उपचुनाव : एक दूसरे के कपड़े फाड़ती रही भाजपा-शिवसेना, एनसीपी ने लगाया वोटरों को पैसे बांटने का आरोप

0
1606

पालघर और भंडारा-गोंदिया संसदीय क्षेत्र में मतदान आज, दोनों क्षेत्रों में जूझ रही भाजपा

मुंबई/नागपुर : महाराष्ट्र के पालघर और भंडारा-गोंदिया लोकसभा सीटों पर उपचुनाव के लिए मतदान कल सोमवार, 28 मई को होंगे. पालघर में जहां चुनाव मैदान में सत्तारूढ़ भाजपा और सत्ता में सहयोगी दल शिवसेना आमने-सामने है, वहीं तीसरा पक्ष कांग्रेस भी दोनों के लिए कड़ी चुनौती बनी हुई है. इधर भंडारा-गोंदिया सीट पर भाजपा के मुकाबले एनसीपी (राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी) मैदान में है. राज्य के दोनों संसदीय क्षेत्रों में मतदाता कल सोमवार को अपने मताधिकार का प्रयोग करेंगे.

आदिवासी के लिए सुरक्षित पालघर सीट पर भाजपा सांसद चिंतामन वांगा की मौत के बाद फिर से चुनाव कराए जा रहे हैं. पिछले 30 जनवरी को उनका निधन हुआ था. वहीं भंडारा-गोदिया का उपचुनाव वहां के भाजपा सांसद नाना पटोले के इस्तीफा देने से यह सीट रिक्त हो जाने के कारण कराया जा रहा है. पालघर में 6 विधानसभा सीट हैं, जिनमें से तीन सीटों पर बहुजन विकास आघाड़ी के विधायक हैं. पालघर विधानसभा सीट पर शिवसेना का कब्जा है तो बाकि दो सीटें भाजपा के पास हैं.

एक दूसरे के कपड़े फाड़ती रही भाजपा-शिवसेना
पालघर उपचुनाव को लेकर पूरे चुनाव प्रचार के दौरान भाजपा-शिवसेना के बीच चली ज़ुबानी जंग पालघर के मतदाताओं समेत पूरे राज्य के लोगों के लिए दिलचस्प बने रहे. इन दोनों सहयोगी दलों अपने-अपने उम्मीदवार एक दूसरे के मुकाबले उतार दिए हैं. यहां शिवसेना और भाजपा ही एक दूसरे के कपड़े फाड़ती नजर आईं. दूसरी ओर कांग्रेस अपने उम्मीदवार के समर्थन में प्रचार के दौरान भाजपा-शिवसेना दोनों की खबर लेती रही और दोनों की तू-तू मैं-मैं का भरपूर फायदा उठाने का पूरा-पूरा प्रयास करती रही.

पालघर क्षेत्र की एक चुनाव सभा में प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष सांसद अशोक च्वहाण और प्रदेश महिला कांग्रेस अध्यक्ष चारूलता टोकस.

अशोक चव्हाण, टोकस, विखे पाटिल का जोरदार प्रहार
कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष सांसद अशोक चव्हाण और प्रदेश महिला कांग्रेस की अध्यक्ष चारूलता टोकस ने प्रचार के अंतिम दौर में मतदाताओं को कांग्रेस प्रत्याशी दामोदर बारकु शिंगड़ा के पक्ष में मतदान करने और कार्यकर्ताओं से आपसी मतभेद भूल कर भाजपा और शिवसेना दोनों को धूल चटा देने का आह्वान किया. दोनों नेताओं ने मुस्लिम समुदाय के हजारों संख्या में लोगों के साथ इफ्तार पार्टी में भी शिरकत किया. साथ ही विधानसभा में नेता विपक्ष रामकृष्ण विखे पाटिल ने भी क्षेत्र के विभिन्न समुदायों की सभा में भाजपा और शिवसेना के जन विरोधी नीतियों पर करारा प्रहार करते हुए कांग्रेस उम्मीदवार दामोदर बारकु शिंगड़ा को विजयी बनाने की अपील की.

उद्धव ने कार्रवाई की मांग की, कांग्रेस ने मांगा इस्तीफा
ऑडियो जारी करने के बाद उद्धव ठाकरे ने चुनाव आयोग से फड़णवीस के खिलाफ कार्रवाई करने की मांग की. विपक्षी कांग्रेस और एनसीपी ने भी चुनाव आयोग से क्लिप की जांच कराने की मांग की. महाराष्ट्र प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष अशोक चव्हाण ने ऑडियो क्लिप पर फड़णवीस का स्पष्टीकरण मांगा. उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री को क्लिप के बारे में स्पष्टीकरण जारी करना चाहिए. हम चुनाव आयोग से इसकी जांच और उचित कार्रवाई करने की मांग करते हैं. इस पर भाजपा ने आरोप लगाया कि शिवसेना ने ऑडियो क्लिप से छेड़छाड़ की है.

