इलेक्टिक कार में बदल दिया मारुति को नागपुर के दो युवाओं ने

0
122
इलेक्ट्रिक कार

12 वोल्ट की चार बैटरियों के फुल चार्ज पर पूरी क्षमता के दौड़ लगाती है 180 किमी की

नागपुर : यहां दो युवकों ने ‘मारुति’ पेट्रोल कार को इलेक्ट्रिक कार में बदल दिया है. यह इलेक्ट्रिक कार पेट्रोल कार की तरह ही चलती है. इसका पिकअप भी पेट्रोल कार जैसा ही है. एक चार्जिंग पर यह कार 180 किलीमीटर तक चल रही है.

पेट्रोल की बढ़ती कीमतों से प्रत्येक सामान्य वर्ग का वाहन मालिक परेशान है. पेट्रोल से चलने वाले चाहे दोपहिया वाहन हो या कार, लोगों के लिए हाथी पालने जैसा बोझ बनता जा रहा है. ऐसे में इलेक्ट्रिक वाहनों ने लोगों की उम्मीदें जगाई थीं. लेकिन इलेक्ट्रिक स्कूटी और कारें बनाने वाली कंपनियां जैसे महंगे इलेक्ट्रिक वाहन बाजार में उतार रही हैं, उससे सामान्य वर्ग के लोगों के हौसले पस्त हैं. इन बड़ी कंपनियों के इलेक्ट्रिक वाहन उनके लिए सपना ही बन चुके हैं. ऐसे में अभिजीत और शुभम की यह सफलता सामान्य वर्ग के लोगों के लिए बड़ी उम्मीद बन कर सामने आया है.  

पहले इलेक्ट्रिक बाइक, फिर कार
अभिजीत खड़ाखड़ी और शुभम कनिरे नामक इन दोनों युवकों का ऑटोमोबाइल क्षेत्र से कभी कोई लेनादेना नहीं रहा है. अभिजीत कम्प्युटर सायंस के ग्रेजुएट हैं और शुभम एक इंजीनियर हैं. अभिजीत और शुभम ने बताया कि इस दिशा में हमें प्रयास करने का विचार आया और हमने काम शुरू कर दिया. उन्होंने बताया कि पहले हमने एक बाइक को इलेक्ट्रिक बाइक में बदलने का प्रयास किया और हमें इसमें अच्छी सफलता मिली.

अभिजीत और शुभम ने बताया कि इसके बाद हमने यह प्रयोग कार के साथ करने की सोची. ‘एक सस्ती पुरानी मारुति कार को हमने अपने प्रयोग के लिए चुना. इस कार्य में हमारे एक बिल्डर मित्र अमोल पाटिल ने सहयोग किया. उन्होंने हमें अपनी जगह उपलब्ध कराई. उस जगह को हमने अपने वर्कशॉप बनाया. फिर एक बैंक से कर्ज लेकर काम शुरू कर दिया.’

इन दोनों उत्साही युवाओं ने अपने वर्कशॉप में पहले तो कार की पेट्रोल इंजन को कार से निकाल कर अलग किया. फिर इंजन की जगह आवश्यक फेरबदल कर उसमें इलेक्ट्रिक इंजन और उसके सर्किट को बैठाया. उन्होंने बताया कि इसमें बहुत अधिक फेरबदल नहीं करनी पड़ी. शुभम ने कहा, ‘जैसा कि माना जाता है, हमें भी लगा कि कार की क्षमता अधिक नहीं होगी. लेकिन जब इसका ट्रायल लिया तो परिणाम अत्यंत उत्साहवर्द्धक रहे. हमारी यह इलेक्ट्रिक कार पहले के पेट्रोल कार से तनिक भी काम नहीं थी. भार वहन क्षमता और स्पीड दोनों ही बढ़ के रहे. 12 वोल्ट की चार बैटरी पर चल रही अभिजीत और शुभम की यह कार एक बार फूल चार्ज होने पर 180 किलोमीटर तक दौड़ रही है.’

कार की इलेक्ट्रिक इंजन 3 हजार वॉट की है. लोडिंग कैपेसिटी भी बहुत अधिक है. पूरे 1000 किलोग्राम के वजन के साथ यह कार ऊंचाई पर भी आसानी से चढ़ जाती है. यह कार पेट्रोल कार से क्षमता में ज़रा भी कम नहीं है. इस सफलता से अभिजीत और शुभम के हौसले बुलंद हैं. इस दिशा में वे और काम करना चाहते हैं. अपने बूते उन्होंने जो कर दिखाया, उसे बढ़ाने में उन्हें अब सरकार से और खासकर नागपुर के सांसद, केंद्रीय परिवहन मंत्री नितिन गड़करी से आवश्यक सहयोग की उम्मीद है.

NO COMMENTS