से 1.73 करोड़ रुपए की धोखाधड़ी का मामला सामने आया है. इस धोखाधड़ी के मामले में दो और आरोपियों विवेक शरद दिवान (महल) और रविंद्र पोटदुखे को बुधवार को गिरफ्तार कर लिया गया है. दोनों को आज दीवानी न्यायालय में पेश किया गया. इसमें से विवेक दिवान को न्यायालय ने जेल भेज दिया गया. जबकि रविंद्र पोटदुखे को पूछताछ के लिए 9 जुलाई तक पुलिस हिरासत में रखने की अनुमति दी है.

वाहन कर्ज के नाम पर 16 लोगों के कर्ज प्रकरणों में जिन बैंक अधिकारियों की मिलीभगत थी, उनमें वरिष्ठ प्रबंधक सुरेश भांडारकर, सह प्रबंधक गोपीचंद खांडेकर और प्रणाली बगल है. अब तक कुल 13 आरोपी पकड़े जा चुके हैं. इस मामले में नागपुर पुलिस की आर्थिक अपराध शाखा ने तीनों बैंक अधिकारियों समेत कुल 19 लोगों के विरुद्ध मामला दर्ज किया है.

2017 में दर्ज हुए इस मामले में प्राप्त जानकारी के अनुसार आरोपियों ने अपने को थापर संस मोटर्स, स्टार मोटर्स और सेन्ट्रल मोटर्स के नाम से शहर के अलग-अलग बैंक शाखाओं में खाते खुलवा कर वाहन कर्ज के 16 प्रकरणों में बैंक से कुल 1.73 करोड़ रुपए के कर्ज लेकर डकार गए. इस घोटाले की जांच आर्थिक अपराध शाखा की उपायुक्त श्वेता खेड़कर के मार्गदर्शन में एपीआई विशाल काले और उनके सहयोगी धीरज जितेंद्र कर रहे हैं.

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY