साध्वी प्रज्ञा को हर हप्ते अदालत में हाजिर होने का आदेश

- साध्वी प्रज्ञा समेत सभी आरोपी हफ्ते में कम से कम एक बार कोर्ट में हाजिर हों, मालेगांव धमाका मामले में एनआईए की विशेष अदालत ने दिया है आदेश. - - साध्वी प्रज्ञा फिलहाल महात्मा गांधी के हत्यारे नाथूराम गोडसे को देशभक्त बताने को लेकर भी विरोधियों और भाजपा नेताओं के निशाने पर हैं.

0
156
अदालत

मुंबई : मालेगांव धमाका मामले में एनआईए की विशेष अदालत ने साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर सहित सभी आरोपियों को हफ्ते में कम से कम एक बार अदालत में हाजिर होने का आदेश दिया है. साध्वी भोपाल लोकसभा क्षेत्र से भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की उम्मीदवार हैं.

इस मामले में साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर, लेफ्टिनेंट कर्नल प्रसाद पुरोहित और कुछ और लोग इस मामले में आरोपी हैं. अदालत ने इन आरोपियों के कोर्ट में हाजिर न होने पर नाखुशी जताई है. अब इस मामले में अगली सुनवाई सोमवार, 20 मई को होगी.

ज्ञातव्य है कि 8 सितंबर 2006 को महाराष्ट्र के नासिक जिले के मालेगांव कस्बे में सिलसिलेवार 4 बम धमाके हुए थे. इनमें 40 लोगों की मौत हो गई थी और करीब 125 लोग घायल हुए थे.

9 साल जेल में बिता चुकी हैं साध्वी प्रज्ञा
महाराष्ट्र आतंकवाद विरोधी दस्ते (एटीएस) ने जांच में पाया था कि धमाकों में साध्वी प्रज्ञा की मोटरसाइकिल का इस्तेमाल किया गया था. हालांकि, यह साबित नहीं पाया कि प्रज्ञा ने उस मोटरसाइकिल का कभी खुद के लिए इस्तेमाल किया. उनकी मोटरसाइकिल रामचंद्र कलासंघ्रा नाम का शख्स चला रहा था. एटीएस ने शुरुआती जांच में 13 लोगों के खिलाफ मामला दर्ज कर 9 लोगों को गिरफ्तार किया था. साध्वी प्रज्ञा भी इस मामले में 9 साल जेल में बिता चुकी हैं.

दूसरी बार भाजपा की करा चुकी हैं किरकिरी
हालांकि भाजपा ने साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर को इस मामले में पाक-साफ मानकर भोपाल लोकसभा क्षेत्र से अपना उम्मीदवार बनाया है, लेकिन साध्वी के बयानों से वह खासी परेशान भी है. नामांकन दाखिल करते ही साध्वी ने मुंबई एटीएस के पूर्व प्रमुख और मुंबई में आतंकवादी हमले में शहीद हुए स्व. हेमंत करकरे पर विवादास्पद टिप्पणी कर पहले ही भाजपा को विपक्ष के निशाने पर ले आई थी, इस बार महात्मा गांधी के हत्यारे को देशभक्त बता कर एक बार फिर भाजपा की किरकिरी करा रही हैं.

प्रधानमंत्री ने जताई नाराजगी, कहा- माफ नहीं करेंगे
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा है कि वह महात्मा गांधी का अपमान करने वाले बयान के लिए कभी भी प्रज्ञा ठाकुर को माफ नहीं करेंगे. पीएम मोदी ने यह बात शुक्रवार को एक न्यूज चैनल से इंटरव्यू के दौरान कही. मोदी ने कहा, ‘मैं बापू का अपमान करने के लिए कभी भी साध्वी प्रज्ञा को माफ नहीं कर सकूंगा.’

भाजपा के ट्विटर हैंडल से भी मोदी के एक बयान को ट्वीट किया गया. पीएम ने कहा, ‘गांधीजी या गोडसे के बारे में जो बयान दिए गए हैं वो बहुत ख़राब हैं और समाज के लिए बहुत गलत हैं. यह अलग बात है कि उन्होंने माफ़ी मांग ली, लेकिन मैं उन्हें मन से कभी माफ नहीं कर पाऊंगा.’

राहुल गांधी ने कसा तंज
साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर के इसी बयान पर अब कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने ट्वीट कर भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) और संघ (आरएसएस) पर तंज कसते हुए निशाना साधा है. राहुल गांधी ने कहा, अब में आखिरकर समझ गया हूं कि भाजपा और आरएसएस गॉड-के (God-Ke) के लवर्स नहीं हैं. बल्कि ये लोग गॉड-से (God-Se) लवर्स हैं.

सीईओ ने भेजी निर्वाचन आयोग को रिपोर्ट
मध्यप्रदेश के मुख्य निर्वाचन अधिकारी ने लोकसभा चुनाव में भोपाल से भाजपा उम्मीदवार साध्वी प्रज्ञा ठाकुर के नाथूराम गोडसे पर दियेए बयान पर अपनी रिपोर्ट निर्वाचन आयोग को भेज दी है. साध्वी ने बृहस्पतिवार को महात्मा गांधी के हत्यारे नाथूराम गोडसे को ‘देशभक्त’ बताया था, हालांकि बाद में उन्होंने अपने बयान पर माफी भी मांग ली थी. प्रदेश के मुख्य निर्वाचन अधिकारी (सीईओ) वी.एल. कांताराव से प्रज्ञा के बयान के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा, ‘‘हमने इस संबंध में निर्वाचन आयोग को रिपोर्ट भेज दी है.’’

रिपोर्ट के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा, “निर्वाचन आयोग द्वारा इस पर कोई निर्णय लिये जाने के बाद हम जानकारी देगें.” इससे पहले, सीईओ ने आगर मालवा जिले के जिला निर्वाचन अधिकारी से प्रज्ञा ठाकुर के बयान पर रिपोर्ट तलब की थी. देवास लोकसभा सीट पर 19 मई को होने वाले चुनाव के लिए पार्टी प्रत्याशी महेन्द्र सोलंकी के समर्थन में आगर मालवा में रोड शो कर रही प्रज्ञा ने बृहस्पतिवार को एक सवाल के जवाब में स्थानीय न्यूज चैनल से कहा था, “नाथूराम गोडसे देशभक्त थे, हैं और रहेंगे.”

NO COMMENTS