बाढ़ में बह गए बहन-भाई, 14 घंटे बाद बहन का शव बरामद

0
1844
कोंडेश्वरी नदी के पुल पर बालक नैतिक की तलाश के दौरान पास के ग्रामवासी, इनसेट दोनों भाई-बहन की तस्वीर.

पास के गांव से पिता, दादा के साथ बडनेरा आए थे स्कूल में एडमिशन कराने

अमरावती : निकट के गांव बहादुरपुर किसी स्कूल में एडमिशन कराने आए बहन और भाई दोनों वापसी में लौटते वक्त उत्तामसरा के निकट काटआमला कोंडेश्वरी नदी की बाढ़ में बह गए. बहन की लाश 14 घंटे बाद आज, गुरुवार की सुबह उत्तमसारा में नदी के किनारे बरामद हुई., जबकि देर शाम तक भाई के शव की तलाश जारी थी.

कोंडेश्वरी नदी पूरे उफान पर थी, पुल से बाइक फिसल गई…
मिली जानकारी के अनुसार कल बुधवार, 27 जून को आठ वर्षीय नैतिक जगदीश चवरे और 12 वर्षीया धनश्री जगदीश चवरे अपने पिता जगदीश मारोती चवरे और दादा मारोती चवरे के साथ बाइक से बडनेरा आए थे. उन्हें किसी स्कूल में नामांकन कराना था. शाम को जब वे चारों बाइक से वापस अपने गांव बहादुरपुर लौट रहे थे तो कोंडेश्वरी नदी पूरे उफान पर थी. बाढ़ का पानी पुल के ऊपर से बह रहा था. बाइक चला रहे जगदीश चवरे अन्य वाहनों को पार जाते देख अपनी बाइक से पुल पर चल पड़े. पानी का बहाव काफी तेज था. आधी दूर जाते ही बहाव के आगे बाइक नहीं टिक पाई और फिसल गई. बाइक पर सवार जगदीश चवरे और उनके पिता तो किसी तरह बहने से बच गए. लेकिन दोनों बहन-भाई नैतिक और धनश्री तेज बहाव में नदी में बह गए.

शाम तक नहीं मिला नैतिक का शव
घटना की जानकारी मिलते ही भारी संख्या में पास के ग्रामवासी जुट गए. पुलिस को खबर की गई. पुलिस दल भी गोताखोरों के साथ पहुंचा और दोनों बच्चों की तलाश शुरू कर दी. लेकिन अन्धेरा हो जाने के कारण उन्हें तलाश कार्य रोक देना पड़ा. आज सुबह से फिर दोनों बहन-भाई की तलाश जब शुरू हुई तो बहन धनश्री का शव उत्तामसरा के पास नदी किनारे बरामद हुआ. लेकिन दिन भर की खोज के बावजूद शान 5 बजे तक नैतिक चवरे का कहीं कुछ पता नहीं चल सका.

पुलिस ने धनश्री का शव पोस्टमार्टम के लिए अमरावती जिला अस्पताल भेज दिया था.

NO COMMENTS