1600 टन अमोनियम नाईट्रेट की सुरक्षा गंभीर खतरे में

0
1798
तिरुपती कंपनी का बिहालगोंदी गांव के समीप अमोनियम नाईट्रेट का असुरक्षित गोदाम.

इस घातक रसायन का उपयोग होता है विस्फोटक तैयार करने में

ब्रिजेश तिवारी
कोंढाली (नागपुर) :
कोंढाली थाना क्षेत्र के अंतर्गत बिहालगोंदी गांव के समीप 1600 टन क्षमता का अमोनियम नाईट्रेट का गोदाम है. अमोनियम नाईट्रेट यह एक घातक रसायन है, जिसका उपयोग विस्फोटक बनाने में होता है. यहां रखे जा रहे 1600 टन अमोनियम नाईट्रेट की सुरक्षा केवल दो निःशस्त्र सुरक्षा रक्षक के कंधों पर है. इससे अंदाजा लगाया जा सकता कि ऐसे घातक रसायन की सुरक्षा कितनी गंभीर खतरे में है.

नागपुर-अमरावती राष्ट्रीय महामार्ग पर कोंढाली पुलिस थाना अंतर्गत चार एक्सप्लोसिव कंपनियां हैं, जो अत्यंत विस्फोटक डिटोनेटर, एक्सप्लोसिव जेल तथा एक्सप्लोसिव कॉड आदि विस्फोटक तैयार करती हैं. विस्फोटक में अमोनियम नाईट्रेट लिक्विड तथा अमोनियम नाईट्रेट पाउडर का उपयोग होता है.

तिरुपती कॉरपोरेशन कंपनी ने कोंढाली से 2 कि.मी. दूर बिहालगोंदी गांव के समीप 1600 टन अमोनियम नाईट्रेट भंडारण क्षमता के गोदाम का निर्माण किया है. पर अत्यंत घातक अमोनियम नाईट्रेट रखने के बावजूद तिरुपती कंपनी सुरक्षा का उचित प्रबंध करने में विफल रही है. पता चला है कि कंपनी इस अमोनियम नाईट्रेट के आवक-जावक की कोई जानकारी भी कोंढाली पुलिस थाने को नहीं देती.

इस गोदाम की सुरक्षा की जिम्मेदारी कंपनी ने केवल दो नि:शस्त्र सुरक्षा रक्षकों तथा 10 सीसीटीवी कैमरे के भरोसे छोड़ रखी है. गोदाम परिसर की सुरक्षा दीवार भी पर्याप्त ऊंची नहीं है. अमोनियम नाईट्रेट जैसे घातक रसायन के प्रति तिरुपती कंपनी की लापरवाही तथा मनमानी से कोंढाली पुलिस भी परेशान है. ऐसा घातक रसायन सुरक्षा के अभाव में आतंकवादियों, उग्रवादियों अथवा समाज विरोधी तत्वों के हाथों में आसानी से जा सकता है. इससे समझा जा सकता है कि यदि ऐसा हुआ तो इसका दुष्परिणाम कितना भयानक हो सकता है.

तिरुपती कंपनी के गोदाम व्यवस्थापक चंद्रकात निंभर्ते से संपर्क करने पर उन्होंने कहा कि अमोनियम नाईट्रेट के आवक-जावक की जानकारी स्थानीय पुलिस थाने को देना जरूरी नहीं है. किन्तु उन्होंने इस प्रश्न का जवाब नहीं दिया कि गोदान में रखे अमोनियम नाईट्रेट की सुरक्षा में क्या दो निःशस्त्र सुरक्षा रक्षक सक्षम हैं?

बिहालगोदी की सरपंच ज्योत्सना रामदास मरकाम ने बताया कि तिरुपती कंपनी बिहालगोदी ग्राम पंचायत को भी सहयोग नहीं करती तथा कंपनी की मनमानियां और सुरक्षा के प्रति लापरवाही से गांव की सुरक्षा को भी गंभीर खतरा उत्पन्न हो गया है. उन्होंने कहा कि वरिष्ठ अधिकारियों तथा विस्फोटक विभाग को कंपनी की ऐसी गंभीर किस्म की लापरवाही और मनमानी की ओर ध्यान देना चाहिए और गोदाम की सुरक्षा व्यवस्था सुदृढ़ करनी चाहिए.

NO COMMENTS