आधी रात के बाद प्रमोद सावंत ने ली गोवा के मुख्यमंत्री के पद की शपथ

0
1379
प्रमोद सावंत

नई दिल्ली : गोवा विधानसभा के स्पीकर प्रमोद सावंत ने मंगलवार की रात करीब पौने दो बजे पणजी स्थित गोवा के राजभवन में मुख्यमंत्री पद की शपथ ली. राज्य के मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर के देहांत के बाद सहयोगी दलों के समर्थन के साथ उन्होंने राज्यपाल श्रीमती मृदुला सिन्हा के समक्ष कल देर रात ही अपनी दावेदारी पेश की थी.

सावंत के अलावा 11 विधायकों को भी मंत्री पद की शपथ दिलाई गई है. इनमें महाराष्ट्रवादी गोमांतक पार्टी (एमजीपी) के विधायक सुधिन धवलिकर और गोवा फॉरवर्ड पार्टी (जीएफपी) के अध्यक्ष एवं विधायक विजय सरदेसाई ख़ास हैं. बाकी शपथ लेने वाले वे पुराने ही विधायक हैं जो पर्रिकर सरकार में मंत्री थे.

ऐसा माना जा रहा है कि सुधिन धवलिकर और विजय सरदेसाई को उप-मुख्यमंत्री पद की ज़िम्मेदारी दी जाएगी.

46 साल के सावंत आरएसएस काडर से आने वाले गोवा में भाजपा के अकेले विधायक हैं. इससे पहले वह पार्टी के प्रवक्ता और गोवा विधानसभा के अध्यक्ष रहे हैं.

सोमवार को दिन में मनोहर पर्रिकर के अंतिम संस्कार के बाद गोवा में राजनीतिक सरगर्मियां खासी तेज़ हो गई थीं. रविवार शाम को ही केंद्रीय मंत्री नितिन गड़करी गोवा पहुंच गए थे. मंगलवार को देर रात वह पार्टी और सहयोगी पार्टियों के विधायकों का समर्थन पत्र लेकर राजभवन पहुंचे.
प्रमोद सावंत
उल्लेखनीय है कि पर्रिकर की मृत्यु के बाद सदन में बीजेपी के संख्याबल को लेकर संशय बरकरार था, क्योंकि ऐसा सोचा जा रहा था कि उसकी सहयोगी महाराष्ट्रवादी गोमांतक पार्टी (एमजीपी) और गोवा फॉरवर्ड पार्टी (जीएफपी) उससे दूर जा सकती हैं.

40 सीट वाली गोवा विधानसभा में इस समय कुल 36 विधायक हैं. कांग्रेस के सदन में 14 और भाजपा के 12 विधायक हैं. वहीं, एमजीपी और जीएफपी के तीन-तीन विधायक हैं, जिनका समर्थन भाजपा को प्राप्त है. साथ ही तीन निर्दलीय विधायकों का समर्थन भी भाजपा को है.

दावा किया था कांग्रेस ने भी
इस समय सदन में कांग्रेस सबसे बड़ा दल है और इसी कारण उसने भी सदन में अपने पास संख्याबल होने का दावा किया था. इसी दावे के आधार पर कांग्रेस ने गोवा की राज्यपाल मृदुला सिन्हा को चिट्ठी लिखकर भाजपा के नेतृत्व वाली सरकार को भंग करने की मांग की थी. इस चिट्ठी में राज्यपाल से कहा गया था कि राज्य की इकलौती सबसे बड़ी पार्टी होने के कारण कांग्रेस को सरकार बनाने का न्यौता दिया जाए.

शपथ ग्रहण समारोह में जाने से पहले प्रमोद सावंत ने पत्रकारों से कहा कि उन्हें पार्टी ने यह ज़िम्मेदारी दी है और इस बड़ी ज़िम्मेदारी को वह पूरी मेहनत से निभाएंगे. पूर्व मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर पर भी उन्होंने पत्रकारों से बात की. उन्होंने कहा कि वह आज जहां पर हैं, पूर्व मुख्यमंत्री पर्रिकर की वजह से ही हैं.

उन्होंने कहा, “मैं यहां पर्रिकर जी के लिए ही हूं. वह ही मुझे राजनीति में लाए, उन्हीं के लिए मैं स्पीकर बना. उन्हीं के लिए अब सीएम बन रहा हूं.”

गोवा गोवा

NO COMMENTS