लोकसभा-2019 : कांग्रेस ने अपनी ‘बड़ी ताकत’ प्रियंका को आखिर उतारा चुनावी समर में

0
357
महासचिव

पूर्वी यूपी की कमान सौंपी पार्टी महासचिव के रूप में, पश्चिमी यूपी संभालेंगे ज्योतिरादित्य

नई दिल्ली : देश में सत्ता की कमान पर अपना सिक्का चलाने वाले राज्य उत्तर प्रदेश में कांग्रेस ने अपनी सबसे बड़ी ताकत झोंक दी है. एक बड़ा कदम उठाते हुए कांग्रेस अध्‍यक्ष राहुल गांधी की बहन प्रियंका गांधी वाड्रा की भी औपचारिक रूप से कांग्रेस में शामिल कर लिया गया है. उनको पार्टी ने पूर्वी उत्तर प्रदेश का प्रभार देते हुए महासचिव बनाया है. कांग्रेस महासचिव और राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने बयान में कहा है कि वह फरवरी से कामकाज शुरू करेंगी.
प्रियंका गांधी वाड्रा
कांग्रेस की बड़ी ताकत- प्रियंका
उत्तर प्रदेश में जब सपा और बसपा ने गठबंधन से कांग्रेस को अलग कर दिया था तब राहुल गांधी ने कहा था की कांग्रेस उ.प्र. में पूरी ताकत के साथ चुनाव लड़ेगी. और पार्टी ने अपनी बड़ी ताकत प्रियंका को पेश कर दिया है. उन्हें कांग्रेस ने पहली बार आधिकारिक रूप से कोई जिम्‍मेदारी सौंपी है. अभी तक वह गांधी परिवार का गढ़ मानी जाने वाली रायबरेली और अमेठी सीटों पर ही अपनी मां और भाई के लिए ही कांग्रेस का प्रचार करती रही थीं.

भाजपा-नमो के साथ ही सपा-बसपा गठबंधन के लिए भी बड़ी चुनौती
कांग्रेस के वरिष्‍ठ नेता मोतीलाल वोरा ने कहा, ”प्रियंका जी को जो जिम्‍मेदारी दी गई है, वह बेहद अहम है. इसका प्रभाव केवल पूर्वी उत्तर प्रदेश ही नहीं, बल्कि अन्‍य क्षेत्रों में भी होगा.” सूत्रों के अनुसार प्रियंका की यह इंट्री भारतीय जनता पार्टी और प्रधानमंत्री मोदी के साथ ही सपा-बसपा गठबंधन के लिए भी बड़ी चुनौती खड़ी करेगी. इससे पहले प्रियंका गांधी हमेशा सक्रिय राजनीति में आने की बात को टालती रहीं.

ज्‍योतिरादित्‍य को भी मिली पश्चिमी उत्तर प्रदेश की कमान
कांग्रेस ने इसके साथ ही ज्‍योतिरादित्‍य सिंधिया को पश्चिमी उत्तर प्रदेश का महासचिव बनाया गया है. कांग्रेस ने पहली बार एक राज्‍य में दो महासचिव बनाए हैं. इससे पहले यूपी में कांग्रेस के महासचिव गुलाब नबी आजाद थे. उन्हें तत्‍काल प्रभाव से हरियाणा का प्रभारी नियुक्‍त किया गया है. इसके अलावा ही के.सी. वेणुगोपाल को कांग्रेस का जनरल सेक्रेट्री (संगठन) बनाया गया है. वह इसके साथ कर्नाटक के जनरल सेक्रेट्री बने रहेंगे.

NO COMMENTS