जाकिर नाईक के गुर्गे नरसंहार करना चाहते थे मुम्बेश्वर मंदिर में

0
1310
जाकिर नाइक

मुंबई : विवादित उपदेशक जाकिर नाइक से प्रेरित महाराष्ट्र से गिरफ्तार आतंकवादी मुंबई के मुम्बेश्वर मंदिर में नरसंहार की कथित योजना को अंजाम देने वाले थे. ये आतंकी आईएस से जुड़े एक आतंकी समूह ‘उम्मत-ए- मोहम्मदिया’ के सदस्य थे. मुंबई का मुम्बेश्वर मंदिर करीब 400 साल पुराना है.

मुंबई की एक अदालत में दाखिल चार्जशीट में एटीएस ने यह जानकारी दी है. बताया है कि आतंकियों ने जाकिर नाइक की तक़रीर सुनकर मुंबई के एक मुम्बेश्वर मंदिर के प्रसाद में जहर मिलाने की योजना बनाई थी. आतंकी मंदिर में आने वाले भक्तों का नरसंहार करना चाहता था.

विस्फोटक और जहर बनाने का लिया था प्रशिक्षण
चार्जशीट में बताया गया है कि गिरफ्तार आतंकवादियों ने मंदिर के प्रसाद में जहर मिलाने की कोशिश की थी. इन लोगों ने विस्फोटक और जहर बनाने का भी प्रशिक्षण लिया था और ठाणे जिले में मुंब्रा बाईपास के नजदीक एक पहाड़ी पर विस्फोट का अभ्यास भी किया था. इन दस आतंकवादियों से पूछताछ में इस षडयंत्र की जानकारी सामने आई. इस दल में शामिल संदिग्ध तल्हा पोट्रिक ने महाराष्ट्र के प्रसिद्ध मुंब्रेश्वर मंदिर के महाप्रसाद में जहर मिलाने की साजिश रची थी. इस साजिश को दिसंबर में मंदिर के अंदर हुई श्रीमद भागवत कथा के दौरान अंजाम देने की कोशिश की गई थी, लेकिन दहशतगर्द इसमें सफल नहीं हो सके थे.

एटीएस ने पकड़े थे उम्मत-ए- मोहम्मदिया समूह के 10 गुर्गे
महाराष्ट्र आतंकवाद निरोधी स्क्वाड (एटीएस) ने उम्मत-ए- मोहम्मदिया समूह के 10 गुर्गों को इस साल जनवरी में राज्य के मुंब्रा और औरंगाबाद से गिरफ्तार किया था. आतंकी संगठन आईएस से उनके कथित तौर पर तार जुड़े हैं. उन्हें गिरफ्तार कर नरसंहार को अंजाम देने की उनकी योजना नाकाम

ताल्हा पोट्रिक ने की थी प्रसाद में जहर मिलाने की कोशिश
चार्जशीट के मुताबिक गिरफ्तार आरोपियों में शामिल ताल्हा पोट्रिक ने प्रसाद में जहर मिलाने की कोशिश की थी. एटीएस ने इस समूह के मुखिया के तौर पर अबू हमजा की पहचान की है. इसमें कहा गया है कि एटीएस ने आरोपियों की सोशल मीडिया प्रोफाइल पर नाइक की मौजूदगी वाले कई वीडियो और तस्वीरें पाई हैं. समूह के कुछ सदस्य विदेश स्थित अपने आकाओं से भी संपर्क में थे.

NO COMMENTS