डॉ. विजय इंगोले को ‘जीवन गौरव सम्मान’

0
1739

इलेक्ट्रॉनिक्स और दूरसंचार विज्ञान क्षेत्र में रहा है उल्लेखनीय योगदान

अमरावती : प्रसिद्द शोधकर्ता एवं शिक्षाविद व संत गाडगेबाबा अमरावती विश्वविद्यालय के मानद सदस्य डॉ. विजय इंगोले को यहां इलेक्ट्रॉनिक्स एंड टेलीकॉमन्यूकेशन्स इंजीनियर्स सेंटर (ईटीईसी), अमरावती की ओर से ‘जीवन गौरव सम्मान-2018’ दिया गया. सेंटर की ओर से एक समारोह में यह सम्मान उन्हें नागपुर विश्वविद्यालय के पूर्व उपकुलपति डॉ. वी.एस. सपकाल ने दिया.

सतपुड़ा के प्राचीन अवशेषों और गुफाओं पर भी शोधकार्य
डॉ. इंगोले इंजीनियरिंग सेवा क्षेत्र और शिक्षा क्षेत्र में 40 वर्षों के योगदान के साथ ही शोधकार्यों में उल्लेखनीय कार्य किया है. अभीतक उनके शोधकार्यों के 32 राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्र्रीय पेटेंट उनके नाम हैं. वे देश और विदेश की अनेक इंजीनियरिंग और वैज्ञानिक संस्थाओं से जुड़े हैं. अपने निसर्ग प्रेम के कारण उन्होंने सतपुड़ा पर्वत श्रृंखला का भ्रमण कर वन्य जीवों और सतपुड़ा के प्राचीन अवशेषों और गुफाओं पर भी शोधकार्य किया है. इन शोधकार्यों के आधार पर ‘अरण्यगर्भ’ और ‘अश्म युगांतर’ शीर्षक की उनकी दो पुस्तकें भी प्रकाशित हुई हैं.

अन्य लोगों का भी हुआ सम्मान
ईटीईसी, अमरावती की ओर से समारोह में इलेक्ट्रॉनिक्स और दूरसंचार के क्षेत्र में महत्वपूर्ण योगदान के लिए अमरावती के अन्य लोगों के भी सम्मानित किया गया. इस अवसर पर एंबेडेड सिस्टम में महत्वपूर्ण योगदान के लिए काजल राजवैद को ‘सर्वश्रेष्ठ उद्यमी सामान’, पूरे करियर में उत्कृष्ट योगदान देने वाली डॉ. स्वाती शेरेकर को ‘लेडी इंजीनियर’ सम्मान, डॉ. निक्कु खालसा को ‘प्रोसेसिंग इंजीनियर’ सम्मान और प्रो. राम मेघे टेक्नीकल एंड रिसर्च इंस्टीच्यूट, बडनेरा के प्राचार्य डॉ. अमोल बोड़खे को ‘बेस्ट स्टूडेंट चैप्टर’ का सामान दिया गया.

इस अवसर पर इलेक्ट्रॉनिक्स और दूरसंचार पर पीएचडी पूरा करने वाले इंजीनियरों को भी सम्मानित किया गया. साथ ही ईटीईसी, अमरावती ने डॉ. विजय इंगोले को अपने चैप्टर का अध्यक्ष निर्वाचित किया.

NO COMMENTS