पूर्व राष्ट्रपति आज शाम पहुंचेंगे नागपुर, 7 को संघ कार्यक्रम में होंगे शामिल

0
1967

स्मृति मंदिर पहुंचने पर उनकी भूमिका पर लोग लगा रहे अटकलें, चार घंटे वहीं बिताएंगे

नागपुर : पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी बुधवार, 6 जून को तीन दिवसीय दौरे पर नागपुर आ रहे हैं. साथ ही उनका स्वयंसेवक संघ के तृतीय वर्ष वर्ग के समापन कार्यक्रम में सम्मिलित होना भी सुनिश्चित है. वे गुरुवार, 7 जून को राष्ट्र्रीय स्वयंसेवक संघ मुख्यालय स्मृति भवन में संघ के कार्यक्रम में भाग लेंगे और फिर तीसरे दिन दिन 8 जून शुक्रवार को वे दोपहर में वे दिल्ली के लिए रवाना हो जाएंगे.

अटकलें लगाने और राय देने से वे बाज नहीं आ रहे लोग
अब लोगोंकी नजर इस बात पर है कि पूर्व राष्ट्रपति की भूमिका स्मृति भवन पहुंचने पर क्या होगी और वे संघ के तृतीय वर्ग के समापन समारोह में क्या बोलेंगे. संघ के कार्यक्रम में शामिल होने का विरोध करने वाले अब लगा राणे लगे हैं अटकलें और अभी भी अपनी राय देने से वे बाज नहीं आ रहे.

रेशिमबाग स्थित संघ मुख्यालय में संघ के प्रथम सरसंघचालक डॉ. केशव बलिराम हेडगेवार स्मृति मंदिर.

विमानतल से सीधे राजभवन जाएंगे
कल बुधवार 6 जून को शाम 4.50 बजे डॉ.बाबासाहेब आंबेडकर अंतरराष्ट्रीय विमानतल पर उनका आगमन होगा. वे वहां से सीधे राजभवन चले जाएंगे. उनका रात्रि विश्राम वहीं होगा. गुरुवार 7 जून को शाम 5 बजे वे राजभवन से रेशिमबाग स्थित संघ मुख्यालय डॉ.केशव बलिराम हेडगेवार स्मृति भवन के लिए रवाना होंगे. वहां पहुंचने पर संघ पदाधिकारी उनका स्वागत करेंगे. इसी परिसर में संघ के संस्थापक और प्रथम सरसंघचालक हेडगेवार जी का और दूसरे सरसंघचालक गोलवलकर गुरुजी का समाधि स्थल भी है.
संघ मुख्यालय में संघ के दूसरे सरसंघचालक गोलवलकर गुरु जी का समाधि स्थल.

रेशिमबाग के स्मृति मंदिर और समाधि स्थल का करेंगे देर्शन
संघ की परम्परा के अनुसार अतिथि पहले स्मृति मंदिर और समाधि स्थल का दर्शन करता है. ऐसे में पूर्व राष्ट्रपति से भी पहले समाधि स्थल जाकर नमन काने का आग्रह संघ की ओर से किया जा सकता है. अब उस वक्त प्रणब बाबू की भूमिका क्या हो सकती है, क्या वे संघ के महापुरुषों के स्मृति मंदिर औरसमाधि स्थल का दर्शन करते वक्त उन्हें नमन नहीं करेंगे? ऐसा तो नहीं हो सकता. लेकिन कांग्रेस और विपक्षी दलों के लोग, जो पहले उनके संघ के कार्यक्रम में शामिल होने पर आपत्ति कर रहे थे, अब उनकी राय है कि पूर्व राष्ट्रपति को समाधिस्थल पर ही नहीं जाना चाहिए.

रात्रि भोजन संघ पदाधिकारयों के साथ ही लेंगे
पूर्व राष्ट्रपति संघ मुख्यालय में समापन समारोह को संबोधित करेंगे और पूरी चार घंटे स्मृति मंदिर में बिताएंगे. इसके बाद वे रात के 9.30 बजे राजभवन लौट जाएंगे. समझ जाता है कि वे अपना रात्रिभजन संघ प्रमुख और संघ के पदाधिकारियों के साथ ही करेंगे. इस दौरान संघ के पदाधिकारयों के अलावा कोई भाजपा नेता अथवा मंत्रीगण भी उपस्थित रहेंगे, इस संबंध में कोई संकेत नहीं मिल पाया है. 8 जून को पूर्व राष्ट्रपति दोपहर 1 बजे विमान से दिल्ली के लिए रवाना हो जाएंगे.

NO COMMENTS