भाजपा के लिए आसान नहीं रहा तीन जिलों से विधान परिषद चुनाव

0
1507

कांग्रेस का सशक्त उम्मीदवार मुकाबले में होने से राह कठिन होने के संकेत

रवि लाखे
वर्धा :
चंद्रपुर, गढ़चिरोली और वर्धा जिलों के स्थानीय स्वशासन चुनाव क्षेत्र से विधान परिषद के चुनाव के लिए राज्य में सत्तारूढ़ भाजपा समेत शिवसेना, और कांग्रेस ने अपने उम्मीदवारों की घोषणा कर दी है. भाजपा के लिए सुरक्षित माने जा रहे इस चुनाव क्षेत्र में अब सीधे मुकाबले के स्थिति पैदा हो गई है.

भारतीय जनता पार्टी ने डॉ. रामदास आंबटकर अपना उम्मीदवार बनाया है. लेकिन कांग्रेस ने राजेश सराफ के पिता इंद्रकुमार सराफ को उम्मीदवार बना कर भाजपा की राह कठिन बना दी है. इंद्रकुमार सराफ वर्धा के नगराध्यक्ष रहे हैं. उनका नगराध्यक्ष का कार्यकाल अच्छा रहा था. साथ ही उनकी वर्धा सहित चंद्रपुर और गढ़चिरोली के मतदाताओं पर भी पकड़ अच्छी बताई जाती है. ऐसे में इंद्रकुमार सराफ द्वारा कांग्रेस के टिकट पर चुनाव मैदान में आ जाने से चुनावी रंग-रूप बदल जाने के संकेत मिलने रहे हैं.

इधर वर्धा के नगर सेवक जगदीश टावरी , हालांकि निर्दलीय के रूप में नामांकन भरा था, लेकिन उन्होंने डॉ. आंबटकर को समर्थन देने की घोषणा कर दी है. लेकिन दूसरी ओर राष्ट्रवादी कांग्रेस के पूर्व विधायक राजू तिमांडे के पुत्र सौरभ तिमांडे बगावत कर मैदान में अपना बिगुल भी फूंक दिया है.

भाजपा को पहले इस बात का भरोसा था कि यह क्षेत्र उसके उम्मीदवार के लिए निर्विरोध या बिलकुल ही आसान होगा, लेकिन शिवसेना से युति नहीं हो पाना और कांग्रेस द्वारा सशक्त उम्मीदवार को मुकाबले में खड़े कर देने से भाजपा की राह कठिन होने के संकेत मिल रहे हैं.

NO COMMENTS