महाराष्ट्र मंत्रिमंडल : विभागों के बंटवारे पर माथापच्ची जारी

0
181
सरकार
symbolic picture...

32 दिनों बाद आज मंत्रियों के विभागों की घोषणा का संभावना

मुंबई : महाराष्ट्र में मंत्री पद की शपथ ग्रहण के तीन दिन बाद भी उद्धव ठाकरे सरकार में विभागों का बंटवारा समस्या बनी हुई है. पिछले सोमवार, 30 दिसंबर को मंत्री पद की शपथ के बाद महाराष्ट्र में विभागों के बंटवारे को लेकर महाविकास आघाड़ी गठबंधन यानी शिवसेना, कांग्रेस और एनसीपी के बीच माथापच्ची ही चल रहा है.

चल रहीं मैराथन बैठकें  
इधर मंत्री पद को लेकर नाराजगी के बीच तीनों दलों के नेताओं की विभागों के बंटवारे को लेकर कल बुधवार को भी मैराथन बैठकें हुईं. कांग्रेस की मंत्री पद को लेकर आज गुरुवार को भी आंतरिक बैठक विधान भवन में चल रही है.

सूत्रों ने बताया कि बुधवार को महाविकास आघाड़ी गठबंधन के घटकदलों के नेताओं की विभागों के बंटवारे को लेकर मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के साथ कई दौर की वार्ता हुई. आशा है कि सरकार गठन के करीब 32 दिनों बाद आज विभागों के बंटवारे को लेकर घोषणा हो सकती है.

ज्ञातव्य है कि सोमवार को उद्धव मंत्रिमंडल का विस्तार किया गया था और 36 मंत्रियों को शामिल किया गया. मंत्रिपरिषद के सदस्यों की संख्या बढ़कर अब 43 हो गई है. इनमें मुख्यमंत्री भी शामिल हैं.

कांग्रेस को ग्रामीण क्षेत्रों से संबंधित विभाग चाहिए
कांग्रेस की ओर से अशोक चव्हाण, बालासाहेब थोरात, विजय वडेट्टीवार और नितिन राउत, जबकि राकांपा की ओर से जयंत पाटिल और अजीत पवार तथा एकनाथ शिंदे की शिवसेना की ओर से ठाकरे से गुफ्तगू हुई. कांग्रेस सूत्रों के मुताबिक, पार्टी इस बात से नाराज है कि उसे कृषि और सहकारिता जैसे ग्रामीण क्षेत्रों से संबंधित कोई भी विभाग नहीं मिला है.

कांग्रेस सूत्रों ने बताया, ”हम अन्य दो दलों के साथ विभागों की अदला-बदली कर सकते हैं. हम विभागों की संख्या में वृद्धि की मांग नहीं कर रहे हैं. कांग्रेस नेताओं का मानना है कि पार्टी को कृषि, सहकारिता, आवास और ग्रामीण विकास विभाग नहीं मिले हैं जो राज्य के ग्रामीण जीवन से संबंधित हैं.

विधायकों की नाराजगी भी…
हालांकि, इस बीच तीनों दलों को ऐसे नेताओं के नाराजगी का भी सामना करना पड़ रहा है, जिन्हें मंत्रिमंडल में शामिल नहीं किया गया है. ऐसे विधायकों में कांग्रेस के संग्राम थोपटे शामिल हैं, जिनके समर्थकों ने मंगलवार को पुणे कांग्रेस कार्यालय में तोड़फोड़ भी की थी. असंतुष्ट नेताओं में राकांपा के प्रकाश सोलंकी भी शामिल हैं. दोनों दलों का कहना है कि दोनों को मना लिया गया है.

NO COMMENTS