टिक टोक मोबाइल ऐप्प को नियंत्रित करें : उड़ीसा हाईकोर्ट

0
1096
टिक

पत्नी के कुकृत्य पर पति ने कर ली थी आत्महत्या

 
कटक : उड़ीसा हाईकोर्ट ने कहा है कि टिक टोक मोबाइल एप्लिकेशन को अच्छी तरह से नियंत्रित करने की जरूरत है. न्यायमूर्ति एस.के. पाणिग्रही ने एक जमानत आवेदन पर विचार करते हुए कहा कि एप्लिकेशन अक्सर अपमानजन और अश्लील कल्चर को प्रदर्शित करता है और स्पष्ट रूप से परेशान करने वाली सामग्री के अलावा पोर्नोग्राफी को बढ़ावा देता है. इस तरह के एप्लिकेशन को नियंत्रित करने की आवश्यकता है, जिससे किशोरों को इसके नकारात्मक प्रभाव से बचाया जा सके. 

इस मामले में आरोपी मृतक की पत्नी है. आरोपी पत्नी ने एक अन्य सह आरोपी के साथ मिलकर मृतक के और आरोपी के कुछ अंतरंग और निजी वीडियो टिक टोक पोस्ट कर दिए थे, जिसके बाद मृतक ने आत्महत्या कर ली थी. दोनों आरोपियों पर आईपीसी की धारा 306 के तहत आरोप लगाए गए थे. हालांकि अदालत ने आरोपियों को जमानत दे दी, लेकिन युवाओं पर टिक टोक ऐप के नेगेटिव प्रभाव का उल्लेख किया. 

न्यायाधीश ने कहा, “ऐसा प्रतीत होता है कि तत्काल मामले में टिक टोक वीडियो एक निर्दोष जीवन के दुखद अंत का कारण बन गया है, हालांकि टिक टोक वीडियो की सामग्री को अपडेट की गई केस डायरी द्वारा छुआ नहीं जा सकता था. इस तरह के टिक टोक को प्रसारित करना, पीड़ितों को प्रताड़ित करने के लिए आपत्तिजनक सामग्री का दुरुपयोग धीरे-धीरे बढ़ रहा है.

मद्रास उच्च न्यायालय ने टिकटोक मोबाइल एप्लिकेशन के बारे में इसी तरह की टिप्पणियां की थीं और यहां तक कि इस ऐप के डाउनलोड को प्रतिबंधित करने का निर्देश दिया था. बाद में इस आदेश को टिक टोक प्रबंधन को चेतावनी के साथ वापस ले लिया गया कि यदि यह नकारात्मक और अनुचित या अश्लील सामग्री को फ़िल्टर करने के अपने उपक्रमों का उल्लंघन करता है, तो यह अदालत की अवमानना के दायरे में आ सकता है.

NO COMMENTS