पत्थर से कुचल कर हत्या मामले की गुत्थी सुलझी, आरोपी ने कबूला जुर्म

0
159

कोंढाली (नागपुर) : पिछले 13 अप्रैल की रात प्रदीप कोलते नामक युवक की पत्थर से कुचल कर की गई हत्या मामले में स्थानीय पुलिस ने एक 11वीं कक्षा में पढ़ने वाले लड़के को गिरफ्तार किया है. पुलिस के अनुसार अवयस्क लड़के ने हत्या का अपराध कबूल भी कर लिया है.

नागपुर-अमरावती मार्ग पर चाकडोह फाटे से एक मार्ग शिवा की ओर जाता है, इस मार्ग पर 14 अप्रैल की सुबह 5 बजे लोगों को शिवा निवासी अविवाहित युवक प्रदीप राजाराम कोलते (25) की लाश मिली थी. मृतक के चहेरे तथा सर पर पत्थर से वार कर हत्या की गई थी. मृतक के भाई विनोद कोलते की शिकायत पर कोंढाली के थानेदार पुरुषोत्तम अहेरकरने हत्या का मामला दर्ज कर जांच शुरू किया. शिकायत में प्रदीप की हत्या का संदेह उसके शराबी मित्र दिवाकर परतेती (25) तथा मारोती नेहारे (35, मु.शिवा) पर जाहिर की गई थी.

कोंढाली पुलिस ने दोनों को हिरासत में लिया और फिर रिमांड पर लेकर जांच आगे बढ़ाई. दोनों हत्या में हाथ होने से इंकार करते रहे. थानेदार पुरुषोत्तम अहेरकर ने अपने मुखबिरों को शिवा गांव में काम से लगाया. उन्होंने इस हत्या में 11वीं कक्षा की परीक्षा देनेवाले एक छात्र का हाथ होने का सुराग दिया.

इस आधार पर पुलिस द्वारा पिता के निधन के कारण खेतों में मजदूरी कर जीवन-यापन कर रहे उस 16 वर्ष 10 माह उम्र के छात्र से पूछताछ करने पर उसने हत्या का अपराध कबूल कर लिया. उसने बताया कि उस रात खेत में प्रदीप उसके पास शराब पीने पहुंचा, जहां वह मवेशियों को पानी पिला रहा था. प्रदीप वहीं बैठ कर अपने साथ लाई शराब पीना चाहता था. लड़के ने बताया कि उसने उसे वहां शराब पीने नहीं दिया और प्रदीप को उसने खदेड़ दिया.
इसके बाद रात 8.30 से 9 बजे के बीच जब वह खेत से घर वापस जा रहा था, तब उसे चाकडोह-शिवा मार्ग के एक नाले के समीप फिर प्रदीप मिला और उसके साथ झगड़ने लगा. दोनों नीचे गिर गए, प्रदीप उसे कॉलर पकड़ कर मार रहा था. इस दौरान उसने पास से एक पत्थर उठाकर प्रदीप के चहेरे तथा सर पर चार पांच वार किए, जिससे शराब के नशे में धुत प्रदीप गंभीर रूप से घायल हो गया. उसके बाद आरोपी घर वापस आ गया, खून से सने हाथ धोए तथा कपड़े बदले. बाद में प्रदीप की मौत हो गई.
आरोपी लड़के का इकबालिया बयान लेकर कोंढाली पुलिसने कम उम्र का होने के कारण उसको बाल सुधारगृह रवाना कर दिया. थानेदार पुरुषोत्तम अहेरकर स्वयं इस मामले की जांच कर रहे हैं.

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY