एक और कर्ज पीड़ित किसान ने आत्महत्या कर ली

0
132
किसान

नागपुर : नागपुर जिले के नरखेड़ तहसील स्थित मोगरा (टोलापार) गांव के एक किसान ने बुधवार को कुएं में कूद कर आत्महत्या कर ली. प्राप्त जानकारी के मुताबिक बैंक का कर्ज न चुकाने से वह परेशान था. 38 वर्षीय बापू देवीदास वालके नामक इस किसान की अचानक आत्महत्या करने की खबर से पूरे परिसर में शोक व्याप्त गया. वह अपने पीछे अपने वृद्ध माता-पिता को असहाय छोड़ गया. वह अविवाहित था. महाराष्ट्र में कर्ज पीड़ित छोटे किसानों की आत्महत्या की मामले बढ़ाते ही जा रहे हैं. वाल्के की आत्महत्या ने इस कड़ी में एक और किसान आत्महत्या जोड़ दिया है. 

बताया गया कि वाल्के परिवार के पास डेढ़ एकड़ खेती है. उसने कृषि कार्य के लिए दो वर्ष पूर्व विजया बैंक की नरखेड़ शाखा से तीन लाख रुपए और अन्य स्रोतों से 1.5 लाख, कुल 4.5 लाख रुपए कर्ज लिया था. लगातार दो वर्षों से सूखे और अति वर्षा के कारण पूरे परिसर में फसलें नष्ट हुई थीं. वाल्के भी फसल नष्ट हो जाने के कारण घोर आर्थिक संकट में था. न तो उसे कर्ज माफी का लाभ मिल पाया था और न ही सरकार की ओर से उसे कोई मदद ही मिल पाई थी. अगली फसल के लिए कोई आर्थिक मदद की उम्मीद भी नहीं थी. बहुत कठिनाई से वह अपना और अपने बूढ़े माता-पिता का लालन-पालन कर रहा था. ऊपर से कर्ज के बोझ ने उसे भीतर से तोड़ दिया था.

बुधवार को उसके अपने खेत के कुएं में लोगों ने उसका शव तैरता देखा. उसकी आत्महत्या की खबर तुरंत पूरे गांव में फ़ैल गई. बेटे का शव देखते ही उसके वृद्ध माता-पिता का बुरा हाल था. पुलिस पाटिल ने इसकी सूचना तुरंत नरखेड़ पुलिस थाने को दी. थानेदार मलिकार्जुन इंगले अपने सहयोगी पुलिसकर्मियों के साथ घटनास्थल पर पहुंचे और शव का पंचनामा किया. उन्होंने किसान बापू वाल्के की आत्महत्या के मामले की जांच का दायित्व हवलदार प्रकाश खोपे और रूपेश राऊत को सौंपा है.

NO COMMENTS