झुलेलाल चित्रित चांदी की 200 इंटें राम मंदिर निर्माण के लिए भेंट

0
1210
झुलेलाल

201 किलो के 200 चांदी की ईंटों का योगदान अत्यंत महत्वपूर्ण

विश्व सिंधी समाज का अभिनव योगदान पीढ़ियों तक समाज को करेगा गौरान्वित- मोटवानी

    
नागपुर : विश्व सिंधी सेवा संगम की ओर से आज अयोध्या में राम मंदिर के लिए रामलल्ला मंदिर ट्रस्ट को 201 किलो की चांदी की भगवान झुलेलाल के चित्र वाली 200 इंटें दान में दी जाएंगी.

संगठन के प्रदेश अध्यक्ष प्रताप मोटवानी ने बताया कि उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी और महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़णवीस की पावन प्रेरणा से विश्व सिंधी सेवा संगम ने राम मंदिर निर्माण में यह रजत इंटों का योगदान कर रहा है.
 
संगम के संस्थापक दादा गोपालदास सजनानी, इंटरनेशन चेयरमैन लायन डॉ राजू मनवानी, सुहाना सिंधी पुणे के अध्यक्ष पीताम्बर पीटर ढलवानी के मार्गदर्शन में तथा इंदौर के सांसद शंकर लालवानी, आरएसएस के इंद्रेश कुमार और सिंधी समाज के अनेक गणमान्य गणतंत्र दिवस, मंगलवार 26 जनवरी को अयोध्या रामलल्ला मंदिर में ट्रस्ट को यह भगवान झुलेलाल चित्रित चांदी की इंटें भेंट करेंगे. 

इससे पूर्व सिंधी समाज से सभी वर्तमान और पूर्व विधायक, पूर्व सांसद पूर्व मंत्री, सिंधी समाज के पूरे देश के संत महात्मा मंडली और पूरे देश विदेश से चांदी की ईंट के दानदाता की उपस्तिथि में दोपहर 3 से 5 बजे के बीच आरती पूजा और मंत्रोचार कर यह दान दी जाएगी. 

मोटवानी ने बताया कि मंगलवार, 26 जनवरी 2021 का दिन विश्व सिंधी समाज के लिए बेहद यादगार और ऐतिहासिक रहेगा. अयोध्या के राम मंदिर में विश्व सिंधी समाज के योगदान इन सिंधियों के इष्टदेव भगवान झुलेलाल भगवान के चित्र वाली ये इंटें आगामी हजारों वर्षों तक सिंधी समाज को गौरव प्रदान करेंगी. 

मोटवानी ने कहा कि समाज की आगामी पीढ़ियां सिंधी समाज के ऐतिहासिक योगदान का स्मरण कर गर्व महसूस करेंगी. आज का दिन सिंधी समाज के इतिहास में स्वर्णीम अक्षरों में लिखा जाएगा. 

अयोध्या में 5 अगस्त, 2020 को राम मंदिर के भूमिपूजन कार्यक्रम संपन्न हुआ. मंदिर निर्माण को लेकर राम की नगरी अयोध्या में हलचल भी तेज हो गई है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा मंदिर निर्माण का शिलान्यास चांदी की 22.6 किलो की ईंट से किया गया है. ऐसे में विश्व सिंधी समाज की ओर से भेंट किया जाने वाला 201 किलो के 200 चांदी की ईंटों का योगदान अत्यंत महत्वपूर्ण है.

NO COMMENTS