असम की जनता से माफी मांगनी पड़ी पूर्व मंत्री बच्चू कड़ु को

0
494
असम
असम की जनता से माफी मांगनी पड़ी है पूर्व मंत्री बच्चू कड़ु को

नागपुर : महाराष्ट्र के पूर्व मंत्री, अचलपुर (अमरावती) के निर्दलीय विधायक बच्चू कड़ु को असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा और असम की जनता से बिना शर्त माफी मांगनी पड़ी है.

असम के मुख्यमंत्री ने महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे को विधायक बच्चू कड़ु द्वारा उनके राज्य के लोगों पर की गई कथित अपमानजनक टिप्पणी के बारे में एक पत्र ट्वीट कर बिना शर्त माफी मांगने के एक दिन बाद बिना शर्त यह माफी मांगी गई.

कड़ु ने अपनी माफी पर टिप्पणी करने से इनकार करने के साथ इस विदर्भ आपला को फोन पर बताया, “मैंने पहले ही असम में लोगों की भावनाओं को ठेस पहुंचाने के लिए उनसे (असम के सीएम) माफी मांगी ली थी. मैंने अपना बयान भी वापस ले लिया है.”

सरमा के मुताबिक, अचलपुर से निर्दलीय विधायक और प्रहार जनशक्ति पार्टी के नेता कड़ु ने कहा था कि महाराष्ट्र से आवारा कुत्तों को असम भेजा जाना चाहिए, जहां कुत्ते का मांस खाया जाता है.

तत्कालीन सीएम उद्धव ठाकरे के तहत महा विकास आघाड़ी (एमवीए) सरकार में स्कूली शिक्षा राज्य मंत्री रहे कड़ु ने ध्यानाकर्षण प्रस्ताव के बाद आवारा कुत्तों के खतरे पर चर्चा के दौरान 4 मार्च को विधानसभा के पटल पर ऐसा बयान दिया था. विधायक प्रताप सरनाईक, अतुल भातखलकर और अन्य द्वारा राज्य में आवारा कुत्तों की बढ़ती संख्या और उनसे पैदा हो रहे खतरे के बारे में सदन प्रतश्न उठाया गया था.

“असम के लोगों के साथ, मैं विधायक (कड़ु) की टिप्पणियों से बेहद निराश और अशांत हूं, जिसने हमारे राज्य की संस्कृति के बारे में उनके पूर्वाग्रहों और अज्ञानता को उजागर किया है. मुझे यकीन है कि आप लोगों की भावनाओं के साथ पूरी तरह से सहानुभूति रखेंगे.” इस मामले में असम के मुख्यमंत्री सरमा ने 19 मार्च को शिंदे को लिखे अपने पत्र में यह बातें कहीं थी.

असम के सीएम ने शिंदे से आग्रह किया था, “इस पृष्ठभूमि में, मैं आपसे अनुरोध करता हूं कि कड़ु को टिप्पणी वापस लेने की सलाह दें और खेद व्यक्त करते हुए एक प्रेस बयान देने के लिए कहें.”

विधानसभा में कड़ु ने कहा था कि आवारा कुत्तों की असम में मांग है और प्रति पशु 8,000 रुपए की कीमत मिलती है. “महाराष्ट्र में आवारा कुत्तों की आबादी को नियंत्रित करने के लिए, इन कुत्तों को असम भेजा जाना चाहिए,”  उन्होंने शहरों में आवारा कुत्तों की बढ़ती आबादी को नियंत्रित करने के लिए ठोस कार्रवाई की अन्य विधायकों की मांग का समर्थन करते हुए  यह बातें कहीं थी.  

NO COMMENTS