हेड कांस्टेबल की बाइक सवार लुटेरों ने पत्नी-बच्चों के सामने हत्या कर दी

0
310

नई दिल्ली : दो दिन पहले ही छुट्टी लेकर गांव आए पुलिस के हेड कांस्टेबल की बाइक सवार लुटेरों ने आज रविवार को दिनदहाड़े लूट का विरोध करने पर पत्नी-बच्चों के सामने गोली मारकर हत्या कर दी. उनकी बेटी को भी छर्रे लगे हैं. हेड कांस्टेबल अपने परिवार सहित गुरुद्वारे में आयोजित कार्यक्रम से लौट रहे थे.

खरखौदा क्षेत्र में हुई इस वारदात में गंभीर रूप से जख्मी हेड कांस्टेबल सरबजीत सिंह (33) को अस्पताल पहुंचाए जाने पर डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया. उन्हें मृत घोषित किए जाने के बाद सैकड़ों लोगों की भीड़ अस्पताल से शव को निकालकर ले आई और मेरठ-हापुड़ हाईवे को जाम कर दिया. कई घंटे तक हंगामा चला. पुलिस की कई टीमें हत्या के आरोपियों की तलाश में जुटी हैं.

परीक्षितगढ़ थाना क्षेत्र के बढ़ला गांव निवासी सरबजीत सिंह (33) वर्तमान में दिल्ली के सुल्तानपुरी थाने में हेड कांस्टेबल पद पर तैनात थे. वह रविवार सुबह पत्नी संगीता, बेटी सुकमणि, जनिंद्र कौर और बेटा तरुणजन सिंह के साथ अपने मामा जालिम सिंह के गांव कबट्टा में गुरुद्वारे में आयोजित कार्यक्रम में शामिल होने आए थे.

दोपहर करीब तीन बजे वह सेंट्रो कार से अपने घर वापस लौट रहे थे. इसी बीच बवनपुरा गांव के संपर्क मार्ग पर जंगल में घात लगाए खड़े तीन बदमाशों ने बाइक सड़क पर डालकर हेड कांस्टेबल की कार को रुकवाने का प्रयास किया. बाइक बचाने और साइड से निकलने के चक्कर में सरबजीत की कार ईख के खेत में जा घुसी. बदमाशों ने कार का शीशा तोड़कर परिवार से लूटपाट की कोशिश की तो सरबजीत बदमाशों से भिड़ गए. इस पर एक बदमाश ने सरबजीत के सीने में गोली मार दी. ग्रामीणों को आता देख बदमाश लूट में सफल नहीं हुए और भाग निकले.

घायल सरबजीत सिंह को मेरठ के आनंद हॉस्पिटल में लाया गया. लेकिन तब तक उनकी मौत हो चुकी थी. छर्रे लगने से घायल सुकमणि का सीएचसी में उपचार कराया गया. जलसे में आए वारदात से नाराज सिख समाज के सैकड़ों लोग अस्पताल से शव को लेकर मेरठ-हापुड़ मार्ग पर कैली गांव के सामने सड़क पर शव रखदिया और सड़क पर जाम लगा दिया.

एसपी (देहात) राजेश कुमार और विधायक दिनेश खटीक के मौके पर पहुंचने पर उन्होंने हत्या के आरोपियों की जल्द गिरफ्तारी और मृतक के परिवार को मुआवजा देने की मांग की. भीड़ की उनसे जमकर नोकझोंक भी हुई. करीब ढाई घंटे बाद किसी तरह ग्रामीणों को शांत कर जाम खुलवाया गया और शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा गया.

NO COMMENTS