मुंबई के घाटकोपर में गिरा चार्टर प्लेन, पायलट सहित 5 मृत

0
480

मेंटेनेंस के बाद जुहू विमानतल से परीक्षण उड़ान पर था यह विमान

मुंबई : मुंबई के घाटकोपर इलाके में आज गुरुवार, 28 जून को दोपहर में बहुत दुःखद हादसा हुआ. इस इलाके में एक चार्टर्ड प्लेन गिर गया, जिसमें पांच लोगों की मौत हो गई. मृतकों में पायलट मारिया कुबेर, को-पायलट प्रदीप राजपूत, एयरक्राफ्ट मेंटेनेंस इंजीनियर मनीष पांडे और सुरभि शामिल हैं. इनके साथ एक राहगीर गोविंद पंडित की भी मौत हुई है. हादसे वाली जगह पर राहत एवं बचाव कार्य तेजी से किया गया.

परीक्षण उड़ान पर था विमान
प्राप्त जानकारी के अनुसार 23 साल पुराना 12 सीटर यह विमान मेंटेनेंस के बाद परीक्षण उड़ान पर था. इसे मेंटेनेंस के लिए लाया गया था. इसकी मरम्मती के बाद उड़ान से पहले विमान की पूजा भी की गई थी. विमान के टायर के आगे नारियल फोड़ा गया था.

कैसे हुआ हादसा…
चार्टर्ड प्लेन ने जुहू एयरपोर्ट से परीक्षण उड़ान भरी थी और इसे मुंबई एयरपोर्ट पर लैंड करना था. लैंडिग से कुछ मिनट पहले ही दोपहर करीब 1 बजकर 16 मिनट पर प्लेन घाटकोपर के सर्वोदय नगर स्थित रिहायशी इलाके में क्रैश कर गया. प्लेन पहले सड़क पर गिरा, इसके बाद फिसलते हुए एक निर्माणाधीन बिल्डिंग से जा टकराया.

पायलट मारिया कुबेर की सूझबूझ से बची सैकड़ों की जान
घादसे के दौरान पायलट मारिया कुबेर ने सूझबूझ दिखाई और सघन आबादी वाले इलाके में भी खाली जगह में प्लेन को लैंड करने की कोशिश की. यदि यह विमान थोड़ा और आगे गिरा होता तो वह किसी बड़े रिहायशी अपार्टमेंट पर गिरा होता. ऐसे में सैकड़ों लोगों की जान जा सकती थी. पायलट मारिया कुबेर मुंबई और को-पायलट प्रदीप राजपूत दिल्ली के रहने वाले हैं.

प्लेन का ब्लैक बॉक्स मिला
दुर्घटना के बाद बहेद सघन तालाशी अभियान के बाद क्रैश हुए चार्टर्ड प्लेन का ब्लैक बॉक्स मिल गया है. ब्लैक बॉक्स के जरिए हादसे की मुख्य वजह पता चल सकेगी. दरअसल ब्लैक बॉक्स को तकनीकि भाषा में फ्लाट डाटा रिकर्डर भी कहते हैं. हादसे के वक्त के आखिरी क्षणों का डाटा इस ब्लैक बॉक्स में दर्ज होता है. इसमें पायलट की एटीसी से की गई बातचीत, प्लेन के अंदर की आवाजें, अलार्म सभी कुछ रिकॉर्ड हो जाता है.

यूपी सरकार ने बेच दिया था यह प्लेन
घाटकोपर में क्रैश होने वाला चार्टर्ड प्लेन बीन क्राफ्ट किंग एयर सी-90 टर्बोकॉप है. दो इंजन वाले इस प्लेन का निर्माण 1995 में हुआ था. इस विमान की क्षमता 12 लोगों की है, लेकिन अच्छी बात यह रही कि आज इसमें सिर्फ चार लोग ही सवार थे. यह विमान पहले उत्तर प्रदेश सरकार की सेवा में था, लेकिन साल 2014 में यूपी सरकार ने इसे मुंबई की यूवाय एविएशन कंपनी को बेंच दिया था.

NO COMMENTS