मुख्यमंत्री पर अभद्र टिप्पणी
मुख्यमंत्री फड़णवीस के कथित ऑडियो क्लिप कांड के बाद यहां शिवसेना भाजपा पर और अधिक हमलावर हो गई. शिवसेना नेता सांसद संजय राउत मुख्यमंत्री पर अभद्र टिप्पणी तक कर डाली. शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़णवीस का एक ऑडियो क्लिप जारी किया था.

पालघर के नालासोपारा क्षेत्र में उत्तर भारतीयों की संख्या काफी है, इसलिए भाजपा इस इलाके में मनोज तिवारी से लेकर उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी का दौरा करवा चुकी है.

राजेंद्र गावित के लिए वांगा के नाम पर ही वोट मांग रही भाजपा
पालघर की सीट भाजपा सांसद के निधन से खाली हुआ है. गठबंधन धर्म के अनुसार भाजपा का चुनाव लड़ना बनता था. लेकिन सहयोगी शिवसेना ने यहां भी अपनी शत्रुता दिखाते हुए दिवंगत सांसद चिंतामन वांगा के पुत्र श्रीनिवास चिंतामन वांगा को ही अपना उम्मीदवार बना लिया है. इधर भाजपा को कांग्रेस शासन में आदिवासी कल्याण मंत्री रहे राजेंद्र गावित को अपना उम्मीदवार बनाना पड़ा है, लेकिन भाजपा चिंतामन वांगा के नाम पर ही यहां वोट मांग रही है.

भंडारा-गोंदिया संसदीय क्षेत्र

भंडारा-गोंदिया संसदीय क्षेत्र में भाजपा-एनसीपी की सीधी टक्कर
भंडारा-गोंदिया के उपचुनाव माहौल से सबसे ज्यादा कोई दुःखी है तो हैं पूर्व सांसद नाना पटोले. भाजपा से नाराज पटोले ने लोकसभा के सदस्य्ता इस्तीफा देकर कांग्रेस का हाथ तो थाम लिया, लेकिन कांग्रेस-एनसीपी गठबंधन के फैसले के अनुसार भंडारा-गोंदिया सीट पर एमसीपी का दावा होने के कारण कांग्रेस उम्मीदवार के रूप में पटोले को फिर उपचुनाव में खड़े होने से वंचित रहना पड़ा. दूसरे एनसीपी ने भाजपा उम्मीदवार हेमंत पटले के मुकाबले कमजोर प्रत्याशी मधुकर कुकड़े को उतार उनकी भाजपा को शबक सिखाने की हसरत पर भी पानी फेर दिया.

भाजपा पर भंडारा-गोंदिया के मतदाताओं को पैसे बांटने का आरोप
भंडारा-गोंदिया संसदीय क्षेत्र के हैवीवेट एनसीपी नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री प्रफुल्ल पटेल को हरा कर नाना पटोले भाजपा सांसद बने थे. प्रफुल्ल पटेल अब राज्यसभा सदस्य हैं. डेढ़ वर्ष भी काम वर्तमान लोकसभा का कार्यकाल रह जाने के कारण उन्होंने यह उपचुनाव लड़ना उचित नहीं समझा. अपनी जगह मधुकर कुकड़े को उतार कर पूरा चुनाव प्रचार स्वयं करते रहे और अंतिम दौर में एनसीपी की ओर से विधान परिषद में विपक्ष के नेता धनंजय मुंडे, पूर्व उपमुख्यमंत्री अजित पवार और प्रदेश पार्टी जयंत पाटिल ने मोर्चा संभाला. पाटिल ने चुनाव प्रचार ख़त्म होते ही भाजपा के विरुद्ध चुनाव आयोग से आचार संहिता उल्लंघन का आरोप लगा दिया है. उन्होंने चुनाव निर्णय अधिकारी से शिकायत की है कि भाजपा एजेंट मतदाताओं को पैसे बांट रहे हैं.

हेमंत पटले की मजबूत बना दी स्थिति
इस बीच क्षेत्र में भाजपा की मजबूत संगठन शक्ति और मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़णवीस और केंद्रीय मंत्री नितिन गड़करी का वरद-हस्त भाजपा के हेमंत पटले स्थिति यहां काफी मजबूत कर दी है. ऊपर से तेज-तर्रार ऊर्जा मंत्री चंद्रशेखर बावनकुले को जिले का पालक मंत्री बना कर जिले में विकास की गति तेज करा दी, मनरेगा के अंतर्गत लगभग डेढ़ लाख ग्रामीण कामगारों को रोजगार के अवसर अपने-अपने घरों के समीप दिलवाकर ग्रामीण मतदाताओं को अपनी ओर झुकाने का का सफल प्रयास किया है.

NO COMMENTS