ममता पर भागवत का हमला : कहा ऐसा व्यक्ति शासक के लायक नहीं

0
180
भागवत

नागपुर : राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक मोहन भागवत ने पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को नसीहत देते हुए कहा है कि राज्य में जारी राजनीतिक हिंसा को तुरंत बंद किया जाए. उन्होंने कहा कि राज्य सरकार गुंडा तत्वों पर एक्शन ले. भागवत ने कहा कि अगर कोई शासक गुंडा तत्वों पर काबू पाने में फेल रहता है तो ऐसा व्यक्ति शासक के लायक नहीं है.

मोहन भागवत रविवार को नागपुर में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के तृतीय वर्ष के प्रशिक्षण शिविर के समापन समारोह में आरएसएस के लगभग 800 कार्यकर्ताओं को संबोधित कर रहे थे. उन्होंने ममता बनर्जी का बिना नाम लिए कहा, “आज क्या चल रहा है बंगाल में, चुनाव के बाद ऐसा होता है, किसी और प्रांत में ऐसा हो रहा है? नहीं होना चाहिए…अगर गुंडा प्रवृति के व्यक्तियों की वजह से ऐसा होता है तो शासन को कदम उठाना चाहिए.”

उन्होंने कहा कि अगर राज्य में कहीं कोई हिंसा होती है, तो शासन को उसे कंट्रोल करना चाहिए और अगर राज्य का राजा (मुख्यमंत्री) ऐसा नहीं कर पाता, तो उसे खुद को राजा कहलाने का हक नहीं है. उन्होंने कहा, ‘सामान्य व्यक्ति नासमझ हो सकता है, गैर-जिम्मेदाराना व्यवहार कर सकता है. लेकिन राज्य के राजा का यह कर्तव्य है कि समाज के हित में राष्ट्र की एकात्मता और अखंडता सुनिश्चित करने वाला व्यवहार वह अपनी दंडशक्ति से स्थापित करे.अगर कोई राजा ऐसा नहीं कर पाता, तो क्या वह राजा कहलाने का हकदार है?’

उल्लेखनीय है कि राज्य में लोकसभा चुनाव के बाद टीएमसी और भाजपा के कार्यकर्ताओं के बीच हिंसा की कई खबरें आई हैं. पिछले हफ्ते उत्तर 24 परगना जिले में दोनों पार्टियों के कार्यकर्ताओं के बीच पार्टी का झंडा लगाने को लेकर हुआ विवाद खून-खराबे तक पहुंच गया, जिसमें भाजपा ने अपने पांच कार्यकर्ताओं और टीएमसी ने अपने तीन कार्यकर्ताओं की मौत का दावा किया था.

पिछले वर्ष संघ के तृतीय वर्ष प्रशिक्षण शिविर को मुख्य अतिथि के तौर पर पूर्व राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी ने संबोधित किया था. इस वर्ष संघ ने उद्योगपति रतन टाटा को अतिथि के लिए निमंत्रित किया था, लेकिन व्यस्तता के कारण रतन टाटा इस समारोह में उपस्थित नही आ सके. वैसे हर वर्ष सरसंघचालक तृतीय वर्ष प्रशिक्षण शिविर को संबोधित करते हैं. यहां संघ मुख्यालय के निकट स्थानीय रेशिमबाग मैदान में समारोह संपन्न हुआ.

NO COMMENTS