प्रजापिता ब्रह्माकुमारी संस्कारी पीढ़ी का निर्माण कर रही : फड़णवीस

0
637
प्रजापिता
महाराष्ट्र के उपमुख्यमंत्री देवेंद्र फड़णवीस प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्वविद्यालय के स्वर्ण जयंती कार्यक्रम में .

विश्वशांति सरोवर में प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्वविद्यालय का स्वर्ण जयंती कार्यक्रम

नागपुर : ‘स्नान करने से व्यक्ति के शरीर की सफाई होगी. जबकि, प्रजापिता ब्रह्माकुमारी के माध्यम से पूरे देश में मन को साफ और शुद्ध करने का काम चल रहा है. इस ईश्वरीय विश्वविद्यालय के राजयोगी शिक्षक देश भर में संस्कारी पीढ़ी बनाने का काम करते हैं. हमें इस पर गर्व है.’ यह उदगार महाराष्ट्र के उपमुख्यमंत्री देवेंद्र फड़णवीस ने प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्वविद्यालय के स्वर्ण जयंती कार्यक्रम में व्यक्त किया. वे नागपुर में ब्रह्माकुमारी की स्वर्ण जयंती के अवसर पर मुख्य अतिथि के रूप में बोल रहे थे.

कार्यक्रम की अध्यक्षता पंजाब के राज्यपाल बनवारीलाल पुरोहित ने की. प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्वविद्यालय ने विदर्भ में 50 साल पूरे कर लिए हैं. पहले नागपुर में लक्ष्मी नगर, फिर धर्मपेठ, फिर वसंत नगर और अब जामठा क्षेत्र में बड़ा केंद्र ‘विश्व शांति सरोवर’ बनाया गया है.

राज्यपाल बनवारीलाल पुरोहित के साथ राजयोगिनी संतोष दीदी, भाजपा प्रदेश अध्यक्ष विधायक चंद्रशेखर बावनकुले, विधायक मोहन माटे, पूर्व राज्यसभा सदस्य विजय दर्डा, अजय संचेती, रजनी दीदी, नागपुर से ब्रह्माकुमारी वरिष्ठ राजयोगी शिक्षक, उपमुख्यमंत्री की पत्नी अमृता फड़णवीस, किरीट भंसाली, केंद्र के वरिष्ठ साधक उपस्थित थे.

फड़णवीस ने कहा, “भारत का हृदय स्थल नागपुर नगरों में पिछले 50 वर्षों से प्रजापिता ब्रह्माकुमारी के माध्यम से संस्कारी पीढि़यां बनाने का कार्य हमारी बहनों के माध्यम से चल रहा है. आज भीड़ जमा है. इस भीड़ में कोई भव्यता नहीं है, पवित्रता है, सरलता है, आप हमारे मन को स्वच्छ बनाएं, हम इससे खुश हैं.इस गॉड्स यूनिवर्सिटी की बहनें दुनिया के सभी हिस्सों में शांति लाने के लिए पूरी दुनिया में काम करती हैं. ब्रह्माकुमारी शांति का रास्ता तय करने का काम कर रही है. संसार के अंधकार को दूर करना आवश्यक है, अज्ञान के अंधकार के कारण संघर्ष है. उन्होंने कहा कि उन्हें इस संघर्ष को कम करने और शांति स्थापित करने का पवित्र कार्य करने पर गर्व है.”

दुनिया भर में हुए शोध और उत्खनन से कई सबूत सामने आए हैं. दुनिया की सबसे पुरानी सभ्यता भारतीय संस्कृति है. इसलिए भारत दुनिया को विचार दे सकता है. दुनिया भी भारत से यही उम्मीद करती है. इसलिए ब्रह्माकुमारी के माध्यम से देश और दुनिया में शांति बहाल करने का काम कई सालों से चल रहा है, आखिर में उन्होंने कहा कि हम उन्हें इस काम के लिए शुभकामनाएं देते हैं.

इस मौके पर पंजाब के राज्यपाल बनवारीलाल पुरोहित ने भी संबोधित किया. उन्होंने कहा कि ब्रह्माकुमारी के विचार बहुत पवित्र हैं और उनका काम दुनिया में शांति स्थापित करना है. उनके इस काम से भारत को विश्वगुरु बनाने का सपना जरूर पूरा होगा.

पुरोहित ने कहा, सादा और स्वच्छ जीवन भी भ्रष्टाचार को खत्म कर सकता है. उन्होंने विश्वास व्यक्त किया कि भारत की स्वतंत्रता के अमृत में, यदि प्रत्येक नागरिक सरल और शुद्ध जीवन शैली का पालन करता है, तो हमें विश्व गुरु बनने से कोई नहीं रोक सकता.

इस मौके पर पूर्व सांसद विजय दर्डा, अजय संचेती ने भी संबोधित किया. प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्वविद्यालय विदर्भ में 50 वर्षों से कार्य कर रहा है. वरिष्ठ राजा योगी शिक्षक रजनी दीदी के मार्गदर्शन में, नागपुर, विदर्भ के प्रमुख शहरों के हजारों राजा योगी शिक्षक और शिक्षक स्वर्ण जयंती कार्यक्रम के लिए जामथा के विश्व शांति सरोवर में एकत्रित हुए.

NO COMMENTS