29.59 करोड़ की बिजली चोरी का भंडाफोड़ किया महावितरण ने

0
490

नागपुर : महावितरण के नागपुर परिक्षेत्र के अंतर्गत कार्यरत सुरक्षा कार्यान्वयन विभाग के छापामार ने 2017-18 में 29 करोड़ 59 लाख 76 हजार रुपए बिजली चोरी पकड़ी और उसमें से 20 करोड़ 14 लाख 21 हजार रुपए वसूल किए. छापामार दल की पूरे वर्ष की सक्रियता से महावितरण को अच्छी सफलता मिली है.

विदर्भ के सभी 11 जिलों में साल भर चली कार्रवाई
महावितरण के सुरक्षा व कार्यान्वयन विभाग के कार्यकारी संचालक अरविंद सालवे और नागपुर परिक्षेत्र के प्रादेशिक संचालक भालचंद्र खंडाईत के मार्गदर्शन में नागपुर परिक्षेत्र के प्रभारी उपसंचालक मंगेश वैद्य के नेतृत्व में विदर्भ के सभी 11 जिलों के छापामार दल ने 2017-18 में 9,320 बिजली कनेक्शनों की जांच की. इनमें से 3,689 प्रकरणों में गड़बड़ी पाई गई. इन प्रकरणों में भारतीय विद्युत अधिनियम 2003 की दफा 135 और 138 के अंतर्गत मीटर में हेराफेरी अथवा अन्य प्रकार के आपराधिक मामलों में कुल 10 करोड़ 96 लाख 80 हजार रुपए की बिजली चोरी के 2482 मामले उजागर हुए. इनमें अकोला मंडल की 243, अमरावती 229, बुलढाणा 200, भंडारा 251, चंद्रपुर 205, नागपुर शहर 187, नागपुर ग्रामीण 189, वर्धा 200, यवतमाल 250, गोंदिया 217, गढ़चिरोली 124 और वाशिम मंडल की 187 बिजली चोरियों का समावेश है.

48 लाख 38 हजार रुपए के अन्य मामले
इसके अलावा भारतीय विद्युत अधिनियम 2003 की दफा 126 के तहत 48 लाख 38 हजार रुपए के 107 मामले बिजली उपयोग में अनियमितताओं के भी सामने आए. ऐसे सर्वाधिक 23 मामले यवतमाल मंडल के, उसके बाद अमरावती मंडल की 21, अकोला 5, बुलढाणा 4, भंडारा 12, चंद्रपुर 9, नागपुर शहर 8, नागपुर ग्रामीण, वर्धा और गोंदिया मंडल के 7-7 और गढ़चिरोली एवं वाशिम मंडल के 2-2 मामलों का समावेश है.

1115 मामलों में 18 करोड़ 13 लाख 62 हजार रुपए की वसूली
साथ ही अनियमित बिजली दुरुपयोग के 1115 मामलों में 18 करोड़ 13 लाख 62 हजार रुपए की वसूली में महावितरण को सफलता मिली. इसमें अकोला मंडल के 115, अमरावती मंडल के 71, बुलढाणा 33, भंडारा 116, चंद्रपुर 106, नागपुर शहर 162, नागपुर ग्रामीण 150, वर्धा 58, यवतमाल 71, गोंदिया 97, गढ़चिरोली 38 और मंडल के मामलों का समावेश है.

20 करोड़ 14 लाख 21 हजार रुपए महावितरण ने वसूले
इन सभी 2,482 मामलों में कुल 29 करोड़ 59 लाख 76 हजार रुपए के बिजली उपयोग और बिजली चोरी पकड़ी गई. इसमें 20 करोड़ 14 लाख 21 हजार रुपए वसूल करने में महावितरण को सफलता मिली है. साल भर की लगातार चली इस कार्रवाई में डोंगरवार, डी. बारापात्रे, एस. कुथे, ए. ओझा, एस. दास, वी. नवघरे, एस. हेडाऊ, एस. कन्नाके, डी. नागपूरकर, एस. पेगलपट्टी, आर. हस्ते और एस. देशमुख शामिल रहे.

NO COMMENTS