बेहतर मासिक रिटर्न के लिए कहां लगाएं अपनी गाढ़ी कमाई की बचत?

0
511
मासिक रिटर्न

अल्प आय वाले और सेवानिवृत वरिष्ठ नागरिकों की बड़ी जरूरत

निवेश विकल्प : कम आय वाले सेवानिवृत वरिष्ठ नागरिकों और नौकरीपेशा लोगों के पास अपनी बचत को और अधिक बढ़ाने के माध्यम बहुत सीमित हैं. जबकि इन दोनों वर्गों के लोगों के लिए अपने भविष्य को सुधारने की चिंता सर्वाधिक होती है. यह वर्ग अपने बच्चों, बुजुर्गों और अपने लिए अपनी मेहनत की कमाई से बचाए गए पैसे को सुरक्षित रखने और उसमें निरंतर वृद्धि करने के मार्ग ढूढता रहता है.

सरकारी नौकरी वाले व्यक्ति के लिए सरकारी पीएफ और पेंशन एक बड़ी राहत है. लेकिन निजी क्षेत्र में काम करने वाला और निजी क्षेत्र से सेवानिवृत हुए व्यक्ति के लिए तो एकमात्र भरोसा उसका बचत ही होता है. खासकर निजी क्षेत्र में काम करने वाले या सेवानिवृत अल्पआय वाले उन लोगों के लिए, जिन्हें अपनी बचत से आजीविका चलाने में मदद वाली मासिक आय की जरूरत है, कहां से मिले इन्हें अधिक मासिक रिटर्न?

अमूमन यह देखा जा रहा है कि आज बैंकों में चाहे एफडी हो या फिर बचत खाता उसमें ब्याज काफी कम हो गया है. सलाह यह दी जाती है कि म्यूच्युअल फंड में एसआईपी के माध्यम से निवेश करें. इसमें एक ख़ास अवधि में बड़ा रिटर्न मिलता है, लेकिन यहां पर पैसे पर कुछ रिस्क भी रहता है और यह रिस्क बाजार के उतार-चढ़ाव के साथ बना रहता है. साथ ही इसमें लम्बी अवधि तक निवेश जरूरी है. कम अवधि का निवेश तो बिलकुल ही नुकसानदायक है.

लेकिन यदि अपनी बचत की रकम से यदि अच्छी मासिक रिटर्न की आपको जरूरत हो तो? तो आप कहां जाएं? सार्वजनिक क्षेत्र के बैंक हों या निजी क्षेत्र के, उनके एफडी (सावधि जमा) पर भी ब्याज दर बहुत कम हैं. नेट पर उपलब्ध जानकारी के अनुसार निजी क्षेत्र की ऐसी मात्र दो विश्वसनीय वित्तीय संस्थाएं हैं, जो इन बैंकों और अन्य निजी क्षेत्र की वित्तीय संस्ताओं से एफडी पर अधिक ब्याज दे रही हैं. इनमें से एक है- ईएसएएफ स्माल फाइनेंस बैंक (ESAF Small Finance Bank), जहां एफडी पर 8.75% सालाना ब्याज है और वरिष्ठ नागरिकों के लिए 9.25% की दर से मिलता है. लेकिन यदि मासिक ब्याज चाहिए तो यह दर लगभग .40% कम हो जाता है. फिर भी यह अन्य से अधिक मासिक ब्याज देता है.

इसी तरह दूसरी अन्य निजी क्षेत्र की विश्वसनीय वित्तीय संस्था है- बजाज फायनांस. हाल ही में इसने सावधि जमा योजना शुरू की है. यह वरिष्ठ नागरिकों को तीन साल की जमा पर 9.10 प्रतिशत ब्याज दे रहा है और एफडी पर मासिक ब्याज 8.70 प्रतिशत देता है.

बजाज फायनांस एफडी का पूरा चार्ट यहां देखें-
मासिक रिटर्न
ऐसे में मेहनत की कमाई को बचाए रखने और उसे भविष्य के हिसाब से बढ़ाने के लिए सबसे बेहतर ऑपशन एफडी दिखाई देने लगा है.

1. नेट पर उपबल्ध जानकारी के अनुसार ईएसएएफ स्माल फाइनेंस बैंक (ESAF Small Finance Bank) में सामान्य नागरिक को एफडी पर 8.75% सालाना ब्याज मिलेगा. जबकि इसी बैंक में वरिष्ठ नागरिकों को यह 9.25% की दर से मिलता है.

2. बजाज फायनांस ने हाल ही में सावधि जमा योजना शुरू की है. मामान्य लोगों को 3 वर्ष के डिपॉजिट पर यह 8.75 प्रतिशत और मासिक रिटर्न पर 8.42 प्रतिशत ब्याज देता है. जबकि वरिष्ठ नागरिकों को यह तीन साल की जमा पर 9.10 प्रतिशत ब्याज और एफडी पर मासिक ब्याज 8.70 प्रतिशत देता है.

