फर्जीवाड़े का शिकार हुआ महाराष्ट्र ग्रामीण विकास का वेबसाइट

0
358
फर्जीवाड़े

जिला परिषदों के स्वास्थ्य विभाग के पांच पदों पर 2019 से लंबित नियुक्तियों का मामला

नागपुर : महाराष्ट्र सरकार के ग्रामीण विकास विभाग फर्जी वेबसाइट युवा बेरोजगारों को धोखाधड़ी का शिकार बना रहा है. इस फर्जी वेबसाइट से विभिन्न पदों पर भर्ती की अपील की जा रही है. समय रहते इस फर्जीवाड़े का पता चल जाने के बाद ग्रामीण विकास विभाग ने राज्य के सभी जिला परिषदों समेत युवा बेरोजगारों को इस फर्जीवाड़े से आगाह किया है.

उल्लेखनीय है कि ग्रामीण विकास विभाग ने नागपुर जिला परिषद समेत राज्य के सभी जिला परिषदों के अंतर्गत नियुक्तियों के लिए पहले मार्च 2019 में पद के लिए विज्ञापन दिया था. पिछले 18 महीने से पांच पदों पर नियुक्ति लंबित हैं. इस विज्ञापन में सामान्य खुले वर्ग के लिए बढ़े हुए समांतर आरक्षण के साथ और नई श्रेणी के अनुसार केवल विकलांग आरक्षण के लिए भर्ती शुरू की जा रही है.

बताया गया कि महाराष्ट्र सरकार के ग्रामीण विकास विभाग की वेबसाइट पर नागपुर जिला परिषद के लिए स्वास्थ्य पर्यवेक्षक, स्वास्थ्य कार्यकर्ता, लैब तकनीशियन, फार्मास्युटिकल निर्माता, स्प्रे स्टाफ इत्यादि जैसे विभिन्न पदों के लिए ऑनलाइन आवेदन आमंत्रित कर रही है. इसमें एक हेल्पलाइन नंबर है. कुछ संपर्क नंबर जैसे 07292006305, 7292013550, 9513500203 दिए गए हैं. यह आधिकारिक है.  

इस बीच नागपुर जिला परिषद ने भी स्पष्ट किया है कि फर्जी वेबसाइट से जिला परिषद नागपुर का कोई लेना-देना नहीं है. चयन समिति की अध्यक्ष और जिला कलेक्टर विमला आर. और जिला परिषद नागपुर के मुख्य कार्यकारी अधिकारी योगेश कुंभेजकर ने उम्मीदवारों को ऐसी वेबसाइटों से सावधान रहने की सलाह दी है.

इस संबंध में 1 सितंबर 2021 को एक शुद्धि पत्र (पत्रांक : ग्रामविकास विभाग शासन हनर्चय क्र. संकीर्च-2020/प्र.क्र.99/आस्था-8, हद. 14/06/2021.)  जारी किया गया है और विकलांग उम्मीदवारों को भरने के लिए केवल ऑनलाइन आवेदन आमंत्रित किए जा रहे हैं. आवेदन www.maharddzp.com पर उपलब्ध हैं.

विभाग की ओर से स्पष्ट किया गया है कि दिव्यांगों के अलावा जिन अन्य उम्मीदवारों ने 2019 में आवेदन किया है, उन्हें दोबारा आवेदन करने की जरूरत नहीं है. अधिक सही जानकारी के लिए, विकलांग उम्मीदवारों से शासकीय वेबसाइट www.maharddzp.com या www.nagpurzp.com पर ही ऑनलाइन आवेदन करने को कहा गया है.

फर्जी वेबसाइट से आगाह करते हुए प्रशासन ने कहा है कि फर्जी वेबसाइट से धोखाधड़ी की जा रही है. उम्मीदवारों को फर्जीवाड़े का इसका शिकार नहीं होना चाहिए. इस संबंध में साइबर सेल कदाचार व सामाजिक मानदंडों के दोषियों के खिलाफ कार्रवाई कर रही है. अधिकारियों ने उम्मीदवारों से इस तरह के दुष्प्रचार का शिकार न होने की अपील की।

NO COMMENTS