मंडी सेस का विरोध : महाराष्ट्र में एपीएमसी मार्केट यार्ड 25 को बंद रहेंगे

0
679
मंडी

नागपुर : महाराष्ट्र में सभी कृषि उपज मंडी समिति (एपीएमसी) के 295 यार्डों में 25 अगस्त को एक दिन के लिए हड़ताल की जाएगी. बाजार शुल्क (मंडी सेस) जारी रखने के विरोध में, चैंबर ऑफ एसोसिएशन ऑफ महाराष्ट्र इंडस्ट्री एंड ट्रेड (CAMIT) ने एक दिवसीय हड़ताल का आह्वान किया है.

उल्लेखनीय है कि केंद्र सरकार ने हाल ही में 10 जून, 2020 को महाराष्ट्र में APMC के भीतर व्यापारियों पर लगाए गए बाजार शुल्क को समाप्त कर दिया था, खासकर राज्य में APMC यार्ड के भीतर से परिचालन करने वालों को लाभ नहीं मिलता है. ऐसा इसलिए था, क्योंकि केंद्र ने शुल्क को समाप्त कर दिया. लेकिन एपीएमसी यार्डों के दायरे में काम करने वालों को महाराष्ट्र कृषि उत्पादन विपणन (विकास और विनियमन) अधिनियम, 1963 के तहत नियंत्रित किया जाता रहा है. व्यापारी अब मांग कर रहे हैं कि राज्य सरकार इसमें संशोधन करे और शुल्क को समाप्त करे. APMC यार्ड  के भीतर काम करने वाले व्यापारियों पर वर्तमान में अपने लेनदेन मूल्य का 1.05% मंडी सेस लग रहा है, जो अनुचित है.

इस कारण राज्य के 295 एपीएमसी यार्ड इस हड़ताल में शामिल होंगे. राज्य की ये मंडियां किसानों और बाजारों के बीच एक कड़ी के रूप में कार्य करते हैं. दी होलसेल ग्रेन एंड सीड्स मर्चेंट एसोसिएशन के सचिव प्रताप मोटवानी ने बताया कि आज दोपहर कमेटी के चेयरमैन मोहन गुरनानी और अध्यक्ष दीपेन भाई अग्रवाल की अध्यक्षता में जूम मीटिंग का आयोजन हुआ. जिसमें पूरे राज्य के व्यापारियों की सभा में यह निर्णय लिया गया.

मोटवानी ने बताया कि APMC के अंदर लगने वाले सेस का सभी ने सख्त विरोध किया. सभी इस बात से सहमत थे कि बाहर सेस खत्म होने और APMC में सेस लगने से व्यापारियों का पूरा व्यापार चौपट होने के कगार पर है. सभा में सभी व्यापारियो ने एकमत से 25 अगस्त को एक दिन का पूरे महाराष्ट्र में APMC मंडी बंद रखने का निर्णय लिया.

जूम सभा में पुणे से वालचंद संचेती और सांगली सहित सभी क्षेत्रों से प्रतिनिधि सम्मिलित हुए. कमेटी के अध्यक्ष दीपेन अग्रवाल ने सभी से आग्रह किया 25 अगस्त को महाराष्ट्र के सभी APMC मार्केट यार्ड सख्ती से बंद रखें.

NO COMMENTS