व्यापारियों ने ले लिया बड़ा फैसला, अमरावती प्रशासन के हाथ-पांव फूले

0
423
मनपा
लॉकडाउन के कारण हमेश चहल-पहल और भीड़ भरी रहने वाले अमरावती के मुख्य बाजार का दृश्य. 

सुबह-सुबह दुकानें बंद कराने और पुलिस के बिगड़े बोल से बिगड़ा वातावरण, बुधवार से होगी स्थिति सामान्य

अमरावती (महाराष्ट्र) : अमरावती शहर के थोक और रिटेल किराना बाजार और सब्जी मंडी बुधवार, 8 अप्रैल से नियमित रूप से समय पर खुलेंगे. कुछ गलतफहमियों के कारण नाराज व्यापारियों ने सोमवार को अचानक आगामी 14 अप्रैल तक बंद रखने का निर्णय कर लिया था. लेकिन कल दिन भर व्यापारियों और अमरावती महानगर पालिका तथा पुलिस एवं प्रशासन के अधिकारियों ने कई दौर की चर्चा की. बाद में संयुक्त बैठक में व्यापारियों की नाराजगी दूर हो सकी. फलस्वरूप व्यापारियों ने बुधवार से नियमित ढंग से बाजार खोलने और बंद करने का फैसला किया.

मनपा
व्यापारियों और अधिकारियों के साथ अमरावती मनपा आयुक्त प्रशांत रोड़े के साथ सोमवार की शाम संयुक्त बैठक का दृश्य. 

इस बीच पुलिस और प्रशासन की ओर से बाजार क्षेत्र में ग्राहकों के आवागमन और माल लाने एवं बाहरगांव भेजने की व्यवस्था को सुचारू करने के लिए सर्वसम्मति से आवश्यक दिशानिर्देश जारी किए. इसके तहत सक्कारसाथ में यातायात को वन-वे करने, पार्किंग और माल बुकिंग एवं माल लोडिंग के समय भी तय किए गए.

व्यवस्था सुचारू करने के सर्वसम्मति से हुए निर्णय
सक्कारसाथ बाजार, इतवारा मार्ग से आना होगा और जवाहर गेट मार्ग से बाहर जाना होगा. जवाहर गेट से कोई वाहन सक्कारसाथ नहीं जाएगा. बाजार के व्यापारी और ग्राहकों की वाहन बालाजी मंदिर प्रांगण में खड़े रहेंगे. वहां जगह कम पड़ी तो वाहन इतवारा और लोहा बाजार गली में खड़े किए जा सकेंगे. प्रमुख बाजार में केवल थोक व्यापारियों की दुकानें ही खुलेंगी.

मनपा
अमरावती की सब्जी मंडी का लॉकडाउन में असर. 

तय व्यवस्था के अनुसार ग्रामीण क्षेत्र में माल भेजने के लिए सुबह 7 बजे से 11 बजे तक माल बुकिंग का समय होगा. माल की लोडिंग 11 बजे से दोपहर 2 बजे तक की जा सकेगी. रिटेल और सेमी रिटेल दुकानों को बंद रखने का आदेश दिया गया. इसके लिए व्यापारियों से थोक और रिटेल दुकानों की सूची लिखित रूप से देने को कहा गया है.

शाम की संयुक्त बैठक में मनपा आयुक्त प्रशांत रोड़े, विधि अधिकारी श्रीकांत चव्हाण, स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. विलास काले, नागपुरी गेट पुलिस के थानेदार अर्जुन ठोसरे, खोलापुरी गेट के थानेदार अतुल घारपांडे, थोक मार्केट एसोसिएशन के अध्यक्ष गोविन्द सोमाणी, रिटेल किराना व्यापारी असोसिएशन के अध्यक्ष आत्माराम पुरसवानी, मनोज खंडेलवाल, शैलेश राठी, अब्दुल सलीम, विजय माकड़ा, प्रशांत अग्रवाल और अन्य व्यापारी प्रतिनिधि शामिल थे.

मनपा
थोक बाजार.  

