#Me Too : अकबर द्वारा दायर मानहानि केस का सामना करने को प्रिया रमानी तैयार

0
777

राज्यमंत्री को महिला पत्रकार ने दिया झटका, ऑल इंडिया प्रोग्रेसिव वीमन्स एसोसिएशन ने दिया समर्थन

नई दिल्ली : पत्रकार प्रिया रमानी केंद्रीय मंत्री एम.जे. अकबर द्वारा उनके खिलाफ अदालत में दायर मानहानि की शिकायत का सामना करने के लिए तैयार हैं. उन्होंने अकबर के बयान पर निराशा जताते हुए कहा कि इसमें “पीड़ित जिस सदमे और भय से गुजरे हैं” उसका कोई ख्याल नहीं रखा गया.

रमानी ने यह भी कहा कि अकबर “डरा धमकाकर और उत्पीड़न” करके पीड़ितों को “चुप” कराना चाहते हैं. वह अफ्रीका से लौटने के बाद विदेश राज्यमंत्री ने कई महिलाओं द्वारा उनके खिलाफ लगाए यौन उत्पीड़न के आरोपों को रविवार को खारिज करते हुए इन्हें “झूठा, मनगढ़ंत और बेहद दु:खद” बताया.

अकबर ने रमानी के खिलाफ दिल्ली की एक अदालत में सोमवार को निजी आपराधिक मानहानि की शिकायत दायर की. रमानी ने हाल ही में भारत में जोर पकड़े #Me Too कैंपेन के तहत उनके खिलाफ यौन उत्पीड़न के आरोप लगाए थे.

रमानी ने एक बयान में कहा, “मैं बेहद निराश हूं कि एक केंद्रीय मंत्री ने कई महिलाओं के व्यापक आरोपों को राजनीतिक षडयंत्र बताते हुए खारिज कर दिया.” उन्होंने कहा, “मेरे खिलाफ आपराधिक मानहानि का मामला दायर करके अकबर ने उनके खिलाफ लगाए कई महिलाओं के गंभीर आरोपों का जवाब देने के बजाय अपना रुख स्पष्ट कर दिया. वह डरा धमकाकर और प्रताड़ित करके उन्हें चुप कराना चाहते हैं.”

‘ऑल इंडिया प्रोग्रेसिव वीमन्स एसोसिएशन’ (ऐपवा) की सचिव कविता कृष्णन ने कहा कि अकबर का केंद्रीय मंत्री बने रहना सभी महिलाओं के चेहरे पर न केवल मंत्री द्वारा बल्कि मोदी सरकार द्वारा भी “तमाचे” की तरह है.

NO COMMENTS