3. उधर, उत्कर्ष स्माल फाइनेंस बैंक (Utkarsh Small Finance Bank) में आम खाताधारक को एफडी पर 8.25% सालाना ब्याज मिलेगा. जबकि यहां पर वरिष्ठ नागरिकों को सावधि जमा पर 8.75% सालाना की दर से ब्याज मिलता है.

4. केरल ट्रांसपोर्ट डेवलेपमेंट फाइनेंस कॉर्पोरेशन लि. (Kerala Transport Development Finance Corporation Ltd (KTDC)) में एफडी कराने में सामान्य खाताधारको 8.25 % की दर से ब्याज मिलता है जबकि वरिष्ठ नागरिक को यहां पर भी 8.50 % की दर से ज्यादा ब्याज दिया जाता है.

5. फिनकेयर स्माल फाइनेंस बैंक (Fincare Small Finance Bank)में एफडी कराने पर सामान्य खाताधारको 8.00 % सालाना की दर से ब्याज मिलता है जबकि सीनियर सिटिजन को 8.50% की दर से ब्याज दिया जाता है.

6. श्रीराम सिटी यूनियन फाइनेंस (Shriram City Union Finance) में खाता खुलवाकर एफडी करवाने पर आम आदमी को 7.65 % की दर से सालाना ब्याज दिया जाता है जबकि सीनियर सिटीजन को 7.90 % की दर से सालाना ब्याज दिया जाता है.

7. इसके बाद बाद एलआईसी हाउसिंग फाइनेंस (LIC Housing Finance Ltd) की. यहां पर आम नागरिक को 7.30 % की दर से वार्षिक ब्याज दिया जा रहा है जबकि वरिष्ठ नागरिकों को 7.40% से सालाना ब्याज दिया जा रहा है. इतना ही नहीं यदि वरिष्ठ नागरिक अगर 51000 या इससे ज्यादा जमा करवाते हैं तब उन्हें 7.55 % की दर से ब्याज दिया जाता है.

8. एक अन्य बैंक है रेप्को बैंक (Repco Bank). यहां पर एफडी पर सामान्य नागरिक को 7.25 % की दर से ब्याज दिया जा रहा है जबकि वरिष्ठ नागरिकों को 7.75 % की दर से सालाना ब्याज दिया जा रहा है.

9. आईसीआईसीआई होम फाइनेंस (ICICI Home Finance) में यदि सावधि जमा कराया जाए तब यहां पर सामान्य आदमी को 7.20 % की दर से ब्याज मिलेगा जबकि वरिष्ठ नागरिकों को एफडी पर 7.45 % की दर ब्याज दिया जाएगा.

10. आरबीएल बैंक (RBL Bank) में भी ब्याज दर ठीक है. यहां पर आम आदमी को एफडी कराने पर 7.25 % की दर से सालाना ब्याज मिलेगा जबकि वरिष्ठ नागरिकों को 7.75 % की दर से जमा पर ब्याज मिलेगा.

11. इसके अलावा लक्ष्मी विलास बैंक (Lakshmi Vilas Bank) में आम खाताधारकों को एफडी पर 7.25 % की दर से प्रतिवर्ष ब्याज मिलता है जबकि वरिष्ठ नागरिकों को 7.85 % की दर से प्रतिवर्ष ब्याज दिया जाता है.

12. इनके अलावा सार्वजनिक क्षेत्र के स्टेट बैंक ऑफ इंडिया, डाकघर सावधि जमा खाता और अन्य बैंकों के ब्याज दर एफडी (सावधि जमा) पर भी कम ही हैं.

केंद्र सरकार की अटल पेंशन योजना के बारे में 13 खास बातें
वर्तमान की केंद्र सरकार भी अटल पेंशन योजना लेकर आई है. कुछ लोग तो इसे ‘निवेश योजना’ भी बताते हैं. आइए, देखें इसमें क्या कुछ है कम आय वाले नौकरी पेशा वालों के लिए-

1. अगर अटल पेंशन योजना में निवेश किया जाता है, तब 60 वर्ष की आयु से लेकर बाकी जीवन काल तक 1,000 रुपए प्रति माह से लेकर 5,000 रुपए प्रति माह की पेंशन मिलेगी. यानी अटल पेंशन योजना में पेंशन 1,000, 2,000, 3,000, 4,000 या 5,000 रुपए प्रति माह तक मिलती है.

2. इससे यह साफ है कि 60 वर्ष तक कोई योजना में कितना पैसा डालता है, यह राशि उस पर निर्भर करती है. इस स्कीम की सबसे खास बात है कि यह योजना सरकार की ओर से जारी की गई है सो इसकी गारंटी सरकार की है.

3. इस योजना का दूसरा लाभ यह है कि यह स्कीम योजनाधारक की मृत्यु के बाद भी चालू रहती है. यानी योजनाधारक के ऊपर आश्रित को भी इस योजना का लाभ मिलता है. मृत्यु के बाद पति या पत्नी को यह पेंशन मिलती रहेगी.

