महाज्योति : छात्रवृत्ति लेने वाले सरकारी कर्मी नप जाएंगे 

0
776
महाज्योति

नागपुर : महात्मा ज्योतिबा फुले अनुसंधान एवं प्रशिक्षण संस्थान (महाज्योति), नागपुर की चयन सूची में प्रशिक्षु सरकारी कर्मियों द्वारा वेतन के साथ छात्रवृत्ति प्राप्त करने की खबर से खलबली मच गई है. महाज्योति ने इस खबर को गंभीरता से लेते हुए इसकी छानबीन शुरू कर दी है. 

महाज्योति के प्रबंध संचालक राजेश खवले द्वारा जारी एक प्रेस विज्ञप्ति में कहा है कि हमारी चयन सूची में प्रशिक्षु सरकारी अधिकारी-कर्मचारी पाए गए तो उनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी.  :

प्रबंध संचालक खवले ने स्पष्ट किया है कि यूपीएससी, एमपीएससी, महाज्योति के ग्रुप बी और सी प्रशिक्षण का परिणाम हाल ही में घोषित किए गए हैं. चयनित उम्मीदवारों को प्रशिक्षण संस्थानों में शामिल होने के लिए 15 दिसंबर 2023 तक का समय दिया गया है. फिलहाल किसी छात्र ने ज्वाइन नहीं किया है. इसलिए किसी भी अधिकारी को वेतन के साथ छात्रवृत्ति देने का सवाल ही नहीं उठता.  

हालांकि, संगठन ने पहले ही एक सर्कुलर जारी कर दिया था कि सरकारी सेवाओं के साथ-साथ कंपनियों में काम करने वाले उम्मीदवारों को महाज्योति की छात्रवृत्ति का लाभ नहीं लेना चाहिए।

ऐसे सरकारी कर्मचारी के बारे में मांगी गई है जानकारी

महाज्योति के अनुसार, यदि कोई प्रशिक्षु नियोजित है, सरकारी सेवा में है और फिर भी जानकारी छिपाकर प्रशिक्षण कार्यक्रम में शामिल होता है, तो उसका नाम प्रशिक्षण कार्यक्रम से हटाने की कार्रवाई की जाएगी. तदनुसार, यदि किसी के पास प्रशिक्षण कार्यक्रम से लाभान्वित होने वाले किसी सरकारी कर्मचारी के बारे में जानकारी है, तो उस जानकारी को महाज्योति कार्यालय को सूचित करने की अपील की गई है. 

विज्ञप्ति में कहा गया है कि योग्य छात्रों को प्रशिक्षण और छात्रवृत्ति कार्यक्रमों का लाभ प्रदान करना महाज्योति की नीति है. संगठन की ओर से बताया गया है कि यदि किसी भी प्रकार के अयोग्य विद्यार्थी प्रशिक्षण वर्ग का लाभ लेते हुए पाए गए तो उनके विरुद्ध कड़ी कार्रवाई की जाएगी. 

NO COMMENTS