वेकोलि के खदान के पानी का उपयोग विद्युत उत्पादन में करेगा महाजेनको

0
598

भानेगांव खदान से मुफ्त के पानी से प्रतिवर्ष बड़ी रकम की बचत करेगी बिजली कंपनी

नागपुर : वेस्टर्न कोलफील्ड्स लिमिटेड (वेकोलि) और महाजेनको ने आज रविवार, 25 मार्च 2018 को कोयला खदानों के पानी के सदुपयोग के लिए एक सहमति-पत्र (मेमोरेंडम ऑफ अंडरस्टैंडिंग) पर हस्ताक्षर किए. इसके तहत वेकोलि के नागपुर क्षेत्र की भानेगांव खदान से निकले पानी का, महाजेनको के खापरखेड़ा ताप विद्युत् गृह में निःशुल्क उपयोग किया जाएगा.

मुख्यमंत्री देवेन्द्र फड़णवीस, ऊर्जा मंत्री चन्द्रशेखर बावनकुले की पहल

मुख्यमंत्री देवेन्द्र फड़णवीस के मार्गदर्शन एवं राज्य के ऊर्जा मंत्री चन्द्रशेखर बावनकुले की पहल से वेकोलि और महाजेनको ने पानी का महत्व ध्यान में रखते हुए इस योजना को मूर्त रूप दिया है. मुख्यमंत्री फड़णवीस, ऊर्जा मंत्री एवं पालक मंत्री बावनकुले तथा वेकोलि के अध्यक्ष-सह-प्रबंध निदेशक (सीएमडी) राजीव रंजन मिश्र की उपस्थिति में वेकोलि के निदेशक(कार्मिक) डॉ. संजय कुमार एवं महाजेनको के निदेशक(परियोजना) विकास जयदेव ने एम.मो.यू. पर हस्ताक्षर किए.

इस अवसर पर वेकोलि के निदेशक(वित्त) एस.एम. चौधरी, निदेशक तकनीकी (योजना /परियोजना) टी.एन. झा, नागपुर क्षेत्र के महाप्रबंधक डी.एम. गोखले, महाप्रबंधक (व्यवसाय विकास) अनुराग अरोरा तथा महाजेनको के कार्यकारी निदेशक (परियोजना) प्रदीप शिंगाड़े, मुख्य अभियंता (परियोजना) राजेश पाटिल, मुख्य अभियंता (सिविल) अनंत देवतरे, प्रमोद नाफ्ड़े, मुख्य अभियंता, उप मुख्य अभियंता विनोद कारगावकर एवं मिलिंद रामटेके आदि प्रमुखता से उपस्थित थे.

प्रति वर्ष 10.76 एमएम क्यूब पानी मिलेगा

उल्लेखनीय है कि वर्तमान में महाजेनको के खापरखेड़ा ताप विद्युत् गृह में उपयोग के लिए विदर्भ सिंचाई विकास निगम की पेंच परियोजना से 37 एमएम क्यूब पानी लाया जाता है. इस नई व्यवस्था के लागू हो जाने से भानेगांव खदान से प्रति वर्ष 10.76 एमएम क्यूब पानी की आपूर्ति की जाएगी, जिससे महाजेनको बड़ी रकम की बचत करने सफल तो होगा ही,आसपास के ग्रामीण किसानों को सिंचाई के लिए एवं नागपुर शहर में भी आम जन के लिए प्रचुर मात्रा में पेयजल भी उपलब्ध हो सकेगा.

NO COMMENTS