ऐसे अचानक व्यापारियों में फैली नाराजगी
व्यापारियों में रोष का कारण बना सोमवार की सुबह 8.30 बजे अचानक पुलिस द्वारा बाजार बंद करने आदेश देना और पूछे जाने पर व्यापारियों के साथ बदसलूकी से पेश आना. सुबह आठ बजे व्यापारियों ने शनिवार और रविवार की बंदी के बाद अपनी-अपनी दुकानें खोली ही थीं कि पुलिस वाहन का सायरन बजने लगा और माइक से दुकानें बंद करने के फरमान सुनाए जाने लगे. इससे व्यापारी असमंजस में पड़ गए. क्योंकि शनिवार को भी अचानक दुकानें बंद कराए जाने के बाद उन्हें सोमवार से सुबह 8 बजे दुकानें खोलने की अनुमति दी गई थी.

बता दें कि गत दिनों स्थानीय हाथीपुरा परिसर के एक व्यक्ति की कोरोना संक्रमण से मौत हो गई थी. उसकी रिपोर्ट पॉजीटीव आते ही जिला प्रशासन के निर्देश पर मनपा प्रशासन ने शनिवार को हाथीपुरा परिसर के आसपास करीब डेढ़ से दो किलोमीटर के इलाके को बफर जोन घोषित किया और यहां पर बेहद कड़ा कर्फ्यू लागू करते हुए सैनिटाईजेशन का काम शुरू किया गया. उल्लेखनीय है कि हाथीपुरा परिसर से लगकर ही शहर का सक्करसाथ एवं इतवारा बाजार परिसर है. जहां पर अनाज व किराणा का होलसेल व्यापार चलता है. जिसे हाथीपुरा में रहनेवाले मुमताज खां नामक व्यक्ति की थ्रोट स्वैब रिपोर्ट पॉजीटीव आने के बाद शनिवार की सुबह 8.30 बजे बंद करा दिया गया था. साथ ही दो दिन तक इस परिसर में बेहद कड़ा कर्फ्यू लागू करते हुए सोमवार से यहां पर कर्फ्यू में ढील देने की बात कही गई थी.

लेकिन सोमवार को भी अचानक सक्करसाथ सहित चित्रा चौक, इतवारा बाजार, मालवीय चौक व पुराना कॉटन मार्केट परिसर स्थित साग-सब्जी तथा किराना व अनाज की सभी होलसेल व रिटेल दुकानों को स्थानीय पुलिस ने बंद करने का आदेश दे दिया था.

पुलिस अधिकारी के बिगड़े बोल से मामला बिगड़ा
व्यापारियों के प्रतिनिधियों ने जब पुलिस अधिकारी से अचानक के इस आदेश के बारे में पूछताछ की तो अधिकारी के बिगड़े बोल के कारण व्यापारियों में रोष पैदा हो गया और उन्होंने आगामी 14 अप्रैल तक अपनी-अपनी दुकानें बंद करने का फैसला कर लिया. साथ ही उन्होंने इसकी सूचना अमरावती मनपा के आयुक्त प्रशांत रोड़े से मिल कर उन्हें दे दी.

थोक मार्केट एसोसिएशन के अध्यक्ष गोविंद सोमाणी एवं रिटेल किराना मर्चेंट एसोसिएशन के अध्यक्ष आत्माराम पुरसवानी ने मनपा आयुक्त से कहा कि रोज-रोज इस प्रकार पुलिस से अपमानित होने के बदले अब लॉकडाउन समाप्त होने पर ही अपनी दुकानें खोलेंगे. उन्होंने कहाकि मार्केट बाद होने से आवश्यक सामग्रियों की किल्लत होने के लिए उन्हें जिम्मेदार नहीं ठहराया जाए.

व्यापारियों की ऐसी नाराजगी देखते हुए मनपा और पुलिस-प्रशासन सकते में आ गए. दिन भर बैठकों का दौर चला और शाम को अंततः एक संयुक्त सभा में स्थिति सामान्य बनाने के फैसले सर्वसम्मति से किए गए.

NO COMMENTS