आईएस की महिला एजेंट सेवाग्राम में गिरफ्तार

0
184
सेवाग्राम

रवि लाखे,
वर्धा :
राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने शनिवार के तड़के वर्धा में सेवाग्राम के निकट म्हसाला क्षेत्र में छापा मार कर एक आईएसआईएस गुर्गे अब्दुल बाशिद की पत्नी नेहमुदा बाशिद को उसके मायके से गिरफ्तार कर लिया है.

आईबी और नागपुर एटीएस भी कर रही पूछताछ
नेहमुदा को सेवाग्राम पुलिस थाने लाकर एनआईए ने उसके खिलाफ प्राथमिकी दर्ज कराई और इसके बाद सेवाग्राम पुलिस ने मामले की जांच शुरू कर दी है. इस बीच नेहमुदा की गिरफ्तारी की खबर मिलते ही गुप्तचर विभाग (आईबी) और नागपुर एटीएस (आतंकवाद निरोधी पथक) भी वर्धा पहुंच कर उससे पूछताछ में जुट गई है. सूत्रों ने बताया कि नेहमुदा से उसके संपर्कों के बारे में और पिछले तीन वर्षों तक उसके कहां-कहां होने के बारे में जानकारी ली जा रही है. सूत्रों के अनुसार वर्धा सहित एनआईए हैदराबाद में भी एक साथ तीन स्थानों पर छापा मार चुकी है.

पति भी 2016 से बंद है तिहाड़ जेल में
पुलिस सूत्रों के अनुसार इस महिला का पति अब्दुल बाशीद हैदराबाद का है. उसे 2016 में एनआईए ने गिरफ्तार किया था. फिलहाल वह दिल्ली के तिहाड़ जेल में बंद है. वह मुस्लिम युवकों को सोशल मीडिया के माध्यम से आईएसआईएस से जोड़ने का काम कर रहा था. उसका पाकिस्तान की आतंकवादी संगठन से भी सीधा संपर्क था. एनआईए ने उसके इस कार्य का सुराग मिलते ही 2016 में उसे गिरफ्तार कर लिया था.

पति की गिरफ्तारी के बाद ही हो गई थी भूमिगत
सूत्रों ने बताया कि पति की गिरफ्तारी के कुछ समय बाद ही नेहमुदा अचानक भूमिगत हो गई थी. यह पता चलते ही एनआईए सतर्क हो गई थी और नहमुदा की गतिविधियों का पता लगा रही थी. एनआईए को इस बात का पता चल गया था कि भूमिगत होकर वह अपने पति का काम ही आगे बढ़ाने में जुटी हुई है. इसी बीच आईएनए को पता चला कि गुरुवार को नेहमुदा हैदराबाद से नागपुर के लिए रवाना हुई है. वह शुक्रवार को वर्धा आकर अपने मायके सेवाग्राम के निकट म्हसाला पहुंच गई. इसके बाद शनिवार को एनआईए की टीम ने शनिवार की सुबह छापा मार कर अहलेसुबह उसे उसके मायके से गिरफ्तार कर लिया.

वर्धा में 10 वर्ष पहले भी सक्रीय था सिमी
सूत्रों ने बताया कि नेहमुदा और उसके पति अब्दुल बाशिद की रिश्तेदारी पाकिस्तान में भी है. गिरफ्तारी से पूर्व बाशिद पाकिस्तान के लोगों के सम्पर्क में भी था. उल्लेखनीय है कि 10 वर्ष पहले भी सिमी यहां वर्धा में इंडियन मुजाहिदी के लिए जिले में युवकों का एक बड़ा स्लीपर सेल तैयार करने में सफल रहा था.

NO COMMENTS