4. दोनों की मृत्यु के बाद, पत्नी (या पति) की मृत्यु के बाद 60 वर्ष की आयु पर जो भी पेंशन फंड में राशि थी, वह नोमिनी को दे दी जाती है. पति या पत्नी के निधन के बाद जमा राशि (जो भी 60 वर्ष की आयु तक जमा हो गयी थी) नोमिनी को दे दी जाती है.

5. इसका एक लाभ यह है कि यदि योजना के समय से पहले ही स्कीम धारक की मृत्यु हो जाती है तब, जमा राशि नोमिनी को दे दी जाती है.

6. इतना ही नहीं, इसमें पत्नी (पति अगर पत्नी स्कीम धारक है तब) को स्कीम चालू रखने की भी छूट होती है. वह 60 वर्ष की आयु तक योजना में पैसा जमा कर स्कीम चालू रख सकती है और फिर उसका पूरा लाभ उठा सकती है.

7. अटल पेंशन योजना में खाता खोलने के लिए भारतीय नागरिक होना चाहिए. इसके लिए न्यूनतम आयु 18 वर्ष है. इस योजना में प्रवेश के लिए अधिकतम आयु 40 वर्ष रखी गई है. इसके लिए आपके पास किसी भी बैंक में बचत खाता होना चाहिए. एक व्यक्ति अटल पेंशन योजना के तहत केवल एक खाता खोल सकता है.

8. अटल पेंशन योजना में खाता खोलने के लिए किसी भी सरकारी बैंक में जाकर योजना का फॉर्म भरके आवेदन किया जा सकता है और खाता खोला जा सकता है. इस योजना का लाभ ऑनलाइन भी लिया जा सकता है. यानी ऑनलाइन भी इसका खाता खोला जा सकता है.

9. इस योजना के लिए राशि सालाना, छमाही, त्रैमासिक या फिर मासिक दी जा सकती है. अटल पेंशन योजना के अंतर्गत आपको कितनी पेंशन मिलेगी यह बात आपकी योगदान राशि और योजना में प्रवेश की आयु पर निर्भर करती है.

10. अटल पेंशन योजना में इस बात का प्रावधान है कि आप पेंशन जमा करने की राशि कभी भी बदल सकते हैं. यह काम वर्ष में एक बार अप्रैल के महीने में किया जा सकता है. उसी के हिसाब से पेंशन राशि तय हो जाती है. पेंशन राशि में वृद्धि के लिए, निवेशक (अभिदाता) को योगदान के अंतर राशि का भुगतान करना होगा. साथ की भुगतान पर 8% मासिक चक्रवृद्धि ब्याज भी जमा करना होगा. पेंशन राशि में कटौती के मामले में, ग्राहक को योगदान की अतिरिक्त राशि वापस कर दी जाती है.

11. इस योजना का एक और लाभ है कि 60 वर्ष की आयु से पहले अटल पेंशन योजना का खाता बंद किया जा सकता है. 60 वर्ष की आयु से पहले निधन या किसी गंभीर बीमारी के इलाज के लिए अटल पेंशन योजना खाता बंद किया जा सकता है. यह बीमारियाँ हैं – कैंसर, किडनी का फेल होना, दिल की गंभीर बीमारी, आदि.

12. योजना में खाताधारक को पैसा जमा करने पर टैक्स में भी छूट मिलती है. अटल पेंशन योजना में निवेश के लिए धारा 80 सीसीडी (1) और धारा 80 सीसीडी (1 बी) के तहत टैक्स बेनिफिट ले सकते हैं. धारा 80 सीसीडी (1) के तहत, आप अपनी वार्षिक आय के 20% तक के लिए अटल पेंशन योजना में निवेश के लिए टैक्स बेनिफिट ले सकते हैं (अधिकतम 1.5 लाख प्रति वित्तीय वर्ष). यह धारा 80सी के तहत 1.5 लाख की सीमा के अन्दर आता है.

13. धारा 80 सीसीडी (1बी) सेक्शन 80 सीसीडी(1बी)) के तहत, आप अटल पेंशन योजना में निवेश के लिए 50,000 रुपये तक का एक अतिरिक्त कर लाभ उठा सकते हैं. यह नियम सीबीडीटी ने फरवरी 19, 2016 को अधिसूचित किया था.

इस योजना का लाभ उठाने के लिए एक बार जरूर पूरी जानकारी प्राप्त कर लें.

(नोट : यह पूरी जानकारी नेट पर उपलब्ध जानकारी के आधार पर दी गई है. बैंक और वित्तीय संस्थाएं समय-समय पर आरबीआई के दिशा-निर्देशों के आधार पर अपने ब्याज दरों में बदलाव भी करती रहती हैं. अतः ऊपर दिए गए ब्याज दर भी बदल सकते हैं.)

NO COMMENTS