मुख्यमंत्री फड़णवीस ने संविधान चौक पर बाबासाहेब को किया नमन

0
125

भारतरत्न डॉ. बाबासाहेब आंबेडकर की 127वीं जयंती पर चारों ओर कार्यक्रम और समारोहों का आयोजन

नागपुर : “संविधान निर्माता भारतरत्न डॉ. बाबासाहेब आंबेडकर ने हम भारतीयों को संविधान के रूप में ऐसा अमूल्य उपहार दिया है कि जिससे देश के प्रत्येक नागरिक को सम्मानपूर्वक जीने का अधिकार मिला है. आज हमारा देश प्रगति पथ पर है तो उसका कारण हमारा वही ‘संविधान’ है. इसके लिए प्रत्येक भारतीय को आज डॉ. बाबासाहेब आंबेडकर का अभिवादन कर उनके प्रति कृतज्ञता व्यक्त करते हुए उनके जातिगत भेदभाव से मुक्त भारत के सपनों को साकार करने का संकल्प लेना चाहिए.”

यह उद्गार आज शनिवार, 14 अप्रैल को भारतरत्न डॉ. बाबासाहेब आंबेडकर की 127वीं जयंती पर स्थानीय संविधान चौक पर डॉ. बाबासाहेब आंबेडकर की प्रतिमा पर पुष्पार्पण कर मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़णवीस व्यक्त किए.

इस अवसर पर महापौर श्रीमती नंदा जिचकार, विधायक सर्वश्री सुधाकर देशमुख, सुधाकर कोहले, कृष्णा खोपड़े, संभागीय आयुक्त अनूप कुमार, महापालिका के सत्ता पक्ष के नेता संदीप जोशी, संदीप जाधव, किशोर पलांदूरकर, भोजराज दुबे, रामभाऊ आंबुलकर, सुनील मित्रा, मुरली नागपुरे, अविनाश धनगये, गोपाल बनकर, चंद्रशेखर डोर्लीकर आदि नगरसेवक, जनप्रतिनिधि भारी संख्या में नागरिक उपस्थित थे.

दीक्षाभूमि पर नागरिकों की शनिवार की रात्रि में आंबेडकर जयन्ती पर उमड़ी भीड़ का दृश्य.

पूरे नागपुर में बाबासाहेब की जयंती की धूम
पूरे देश में भारतीय संविधान के निर्माता डॉ. बाबासाहेब आंबेडकर की 127वी जयंती धूमधाम से मनाई जा रही है. इस दौरान शहर के सभी क्षेत्रों में विभिन्न संस्थाओं और संगठनों सहित नागरिक समूहों ने आंबेडकर जयंती पर अनेक कार्यक्रमों का आयोजन किया. दिन भर सभी क्षेत्रों में बाबासाहेब के सम्मान में उनके गीत सुनाई देते रहे. रात्रि में विभिन्न संगठनों की ओर से बाबा साहेब के सम्मान में रंगारग गीतों के कार्यक्रम चलते रहे. इन कार्यक्रमों देर रात तक लोगों ने आनंद लिया.

दीक्षाभूमि पर भी अनुयायियों की उमड़ती रही भीड़
दीक्षाभूमि में सुबह से ही अनुयायियों की भीड़ बाबासाहेब को नमन करने के लिए उमड़ती रही. सविंधान चौक पर शुक्रवार की रात से ही कार्यक्रम चल रहे हैं. रात में बाबासाहेब की जयंती पर केक भी काटा गया. सुबह भी सविंधान चौक पर शहर के कोने कोने से लोगों ने आकर बाबासाहब को नमन किया.

विभिन्न राजनीतिक दलों और संगठनों ने भी सविंधान चौक पर दस्तक दी. हाथो में नीले, और पंचशील के झंडे लेकर रैलियों के माध्यम से भी अनुयायियों ने बाबासाहेब की जयंती मनाई.

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY